Since: 23-09-2009

  Latest News :
क्रेडिट कार्ड से रेंट भरने पर लगेगा एक्स्ट्रा चार्ज .   कनाडा में हिंदू मंदिर की दीवारों पर भारत विरोधी नारे .   बाइडेन ने दिया मोदी को न्यौता .   7 लाख से कम आये वालों को नहीं देना पड़ेगा कोई टैक्स .   बजट में कुछ सामान हुए सस्ते कुछ महंगा.   पुणे में लग्जरी बस और ट्रक के बीच टक्कर 4 की मौत.   उमा भारती का बड़ा बयान नड्डा जी ने नहीं रोका होता तो खुल जाता शिव मंदिर का ताला.   ट्रक ने आयसर को मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत.   मुझे गर्व है प्रदेश के पुलिस प्रशासन पर: शिवराज.   इंदौर में प्रोफेसर सस्पेंड .   मंदिर का ताला नहीं तोड़ने दे रहे है बीजेपी अध्यक्ष .   कमलनाथ झूठे है,जनता से झूठा वादा करते है -शिवराज .   केंद्रीय बजट से छत्तीसगढ़ के मिलेट मिशन को मिलेगा बढ़ावा: अरुण साव.   बजट में महंगाई और बेरोजगारी को कम करने की कोई व्यवस्था नहीं-मुख्यमंत्री बघेल.   देश बिक रहा है,ट्रेने रद्द हो रही है ये है मोदी सरकार की हालत .   पति ने कई सालों से संबंध नहीं बनाये तो पत्नी ने लगाई फांसी .   बीजेपी किसी को निमंत्रण नहीं देती जो आना चाहे आ सकता है-रमन सिंह .   अब बदलेगी ट्रैफिक पुलिस की जैकेट .  
पिता के ज़िंदा होने के बाबजूद भी बेटों ने मारा हुआ बताकर पहुंचा दिया शमशान घाट
पिता के ज़िंदा होने के बाबजूद भी बेटों ने मारा

ग्राम मदांगमूडा में बेटों ने अपने जिंदा पिता को श्मशान पहुंचा दिया है। बेटों ने उसे घर से निकालकर उसके लिए श्मशान के मुहाने पर झोंपड़ी बना दी। गैंगरीन से पीड़ित इस बुजुर्ग गुंचू यादव (65 वर्ष) को परिवार वालों ने इलाज कराने के बदले उसे जीवित ही मरने के लिए मजबूर कर दिया है। अब मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग और पुलिस-प्रशासन की टीम गांव में पहुंची हुई है।गुंचू के बेटे घेनुराम ने कहा कि उसके पिता को 5 साल से बड़ी बीमारी हो गई है। पैर सड़ रहे हैं, उनका रायपुर ले जाकर भी इलाज करवाया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। दो बार ऑपरेशन भी हुआ, तब भी पिता ठीक नहीं हुए। इलाज में सारी जमापूंजी भी खत्म हो गई। इधर गांववालों को आशंका थी कि रोग पूरे गांव में फैल जाएगा, इसलिए दोनों बेटों ने जिंदा पिता के अंतिम संस्कार की पूरी प्रक्रिया 12 दिन पहले कर दी। बेटों ने कहा कि उन्हें डर था कि अगर पिता की मौत हुई, तो लोग कंधा देने भी नहीं आएंगे। इसलिए अब श्मशान घाट के मुहाने पर ही कच्ची झोंपड़ी बना दी है। मां दोनों वक्त का खाना बर्तन में डाल आती है।मदांगमूडा में यादव समाज के श्मशान घाट से महज 50 मीटर की दूरी पर झोंपड़ी में रहकर अब गूंचु यादव मौत का इंतजार कर रहा है। उसका कहना है कि अंतिम संस्कार तो पहले ही हो गया है। ग्रामीणों को बुजुर्ग के कुष्ठ रोगी होने की भी आशंका थी, लेकिन मनमोहन ठाकुर, नोडल अधिकारी कुष्ठ रोग उन्मूलन ने साफ कर दिया है कि बुजुर्ग को कुष्ठ रोग नहीं है, बल्कि गैंगरीन है।

MadhyaBharat 24 January 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2023 MadhyaBharat News.