Since: 23-09-2009

  Latest News :
देश में फिर फैला कोरोना, राजधानी दिल्ली में संक्रमण दर 15 फीसदी.   दिल्ली में एमसीडी के एकीकरण के प्रस्ताव को मिली मंज़ूरी बीजेपी को बड़ा फायदा .   पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बैनर्जी मिली पीएम मोदी से .   पंजाब हरियाणा में बारिश का अलर्ट.   उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग शुरू .   RBI ने फिर बढ़ाया रेपो रेट , 5.40 फीसदी हुआ .   CM की क्लास बच्चों के साथ .   पुलिस लहरा रही तिरंगा .   आम लोगो के लिये खुले राजभवन के दरवाजे .   पाखंडियों के सहारे सनातन को बदनाम करती है कांग्रेस.   संसार की सबसे कीमती दौलत है .   अपना दल (एस) को राज्यस्तरीय पार्टी का दर्जा.   युवक कांग्रेस चुनाव में फर्जी सदस्यता का भंडाफोड़.   कलेक्टर की डीपी लगाकर ठगी का प्रयास .   लिव इन में रह रहा युवक शिकायत पर गिरफ्तार .   शिक्षक ,सहायक शिक्षक पदों के लिए सातवे दौर का सत्यापन .   स्टील ,पावर प्लांट कारोबारियों पर आयकर का छापा.   पीएम मोदी की बैठक में जायेंगे सीएम और राज्यपाल .  
अपर कलेक्टर लिखी गाड़ी को रोकने पर विवाद
अपर कलेक्टर लिखी गाड़ी को रोकने पर विवाद

 

गाड़ी में अपर कलेक्टर के भाई और भतीजा बैठे थे 

अमलेश्वर थाना में चेकिंग के दौरान कलेक्टर लिखी गाड़ी को पुलिस ने रोक लिया। जिसके बाद जमकर विवाद हो गया। दरअसल जिस गाड़ी को रोका गया अंबिकापुर के अपर कलेक्टर तनुजा सलाम की थी।  और  गाड़ी में उनका भाई प्रणय सलाम और भतीजा हर्षवर्धन ध्रुव थे।  अमलेश्वर टीआइ राजेंद्र यादव ने उनसे कहा कि जब गाड़ी में अधिकारी नहीं हैं, तो उनके पदनाम को ढंककर चलें। बस इसी बात पर विवाद शुरू हो गया। पुलिस का कहना है कि अपर कलेक्टर के भाई व भतीजे ने पुलिस से गाली गलौज की। वहीं अपर कलेक्टर ने टीआइ पर शराब के नशे में गाली देने का आरोप लगाया है। इस बात को लेकर देर रात तक अमलेश्वर थाना में हंगामा चलता रहा। अपर कलेक्टर तनुजा सलाम ने टीआइ पर लगाया शराब के नशे में गाली गलौज करने का आरोप विवाद की जानकारी होने पर रात में अपर कलेक्टर तनुजा सलाम अमलेश्वर थाना पहुंच गई। उन्होंने पुलिस पर दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए वरिष्ठ अधिकारियों से इसकी शिकायत करने की बात कही। वहीं इसकी खबर लगते ही पुलिस के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने टीआइ राजेंद्र यादव व जांच में संलग्न पुलिस स्टाफ का ब्रीथ एनालाइजर से जांच करवाया। जांच मेें किसी भी पुलिस कर्मी द्वारा शराब पीने की पुष्टि नहीं हुई। लेकिन, विवाद अभी भी शांत नहीं हुआ है। अब अपर कलेक्टर के रिश्तेदार जब गाडी में बैठे हो तो क्या पुलिस गाडी नहीं रोक सकती ? क्या अपर कलेक्टर को मिली गाड़ी सरकारी काम के बजाय रिश्तेदारों के घूमने के लिए बनी है ? सवाल जायज और सोचने वाले हैं। गाड़ी जिसमे अपर कलेक्टर लिखा हो क्या उसकी जांच नहीं होनी चाहिए। 

MadhyaBharat 4 August 2022

Comments

Be First To Comment....
Video

Page Views

  • Last day : 8641
  • Last 7 days : 45219
  • Last 30 days : 64212


x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2022 MadhyaBharat News.