Since: 23-09-2009

  Latest News :
जेपी नड्डा ने देशव्यापी अभियान \'एक पेड़ मां के नाम\' के अंतर्गत लगाया पौधा.   सिक्किम के लापता पूर्व मंत्री रामचंद्र पौड्याल का शव बांग्लादेश में मिला.   ओमान में बंदरगाह पर तेल टैंकर पलटा.   केजरीवाल पर हाई कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला.   डोडा में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी.   अजीत पवार गुट के 4 नेता और 24 पदाधिकारी शरद पवार के साथ आए.   मंत्री राधा सिंह पर आरोप.   मुख्यमंत्री से नहीं संभल रहे 2 पद.   महिला ने दवा के धाेखे में खाया सल्फास ईलाज के दाैरान माैत.   जीतू पर आराेप लगाने वाले कांग्रेस नेता अब भी अपनी बात पर कायम.   मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने घायल बाघ शावकों की जीवन रक्षा के प्रयास की सराहना की.   खदान में डूबने से दो नाबालिग बच्चों की मौत.   उप मुख्यमंत्री अरुण साव छत्तीसगढ़ सराफा एसोशिएशन के शपथ ग्रहण समारोह में हुए शामिल.   रेलवे ट्रैक में एक अज्ञात महिला का शव टुकड़ों में पड़ा मिला.   कांग्रेस तथ्य और वस्तु स्थिति जाने बिना भ्रम फैलाने का काम करती है : साव.   ट्रक व बस में भीषण भिड़ंत.   मुख्यमंत्री साय विशेष विमान से दिल्ली रवाना.   बीमारी से परेशान प्रधान अध्यापक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.  
फिर एक पुल भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ा
फिर एक पुल भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ा

 

बेगमगंज-हैदरगढ़ मार्ग का पुल धस गया

 

बेगमगंज तहसील के बीना नदी पर बेगमगंज-हैदरगढ़ मार्ग ईदगाह के करीब बनाया गया पुल पहली ही बारिश में धस गया। निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की एक और गाथा सामने आई है। ब्रिज कारपोरेशन द्वारा ठेकेदार के माध्यम से तैयार कराए जा रहे करीब ढाई करोड़ रुपये की लागत के इस पुल का निर्माण हुआ था। लेकिन  पहले ही पुल का एक हिस्सा तीन फीट तक धसक गया । रायसेन और विदिशा जिले के करीब दो दर्जन ग्रामों के लोगों को आशा थी की बीना नदी के माला घाट पर बनने वाला यह पुल आवागमन में सुविधा होगी।  लेकिन  पुल के एक हिस्से के धसकने से आवागमन पूरी तरह से बंद हो गया है। यहां दोपहिया वाहन तक किसी भी तरह से नहीं निकल पाएंगे। लोग जोखिम लेकर पैदल वहां से निकलने का प्रयास कर रहे हैं। पहली बारिश में ही पुल के धसकने से स्‍पष्‍ट है कि निर्माण में जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। आपको बता दें पहले पुल की लागत करीब ढेड़ करोड़ रुपये थी।  लेकिन बीना बांध के डूब क्षेत्र के सर्वे के उपरांत इस पुल की ऊंचाई को बढ़ाया गया। ताकि आवागमन में किसी तरह का व्यवधान पैदा ना हो। ऊंचाई बढ़ाने के बाद लागत ढाई करोड़ पहुंच गई। ब्रिज कारपोरेशन द्वारा बनवाए जा रहे इस पुल का ठेका आदित्य कंस्ट्रक्शन कंपनी गुजरात के लिए दिया गया था। जिसने पेटी कांटेक्ट पर बेगमगंज के एक नेता को ठेका दे दिया। निर्माण पूरा होने के बाद ठेकेदार द्वारा अभी वर्षा से पूर्व ही अपना सामान यहां से उठाकर ले जाया गया है। पुल अभी विभाग को हस्तांतरित नहीं हो पाया और यह स्थिति निर्मित हो गई है। अब यह स्पष्ट हो गया है कि जिस तरह भोपाल में मंडीदीप में बना पुल भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ा था उसी तरह ठेकेदारों और प्रशासन की मिलीभगत से यह निर्माण भी भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ता दिखाई दे रहा है।  

MadhyaBharat 16 August 2022

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.