Since: 23-09-2009

  Latest News :
ईरानी यात्री जेट विमान में बम की धमकी के बाद भारतीय वायु सेना अलर्ट .   सरकार देशभर में 5जी प्रौद्योगिकी के लिए सौ प्रयोगशालाएं स्‍थापित करेगी.   स्‍वदेश में निर्मित हल्‍के लड़ाकू हेलीकॉप्‍टर औपचारिक रूप से भारतीय वायु सेना में शामिल.   घरेलू आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए देश में अनाज का पर्याप्‍त भण्‍डार.   इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान भगदड़ में 174 लोगों की मौत.   राष्‍ट्रपति ने 2022 के स्‍वच्‍छ ग्रामीण सर्वेक्षण पुरस्‍कार प्रदान किये.   मध्यप्रदेश में हुक्का लाउंज बंद होंगे .   मध्यप्रदेश में हुक्का लाउंज बंद होंगे .   शराब बंदी को लेकर सजग सरकार .   1.91 लाख से अधिक प्रभावित कृषकों के खातों में 202.64 करोड़ रू.   बुरहानपुर को हर घर जल प्रमाणित जिला घोषित करने के लिए सम्मान.   मध्यप्रदेश बना देश का सबसे स्वच्छ राज्य, इंदौर छठवीं बार देश का स्वच्छतम शहर.   मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना से हो रहा मुफ्त इलाज.   राज्यपाल उइके वर्धा विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में हुई शामिल.   बिलासपुर- इंदौर विमान सेवा फ्लाइट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.   \'महात्मा गांधी रूरल इंडस्ट्रियल पार्क योजना\' का शुभारंभ .   आईसीआईसीआई बैंक सामाजिक क्षेत्र में भी कर रहा है सराहनीय काम.   ‘गांधी, युवा और नये भारत की चुनौतियां’ विषय पर कार्यक्रम .  
सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ चार्जशीट दाखिल
सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

 

तत्कालीन सीएम  मोदी को मौत की सजा दिलाने के लिए गंभीर साजिश

 

सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ  गुजरात में SIT ने हाईकोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है।  चार्जशीट में तीस्ता सीलतवाड के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाये गये हैं। चार्जशीट के मुताबिक तीस्ता ने तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को मौत की सजा दिलाने के लिए गंभीर साजिश रची थी। इस साजिश में दो पूर्व आईपीएस अधिकारी आरबी श्रीकुमार और संजीव भट्ट भी शामिल थे, जो समय-समय पर फर्जी दस्तावेज तैयार कर और उसकी ऑफिशियल एंट्री कर तीस्ता को भेजते थे।साथ ही उसके प्रमाण पेश किये गये हैं। आरोपों में कहा गया है कि तत्कालीन सीएम को फंसाने के लिए फर्जी दस्तावेजो और फर्जी एफिडेविट तैयार की गई । पीड़ितों को गुमराह करते हुए, जो घटनाएं कभी घटी ही नहीं, ऐसी काल्‍पनिक कहानियों पर हस्ताक्षर लिए गए। दस्तावेज अंग्रेजी में थे, जो पीड़ितों की समझ से बाहर थे। अगर कोई पीड़ित, तीस्ता का साथ देने तैयार नहीं होता तो उसे डराया-धमकाया जाता था। खुद पूर्व आईपीएस आरबी श्रीकुमार ने एक गवाह को फोन करके धमकाया था। फिर इसे अदालत में साबित करने के लिए बाकायदा वकीलों को फौज तैयार की गई।

चार्जशीट के मुताबिक तीस्ता और संजीव भट्ट एक दूसरे के संपर्क में थे। संजीव भट्ट नामी पत्रकारों, कुछ एनजीओ और गुजरात विधानसभा में नेता विपक्ष से भी संपर्क में थे। अलग-अलग पिटिशन में साजिश पूरी करने के मकसद से काम किया गया और सभी को लगातार ईमेल भी किया गया। 

MadhyaBharat 22 September 2022

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2022 MadhyaBharat News.