Since: 23-09-2009

  Latest News :
प्रधानमंत्री पहुंचे राजघाट और विजय घाट पुष्पांजलि अर्पित की.   अजय माकन बने कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष.   विकसित राष्ट्र के लिए आधुनिक हथियारों के साथ मजबूत सशस्त्र बल भी जरूरी : राजनाथ.   भारत में अफगान दूतावास ने आज से परिचालन बंद करने की घोषणा की.   किसानों और पिछड़ों के हितों की अनदेखी कर रही तेलंगाना सरकार : नरेन्द्र मोदी.   कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर हुआ महंगा.   आज की स्थिति में मूल्यों- संविधान को चुनौती देने वाली ताकतें ज्यादा सक्रिय: कमलनाथ.   मुख्यमंत्री ने किया खेलो एमपी यूथ गेम्स का शुभारंभ.   प्रदेश में चल रहा सामाजिक क्रांति का अभियानः मुख्यमंत्री शिवराज.   चौरसिया महाकुंभ में कमलनाथ बोले- हम सच्चाई के साथ प्रदेश का भविष्य सुरक्षित करेंगे.   चंदेरी के ऐतिहासिक मंदिर में बनाया जाएगा जागेश्वरी माता मंदिर लोकः शिवराज.   जाम गेट के पास स्कूल बस पलटी 15 बच्चे घायल.   बस्तर बंद का आयोजन लोकतंत्र की हत्या और सत्ता का खुला दुरुपयोग : भाजपा.   स्वच्छता के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 13 ग्राम पंचायतो को मंत्री रविन्द्र चौबे ने किया सम्मानित.   चुनाव ड्यूटी में जाने से पहले कोर्स पूरा कराने में जुटे शिक्षक.   तीन अक्टूबर को बस्‍तर आएंगे पीएम मोदी.   कवासी लखमा ने नाला पार कर ग्रामीण का चुकाया उधार.   यात्री बस से 30 किलो गांजा के साथ एक महिला आरोपित गिरफ्तार.  
आदिगुरु शंकराचार्य की मूर्ति के अनावरण के लिए विशेष धार्मिक अनुष्ठान आरंभ
bhopal, Special religious ritual, Adiguru Shankaracharya

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को एकात्म धाम, ओंकारेश्वर में आदिगुरु शकराचार्य की मूर्ति के अनावरण कार्यक्रम के लिए वैदिक रीति-रिवाज से पूजा-अर्चना की और संतों के साथ यज्ञ शाला में आहुति अर्पित कर विशेष धार्मिक अनुष्ठान का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री चौहान 18 सितंबर को ओंकारेश्वर में 108 फीट ऊंची आदि गुरु शंकराचार्य की बहु धातु की प्रतिमा का अनवारण करेंगे।

 

उल्लेखनीय है कि चिन्मय मिशन के स्वामी मित्रानंद ने शंकर संदेश वाहिनी के रूप में एक विशेष बस बनवाई, जिसमें आचार्य शंकर की कांस्य प्रतिमा स्थापित की गई इस बस को 29 दिसम्बर 2017 को वैलियानाड, केरल से मुख्यमंत्री चौहान, स्वामी परमात्मानंद, चिन्मय मिशन के स्वामी अयानन्द और संस्कृति सचिव मनोज श्रीवास्तव ने हरी झंडी दिखाई। यह यात्रा भारत की चारों दिशाओं में स्थित उन चारों मठों में भी गई, जिन्हें आचार्य शंकर ने ही स्थापित किया। इस तरह समाज के बीच कण-कण में शंकर जाग्रत करते हुए 'एकात्मता की मूर्ति का निर्माण प्रगति पथ पर था। इस तरह आदि गुरु शंकराचार्य की इस 108 फीट ऊंची मूर्ति में उन्हीं का दिया संदेश सर्वं खल्विदं ब्रह्म समाहित हुआ।

 

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जगद्गुरु शंकराचार्य महाराज को यही ज्ञान प्राप्त हुआ था, यहीं उन्हें गुरु मिले। भारत का मूल संदेश है कि सब में एक ही चेतना है, दो कहीं है ही नहीं, इसलिए हम एक हैं, यह एकात्मता का संदेश पूरे जगत को यहां से जाएगा। अद्वैत वेदांत ही है जो दुनिया को संघर्षों से बचा सकता है और शांति, स्नेह, प्रेम, आत्मीयता का संदेश दे सकता है। मेरा विश्वास है कि एकात्म धाम संघर्ष नहीं शांति, घृणा नहीं प्रेम और समन्वय के संदेश के साथ संपूर्ण विश्व को एक नई प्रेरणा देगा। सब सुखी हो, सबका मंगल हो, सबका कल्याण हो, सब निरोगी रहें यही संदेश यहां जाएगा। एकात्म धाम के रूप में अद्भुत रचना ओंकारेश्वर में हो रही है। पहले चरण में आचार्य भगवन की प्रतिमा का अनावरण होगा, उसके बाद बाकी के कार्य प्रारंभ होंगे।

 

एकात्मता की मूर्ति की शिल्प विशेषता

बताया गया कि यह प्रतिमा 12 वर्ष के किशोर शंकर की 108 फीट ऊंची बहु धातु प्रतिमा है, जिसमें 16 फीट ऊंचे पत्थर से बना कमल का आधार है, 75 फीट ऊंचा पेंडिस्टल का निर्माण है। वहीं प्रतिमा में 45 फीट ऊंचा शंकर स्तम्भ पत्थर पर उकेरे गए आचार्य शंकर की जीवन यात्रा को दर्शाता है। इस मूर्ति के निर्माण में 250 टन से 31जीएल ग्रेड की स्टेनलेस स्टील का उपयोग हुआ है. साथ 100 टन मिश्रधातु कांस्य में 88 टन तांबा, 4 टन जस्ता और 8 टन टिन का मिश्रण है। इस प्रतिमा में कान्क्रीट के पेडिस्टल को 500 वर्षों का जीवन दर्शाने के उद्देश्य से निर्मित किया गया है। इस मूर्ति में 12 वर्षीय किशोर आचार्य शंकर के भाव भंगिमाएं जीवंत रूप से दिखाई पड़ेंगी, जो जन मानस में एकात्म भाव का संचार करते हुए लोगों के जीवन को सकारात्मक ऊर्जा से भर देगी।

 

क्या है एकात्मता की मूर्ति की परिकल्पना

आदि गुरु शंकर की प्रतिमा एकात्मता की मूर्ति की कल्पना ने 9 फरवरी 2017 को तब जन्म लिया, जब ओंकारेश्वर में नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान साध्वी ऋतंभरा स्वामी अवधेशानन्द गिरि, स्वामी तेजोमयानंद जैसे अनेक महान संतों के मध्य आदि शंकर की स्मृति का संचार हुआ। इसी दिन मुख्यमंत्री ने संतों की उपस्थिति में जनता के सामने शंकर की विशाल प्रतिमा की स्थापना का संकल्प लिया और एकात्मता की मूर्ति की घोषणा की। आचार्य शंकर की अमर स्मृति को धरातल पर उतारने के लिए एक बार फिर मुख्यमंत्री के साथ संतों और विद्वानों की बैठक हुई जिसमें शंकर के विचारों के प्रचार-प्रसार पर केंद्रित सभी गतिविधियों और आयोजनों के लिए एक मई 2017 को आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास के गठन की बात रखी गई।

MadhyaBharat 15 September 2023

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2023 MadhyaBharat News.