Since: 23-09-2009

  Latest News :
प्रधानमंत्री मोदी की भाजपा को चंदा देने की अपील.   झारखंड में विदेशी महिला के साथ गैंगरेप के मामले में तीन गिरफ्तार.   अब 6 मार्च को दिल्ली कूच करेंगे किसान.   पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने की राजनीति से संन्यास की घोषणा.   आसनसोल से चुनाव नहीं लड़ेंगे पवन सिंह.   गौतम गंभीर के बाद अब जयंत सिन्हा ने चुनाव लड़ने से किया इनकार.   रुद्राक्ष महोत्सव में शामिल होंगे अनेक वीआईपी.   भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से सीखें जीने की राह: मुख्यमंत्री डॉ यादव.   मप्र में बेमौसम बारिश का सिलसिला जारी.   भारत जोड़ो न्याय यात्रा बीच में ही छोड़कर पटना रवाना हुए राहुल गांधी.   हरदा पटाखा फैक्ट्री विस्फोट मामले में आठवां आरोपी गिरफ्तार.   देश में सामाजिक व आर्थिक अन्याय रोकना जरूरी: राहुल गांधी.   मुख्यमंत्री ने बच्चों को दवा पिलाकर पल्स पोलियो अभियान का किया शुभारंभ.   मुख्यमंत्री साय ने जशपुर जिले में दो थाना चौकी का शुभारंभ किया.   अभिनेत्री महिमा चौधरी ने मैराथन दौड़ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना.   कांग्रेस और नक्सलियों के बीच सांठ-गांठ : महेश गागड़ा.   उरपालपारा के जंगल में बनाये गये नक्सली स्मारक को जवानों ने किया ध्वस्त.   महिला कांग्रेस की शहर अध्यक्ष सरला तिवारी ने किया भाजपा प्रवेश.  
वैदिक के साथ ही राष्ट्र चेतना के भी ऋषि थे स्वामी दयानंद : प्रधानमंत्री
new delhi, Swami Dayanand ,Prime Minister

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को स्वामी दयानंद सरस्वती की जयंती पर आयोजित समारोह में एक वीडियो संदेश में कहा कि गुलामी के कालखंड में उन्होंने सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार किया और जनमानस को वेद और आध्यात्म से जोड़ा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अंग्रेजों ने सामाजिक कुरीतियों को मोहरा बनाकर हमें नीचा दिखाने की कोशिश की। सामाजिक बदलाव को हवाला देकर अंग्रेजी राज को कुछ लोगों ने सही ठहराने की कोशिश की। ऐसे समय में स्वामी दयानंद के प्रयासों से इन सभी साजिशों को गहरा धक्का लगा। आर्य समाज से प्रभावित लाला लाजपत राय, राम प्रसाद बिस्मिल और स्वामी श्रद्धानंद जैसी क्रांतिकारियों की पूरी शृंखला तैयार हुई। ऐसे में कहा जा सकता है कि स्वामी दयानंद सरस्वती केवल एक वैदिक ऋषि ही नहीं बल्कि राष्ट्र चेतना के ऋषि थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आर्य समाज की ओर से चलाए जा रहे शिक्षा संस्थान और इसमें पढ़ने वाले विद्यार्थी एक बड़ी शक्ति है। यह सब एक बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। सामाजिक कार्यों से जुड़ने के लिए भारत सरकार के नवगठित युवा संगठन की शक्ति भी है। उनका आग्रह है कि दयानंद सरस्वती के सभी अनुयायी डीएवी शैक्षिक नेटवर्क के सभी विद्यार्थियों को मायभारत से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करें।

उन्होंने कहा कि महर्षि दयानंद ने अपने दौर में महिलाओं के अधिकारों और उनकी भागीदारी की बात की थी। नई नीतियों के जरिए ईमानदार कोशिशों के जरिए देश आज अपनी बेटियों को आगे बढ़ा रहा है। कुछ महीने पहले ही देश ने 'नारी शक्ति वंदन अभिनियम' पास करके लोकसभा और विधानसभा में महिला आरक्षण सुनिश्चित किया है। देश के इन प्रयासों से जन-जन को जोड़ना ही आज महर्षि को हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

MadhyaBharat 11 February 2024

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.