Since: 23-09-2009

  Latest News :
बिहार के किशनगंज में स्कॉर्पियो और डंपर की टक्कर में पांच की मौत.   वायु सेना के एयर शो में आसमानी करतब.   कांग्रेस नेता गौरव गोगोई लोकसभा में होंगे पार्टी के उप नेता.   चुनावी रैली के दौरान अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रम्प पर गोलियां चलाई गई.   जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों ने उप राज्यपाल को अधिक अधिकार देने का किया विरोध.   शादी के बंधन में बंधे अनंत-राधिका.   नर्मदापुरम के प्राइवेट स्कूलों पर भी शिक्षा विभाग सख्‍त.   चलती कार पर पत्थर मारकर रिटायर्ड नर्स की हत्या.    दाे ट्रकों में आमने सामने की भिड़ंत के बाद लगी भीषण आग.   वाणिज्यिक कर कार्यालय की दूसरी मंजिल में लगी आग.   इंदौर की पहचान एक पेड़ मां के नाम.   कैबिनेट मंत्री गाेविंद सिंह राजपूत और अर्जुन अवार्डी खिलाड़ी दीपा मलिक ने किए बाबा महाकाल के दर्शन.   जनजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य शिविर लगाएं : मुख्यमंत्री साय.   छत्तीसगढ़ में अब तक 248.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज.   गर्भवती महिला को तीन किमी कांवर में उठाकर पहुंचाया अस्पताल.   प्रवेश सूची में नाम देखने पहुंचे विद्यार्थी.   चरणपादुका पाकर खिले कमार बच्चों के चेहरे.   छत्तीसगढ़ में सात महीनों के भीतर अपराध में काफी कमी आई.  
मप्र हाई कोर्ट ने ऐतिहासिक भोजशाला को जैन मंदिर बताने वाली याचिका खारिज की
indore, Madhya Pradesh ,historical Bhojshala

इंदौर। मध्य प्रदेश के धार में स्थित ऐतिहासिक भोजशाला को जैन मंदिर बताने वाली याचिका को हाई कोर्ट ने खारिज कर दी है। मप्र हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ ने शुक्रवार को याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि यह याचिका निर्धारित प्रारूप में नहीं है। ऐसे में इस पर आगे सुनवाई नहीं की जा सकती। कोर्ट ने याचिकाकर्ता से यह जरूर कहा है कि वे चाहे तो निर्धारित प्रारूप में दोबारा याचिका प्रस्तुत कर सकते हैं।

 

दरअसल, भोजशाला पर जेल समाज का दावा करते हुए मप्र हाई कोर्ट की इंदौर खंडपीठ के समक्ष यह याचिका नई दिल्ली निवासी सलेक चंद जैन ने दायर की थी। याचिका में दावा किया गया था कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा धार भोजशाला के किए गए सर्वे में जैन तीर्थंकर और देवी-देवताओं की मूर्तियां मिली हैं। इस बात के प्रमाण भी मिले हैं कि भोजशाला स्थल पर जैन गुरुकुल और मंदिर था। याचिका में भोजशाला में खुदाई में मिली जैन तीर्थंकर और देवी-देवताओं की मूर्तियों को जैन समाज को सौंपने की मांग भी की गई थी।

शुक्रवार को न्यायमूर्ति प्रणय वर्मा की एकलपीठ के समक्ष इस पर सुनवाई हुई। करीब दो मिनट चली सुनवाई में कोर्ट ने याचिका देखने के बाद कहा कि यह निर्धारित प्रारूप में नहीं है। इसमें याचिका प्रस्तुत करने में हुई देरी की वजह भी स्पष्ट नहीं है। ऐसी स्थिति में याचिका पर आगे सुनवाई नहीं की जा सकती। याचिकाकर्ता चाहें तो निर्धारित प्रारूप में नई याचिका दायर कर सकते हैं। उसमें उन्हें यह भी बताना होगा कि याचिका प्रस्तुत करने में देरी क्यों हुई है।

MadhyaBharat 5 July 2024

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.