Since: 23-09-2009

  Latest News :
हमारे बहादुर सैनिकों की आक्रामक क्षमताओं को संभालता है योग : रक्षा मंत्री.   नीट की काउंसलिंग पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का फिर इनकार.   तमिलनाडु जहरीली शराबकांडः बढ़ रही है मरने वालों की संख्या.   योग के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ी: मोदी.   एनईईटी पेपर लीक मामले में राहुल गांधी केंद्र सरकार पर हुए हमलावार.   ओबीसी आरक्षण को किसी भी कीमत पर नुकसान नहीं होने देंगे : मुख्यमंत्री शिंदे.   मप्र के तीर्थ यात्रियों की बस उत्तराखंड में गंगोत्री नेशनल हाईवे पर पलटी.   अंतर्राष्ट्रीय योग एवं विश्व संगीत दिवस की शुभकामनाएं .   इंदौर एयरपोर्ट को मिली बम से उड़ाने की धमकी.   मुख्यमंत्री निवास में सीएम ने बच्चों के साथ किया योग.   रीवा में एनएसयूआई कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा.   ग्वालियर में तीन मंजिला मकान में आग लगी पिता और दो बेटियां जिंदा जले.   योग की प्राचीन परंपरा हम सभी को स्वस्थ जीवन पद्धति से जोड़ती है : मुख्यमंत्री साय.   जिला खनिज जांच दल ने अवैध गौण खनिज परिवहन कर रहे सात वाहन पकड़े.   योग अब वैश्विक संस्कृति का हिस्सा बन गई है : राज्यपाल हरिचंदन.   साइंस कॉलेज मैदान में 35 हजार लोगों ने एक साथ किया योग.   ग्रीन दुर्ग अभियान अंतर्गत वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुभारंभ.   संत कबीर की जयंती पर परीक्षा का आयोजन अनुचित : नेता प्रतिपक्ष.  
भारत का 'आदित्य-एल1' लक्ष्य की ओर रवाना
new delhi, India

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने देश के पहले सूर्य मिशन 'आदित्य-एल1' को शनिवार को निर्धारित समय पर प्रक्षेपित कर दिया। इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पूर्वाह्न 11.50 बजे पीएसएलवी-सी57 के जरिए प्रक्षेपित किया गया। इसरो ने प्रक्षेपण को सफल बताया है।

'आदित्य-एल1' सूर्य परिमंडल के दूरस्थ अवलोकन और पृथ्वी से लगभग 15 लाख किलोमीटर दूर 'एल1' (सूर्य-पृथ्वी लैग्रेंजियन बिंदु) पर सौर हवा का वास्तविक अवलोकन करेगा। 'आदित्य एल1' सूर्य का अध्ययन करने वाला पहला अंतरिक्ष यान है। आदित्य-एल1 के 125 दिन में लगभग 15 लाख किलोमीटर की दूरी तय कर लैग्रेंजियन बिंदु 'एल1' के आसपास हेलो कक्षा में स्थापित होने की उम्मीद है। यह 125 दिन तीन जनवरी 2024 को पूरे होंगे। अगर यह मिशन सफल रहा और आदित्य स्पेसक्राफ्ट लैग्रेंजियन प्वाइंट-1 पर पहुंच गया, तो नए साल में इसरो के नाम ये बड़ी उपलब्धि होगी।

इस मिशन का मुख्य उद्देश्य सौर वातावरण में गतिशीलता, सूर्य के परिमंडल की गर्मी, सूर्य की सतह पर सौर भूकंप या कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई), सूर्य के धधकने संबंधी गतिविधियों और उनकी विशेषताओं के अलावा पृथ्वी के करीब अंतरिक्ष में मौसम संबंधी समस्याओं को समझना है।

'आदित्य-एल1' के साथ सात पेलोड हैं। इनमें से चार सूर्य के प्रकाश का निरीक्षण करेंगे। इसरो ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-3 की सॉफ्ट लैंडिंग में मिली कामयाबी के बाद इस मिशन का आगाज किया है। इसरो के मुताबिक आदित्य-एल1 सूर्य के एल-1 प्वांइट पर जा कर किरणों के साथ सूर्य की तस्वीरें लेगा। आदित्य-एल1 अपनी कक्षा में पहुंचने पर जांच के लिए हर दिन करीब 1440 तस्वीरें ग्राउंड स्टेशन पर भेजेगा।

क्या है एल-1

लैगरेंज प्वाइंट का नाम इतालवी-फ्रेंच गणितज्ञ जे. लुई लैगरेंज के नाम पर रखा गया है। इसे बोलचाल में एल-1 नाम से जाना जाता है। ऐसे पांच प्वाइंट धरती और सूर्य के बीच हैं, जहां सूर्य और पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल संतुलित हो जाता है। इस जगह पर अगर किसी वस्तु को रखा जाता है तो वह आसानी से दोनों के बीच स्थिर रहता है और एनर्जी भी कम लगती है। पहला लैगरेंज प्वाइंट धरती और सूर्य के बीच 15 लाख किमी की दूरी पर स्थित है।

MadhyaBharat 2 September 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.