Since: 23-09-2009

  Latest News :
मणिपुर में 3.5 तीव्रता का भूकंप.   दार्जिलिंग में लिकुवीर के पास एनएच-10 बंद.   जम्मू-कश्मीर से आतंकवाद के सफाये के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी सरकार: केन्द्रीय गृह मंत्री शाह .   बाबा के जयकारों से गूंज उठा कैंची धाम.   नार्काे-आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़.   गाजियाबाद के लोनी स्थित पॉलिथीन बनाने की फैक्टरी में भीषण आग.   पिता परिवार की नींव, हमारी बुनियाद हैं .   जल गंगा संवर्धन अभियान को मिला अपार जनसहयोग : मुख्यमंत्री डॉ यादव.   दाऊदी बोहरा समाज ने मनाया ईद का पर्व, मस्जिदों में हुई विशेष नमाज.   एक साथ कॉम्बिंग पर निकले 15 हजार से अधिक पुलिसकर्मी.   कांग्रेस आउट सोर्स प्रकोष्ट का सरकार के खिलाफ हल्लाबोल आंदोलन.   ऐतिहासिक भोजशाला में 85वें दिन भी जारी रहा एएसआई का सर्वे.   भीम रेजीमेंट के रायपुर संभाग का अध्यक्ष जीवराखन बांधे गिरफ्तार.   कांग्रेस व भाजपा ने सतनामियों को सिर्फ प्रताड़ित किया : अमित जोगी.   संघर्ष के दिनों की यादें साथ लेकर मुख्यमंत्री से मिलने आए जशपुर के अनेर सिंह.   नक्सल मुठभेड़ में घायल जवान ने कहा ठीक होते ही और मारूंगा.   मुख्यमंत्री साय ने तीसरे दिन भी ली विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक.   बलौदाबाजार हिंसा पर जस्टिस गौतम भादुड़ी ने लिया स्वतः संज्ञान.  
हिंदू संगठन का दावा- दर्शन देने के लिए प्रकट हुईं मां वाग्देवी
dhar,Hindu organization , Mother  give darshan

धार/भोपाल। मध्य प्रदेश के धार जिला मुख्यालय पर स्थित हिंदुओं की आस्था का केंद्र ऐतिहासिक भोजशाला एक बार फिर चर्चा में है। रविवार को सुबह सोशल मीडिया पर फोटो और वीडियो वायरल हुए हैं, जिसमें भोजशाला में गर्भगृह वाले स्थान पर पाषाण की मां वाग्देवी सरस्वती की प्रतिमा रखी हुई दिखाई दी। इसके बाद हिंदू संगठन के लोग सक्रिय हुए और भोजशाला पहुंच गए। इधर, सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस बल और आला अधिकारी भी भोजशाला पहुंचे, लेकिन तब तक वहां से मूर्ति हटा दी गई थी।

 

 

 

हिंदू संगठन का आरोप है कि पुलिस द्वारा प्रतिमा हटाई गई है। हिंदू संगठन ने दावा किया कि मां सरस्वती यहां पर भक्तों को दर्शन देने के लिए प्रकट हुई थीं। वहीं, पुलिस प्रशासन ने अपना पक्ष स्पष्ट किया है।

 

पुलिस ने कहा कि भारतीय पुरातत्व विभाग के अधीन स्थित भोजशाला परिसर के बाहर लगी तार फेंसिंग को अज्ञात सामाजिक तत्वों द्वारा रात्रि में काट दिया गया था। स्मारक में मूर्ति रखने का प्रयास किया गया है। हालांकि, जिन लोगों ने ऐसा करने की कोशिश की, उनके बारे में अब तक कुछ पता नहीं चला है।

 

 

 

धार के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. इंद्रजीत बाकलवार ने बताया कि ऐसा कृत्य करने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। पुरातत्व विभाग की रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई करेंगे। भोजशाला के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारी फैलाने वाले लोगों पर भी पुलिस की कड़ी नजर है। फिलहाल शहर में शांति कायम है।

 

 

 

गौरतलब है कि धार की ऐतिहासिक भोजशाला में बसंत पंचमी पर मां वाग्देवी यानी सरस्वती की पूजा होती है, लेकिन मुस्लिम इसे मस्जिद मानते हैं। इसीलिए बसंत पंचमी पर यहां अकसर विवाद होते रहे हैं। हालांकि, कुछ वर्षों से यहां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा एक आदेश जारी कर रखा है। इसके तहत प्रति मंगलवार को हिंदू समाज को पूजा अर्चना करने की अनुमति है, जबकि शुक्रवार को यहां नमाज अदा की जाती है। शेष सप्ताह के पांच दिन भोजशाला पर्यटकों के लिए खुली रहती है। यहां पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहती है। बाहर पुलिस चौकी भी बनाई गई है। सीसीटीवी कैमरे लगा रखे हैं।

 

 

 

हिंदू संगठन भोजशाला सत्याग्रही गोपाल शर्मा ने बताया कि हमें इस बात की जानकारी मिली कि मां सरस्वती की प्रतिमा गर्भगृह में रखी गई है। यह किसने रखी है, हमें नहीं मालूम, लेकिन हमारे धर्म में मान्यता है कि प्रतिमाएं स्वयं प्रकट होती हैं। यदि किसी ने रखी भी है तो उसने अच्छी पहल की है। हम लगातार कई सालों से केवल आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन उसका हमें कोई नतीजा नहीं मिल रहा।

 

भाजपा नेता अशोक जैन ने कहा कि गर्भ गृह से प्रतिमा नहीं हटाई जानी चाहिए थी। वह स्वयं प्रकट हुई है। ऐसे में हम प्रशासन और पुलिस से यह मांग करते हैं कि वह तत्काल ही प्रतिमा को वापस रखा जाए। ऐसा नहीं होने पर हम आंदोलन करेंगे।

MadhyaBharat 10 September 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.