Since: 23-09-2009

  Latest News :
कांग्रेस की सरकार घोटालों की सरकार: जेपी नड्डा.   यह चुनाव संविधान और आरक्षण बचाने की लड़ाई है : मल्लिकार्जुन खड़गे.   इंडी गठबंधन वालों को भारत का गौरव हजम नहीं होता : नरेन्द्र मोदी.   पुणे हिट एंड रन मामले में नाबालिग लड़के के पिता सहित तीन गिरफ्तार.   मनीष सिसोदिया की न्यायिक हिरासत 31 मई तक बढ़ी.   एटीएस ने अहमदाबाद हवाईअड्डे से 4 आतंकी पकड़े.   नौवीं की छात्रा से दुष्कर्म के मामले में तीन आरोपित गिरफ्तार.   मध्यप्रदेश भीषण गर्मी की चपेट में 25 मई तक लू का अलर्ट.   नशे की हालत और वर्दी के अहंकार में चूर टीआई ने फोड़े गाड़ियों के कांच.   भाजपा विधायक के पोते ने जहरीला पदार्थ खाकर की आत्महत्या.   ओवर ब्रिज से गिरी यात्री बस दो की मौत.   मालवा एक्सप्रेस में पेंट्रीकार के स्टाफ और यात्रियों के बीच विवाद में चले चाकू.   चरित्र शंका पर पत्नी और बेटी की हत्या.   वन विभाग ने बाघों को ट्रैक करने जंगलों में लगाया कैमरा.   बारहवीं में टॉप नहीं आने पर दुखी छात्रा ने की खुदकुशी.   19 लोगों के शवों का नम आंखों से हुआ अंतिम संस्कार.   हार्डकोर इनामी सहित दस नक्सलियों को सशस्त्र बलों ने किया गिरफ्तार.   कोयला लोड मालगाड़ी की कुछ बोगी पटरी से उतरी.  
इस साल भारत में 'सामान्य से अधिक' मानसून रहने की संभावना
new delhi, India likely, normal

नई दिल्ली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को कहा कि इस साल भारत में 'सामान्य से अधिक' मानसून रहने की संभावना है। सोमवार को भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने देश में इस साल होने वाले मानसून का पूर्वानुमान जारी करते हुए बताया कि इस बार सीजन की कुल बारिश 87 सेंटीमीटर औसत के साथ 106 प्रतिशत रहने की संभावना है।

मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि 1971 से 2020 तक के वर्षा के आंकड़ों के अध्ययन में हमने नई दीर्घकालिक औसत और सामान्य शुरुआत की है। इसके अनुसार, 1 जून से 30 सितंबर तक पूरे देश की कुल वर्षा का औसत 87 सेमी होगा। भारत में अच्छे मानसून से जुड़ी ला नीना की स्थिति अगस्त-सितंबर के बीच विकसित होगी।

महापात्रा ने कहा कि विश्लेषण से पता चला है कि 22 ला नीना वर्षों में, 1974 और 2000 को छोड़कर अधिकांश वर्षों में सामान्य या सामान्य से अधिक मानसून दर्ज किया गया था, जब सामान्य से कम बारिश दर्ज की गई थी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में, भूमध्यरेखीय प्रशांत क्षेत्र पर अल नीनो की मध्यम स्थिति बनी हुई है। पूर्वानुमान से संकेत मिलता है कि मानसून ऋतु के शुरुआती भाग के दौरान अल नीनो की स्थिति और कमजोर होकर तटस्थ ईएनएसओ स्थितियों में परिवर्तित होने की संभावना है और इसके बाद मानसून ऋतु के दूसरे भाग में ला नीना स्थितियां विकसित होने की संभावना है।

विभाग के अनुसार पिछले तीन महीनों (जनवरी से मार्च 2024) के दौरान उत्तरी गोलार्ध में बर्फ की आवरण सीमा सामान्य से कम थी। उत्तरी गोलार्ध के साथ-साथ यूरेशिया में सर्दियों और बसंत में बर्फ की आवरण सीमा का आगामी भारतीय ग्रीष्मकालीन मानसून वर्षा के साथ सामान्यतः विपरीत संबंध है।

MadhyaBharat 15 April 2024

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.