Since: 23-09-2009

  Latest News :
विवादित प्रशिक्षु आईएएस पूजा खेडकर की मां मनोरमा खेडकर गिरफ्तार.   पश्चिम बंगाल में मुहर्रम पर लहराया गया फिलिस्तीन का झंडा.   केरन सेक्टर की नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ नाकाम मार गिराए गए दो आतंकवादी.   सीबीआई ने नीट-यूजी पेपर लीक केस में एम्स के तीन मेडिकल छात्रों को हिरासत में लिया.   जेपी नड्डा ने देशव्यापी अभियान \'एक पेड़ मां के नाम\' के अंतर्गत लगाया पौधा.   सिक्किम के लापता पूर्व मंत्री रामचंद्र पौड्याल का शव बांग्लादेश में मिला.   सिंगराैली हत्याकांड मामले ने पकड़ा तूल.   एक बार फिर अपने ट्वीट से सुर्खियों में IAS नियाज खान.   भोपाल में तेज बारिश से सड़कें बनी तालाब.   अधारताल इंडस्ट्रियल एरिया में कबाड़ गोदाम में विस्फोट.   मंत्री राधा सिंह पर आरोप.   मुख्यमंत्री से नहीं संभल रहे 2 पद.   आईईडी ब्लाॅस्ट में दाे जवानों के बलिदान हाेने पर सीएम साय ने जताया दुख.   डायरिया से किशोर व दो बुजुर्ग सहित तीन की मौत मचा हड़कंप.   तेज रफ्तार कार फ्लाईओवर से 30 फीट नीचे गिरी.   सर्प दंश से आदिवासी समाज के सगे भाई-बहन की मौत.   बिलासपुर में मिला कोरोना पॉजिटिव मरीज.   छत्तीसगढ़ में नक्सल प्रभावित बीजापुर में आईईडी ब्लास्ट दो जवान शहीद.  
सिकल सेल रोग के लिए उचित आयुष औषधियों को करें चिन्हितः राज्यपाल पटेल
bhopal,Identify appropriate, AYUSH medicines

भोपाल। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि आयुष विभाग सिकल सेल एनीमिया उन्मूलन मिशन के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए कार्य योजना तैयार करें। अभियान की गतिविधियों के लिए आवश्यक वित्तीय बजट का प्रावधान करें। 

 

राज्यपाल पटेल गुरुवार को राजभवन में आयुष विभाग की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सिकल सेल रोग उन्मूलन के प्रयासों में आयुष विभाग की प्रभावी भूमिका की व्यापक सम्भावनाएं हैं। प्रदेश में विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक औषधियों की प्रचुर मात्रा उपलब्ध है। जनजातीय समुदाय के रूप में पारंपरिक चिकित्सा ज्ञान का समृद्ध भंडार मौजूद है। आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के साथ इसे समायोजित किए जाने की आवश्यकता है। 

 

राज्यपाल ने विभाग को निर्देशित किया कि जनजातीय बहुल इलाकों में शिविर लगाकर आयुर्वेद आधारित पारंपरिक चिकित्सा ज्ञान के विशेषज्ञों के साथ सिकल सेल उपचार संबंधी जानकारियों को साझा करें। उनके अनुभवों और ज्ञान को संयोजित करें। सिकल सेल रोग के लिए उचित आयुष औषधियों को चिन्हित करें।

 

मंत्री आयुष इंदर सिंह परमार ने बैठक में बताया कि विभाग द्वारा समेकित चिकित्सा की कार्य योजना तैयार की है। अन्य चिकित्सा पद्धतियों के साथ सामंजस्य के साथ रोग निदान प्रयासों में सहयोग किया जा रहा है। आयुष औषधियों की मेडिकल किट तैयार की गई है जिन रोगों के लिए एलोपैथी चिकित्सा पद्धति में उपचार औषधि उपलब्ध नहीं है। 

 

उन्होंने बताया कि विशेष रूप से वंचित जनजातीय समूह  (PVTG) विकास खंडों में राष्ट्रीय  आयुष मिशन अंतर्गत आयुष मोबाइल युनिट गठित किया जाना प्रस्तावित है। प्रथम चरण में मंडला, बालाघाट में बैहर, डिंडोरी, अनूपपुर में पुष्पराजगढ़, शहडोल, उमरिया, श्योपुर, शिवपुरी, गुना, छिंदवाड़ा में तामिया और ग्वालियर के डबरा में स्थापित की जाएगी।

 

जनजाति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष दीपक खांडेकर ने बताया कि प्रदेश में सिकल सेल एनीमिया रोग की स्क्रीनिंग का कार्य तेज गति से प्रगतिरत हैं। अभी तक 55 लाख लक्षित आबादी की स्क्रीनिंग हो चुकी है। स्क्रीनिंग के दौरान 1 लाख 50 हजार रोगी अथवा वाहक चिन्हित किए गए हैं।

 

बैठक में राज्यपाल के प्रमुख सचिव मुकेश चन्द गुप्ता, प्रमुख सचिव आयुष अनिरुद्ध मुखर्जी, राज्यपाल के अपर सचिव उमाशंकर भार्गव एवं अन्य वरिष्ठ विभागीय अधिकारी एवं जनजाति प्रकोष्ठ के सदस्य मौजूद रहे।

MadhyaBharat 11 July 2024

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.