Since: 23-09-2009

Latest News :
पाकिस्तान में छुपा बैठा है डॉन,चार पते मिले.   नर्मदा यात्रा : रिहर्सल में पत्नी अमृता के साथ रोज पैदल चल रहे हैं दिग्विजय.   सेना ने आतंकी आदिल को जिंदा दबोचा.   शाह ने कहा- दंगों के वक्त मेरे साथ विधानसभा में थी माया.   प्रद्युम्न की हत्या के बाद खुला रेयान स्कूल.   आतंकवाद से साथ मिलकर लड़ेंगे भारत-जापान:शिंजो आबे.   मुख्यमंत्री चौहान ने किया सदगुरू की नदी अभियान रैली का स्वागत.   तरुण सागर की कड़वे वचन का विमोचन.   भाजपा किसान मोर्चा ने मांगी राहत.   हनीप्रीत को लेकर हरियाणा पुलिस की एडवाइजरी, मप्र पुलिस सक्रिय.   सीएम हाउस के नाम से धमकाने वाले को नोटिस.   मध्यप्रदेश के सभी गाँव और शहर खुले में शौच से मुक्त किये जाएंगे.   बस्तर को अलग राज्य बनाने की मांग.   मजदूरों को छत्तीसगढ़ में पांच रूपए में मिलेगा टिफिन.   अम्बुजा सीमेंट में पिस गए दो मजदूर.   एम्बुलेंस ये ले जाती है नदी पार .   भालू के हमले से दो की मौत.   जोगी की जाति के मामले में सुनवाई फिर टली.  

कोरिया News


छत्तीसगढ़  कोरिया

  छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में गुरुवार को एक हादसे में 20 बच्चों की जान बाल-बाल बच गई। मिली जानकारी के मुताबिक कोरिया जिले के बैकुंठपुर इलाके के बदरिया गांव में एक स्कूली वैन में भीषण आग लग गई। यह हादसा तब हुआ जब उसमें करीब 20 स्कूली बच्चे बैठे हुए थे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक स्कूल वैन कटकोना से पटना ऐरो किड्स स्कूल जा रही थी, तब शार्ट सर्किट के कारण वैन में आग लग गई। ड्राइवर और स्थानीय लोगों की तत्परता के कारण वैन में बैठे 20 लोगों को तत्काल बाहर निकाल लिया गया और आग बुझाने का प्रयास किया गया। हालांकि जब तक आग पर काबू पाया गया, तब तक वैन पूरी तरह से जलकर खाक हो चुकी थी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 July 2017

chattisgadh news

कोरिया जिले में बहने वाली गुड़घेला नदी पर पुल बन जाने से दो जिले के दर्जनों गांव जुड़ सकते हैं। वहीं ग्राम पंचायत गीरजापुर में बरसाती नाले पर करोड़ों रुपए की लागत से महज 20 परिवार के लिए पुल बनाया जा रहा है। कोरिया- सूरजपुर जिले के सरहद पर स्थित ग्राम पंचायत डूमरिया स्थित है। यहां के ग्रामीणों को सड़क व पुलिया की समस्या जूझना पड़ रहा है पुलिया के लिए ग्रामीण एवं जनप्रतिनिधियों ने कई बार आंदोलन भी किया, तब भी इस ओर ध्यान नहीं दिया गया । जबकि इस पुल के बनने से दो जिले के दर्जनों गांव जुड़ सकते हैं। डुमरिया के बगल गांव गिरजापुर स्टेट हाईवे पर नाले के ऊपर सिर्फ एक मुहल्ला के लिए सेतु विभाग द्वारा करोड़ों की लागत से पुल बनाया जा रहा है, जबकि इस नाले पर छोटे पुल से भी काम चल सकता है। खास बात यह कि सिर्फ एक किलोमीटर के अंतराल में एक और पुल का निर्माण हो रहा है। डुमरिया से पंड़री छापरपारा पोंड़ी, रामानुज नगर तक ढ़ाई किमी सड़क बननी थी। यहां पुल बनने से सूरजपुर जिले के पोंड़ी, पंड़री, छापरपारा, मोरगा, बरहोल, नावापारा, तेलईमुड़ा, धनेद्गापुर, श्रीनगर, देवनगर 10 गांव एवं कोरिया जिले के डूमरिया, आंजो कला, तेंदुआ, आंजो खुर्द, पीपरा, रनई, कुड़ेली सहित 10 से अधिक गांव जुड़ते हैं। पुल नहीं होने से लोग 6 महीने ऐसे ही आवागमन करते हैं ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 July 2017

महामाया लूटकांड

राजहरा थाना क्षेत्र के हितकसा जंगल से 16 फरवरी को पकड़े गए दो हार्डकोर व 5-5 लाख के इनामी नक्सलियों की निशानदेही पर पुलिस ने महामाया खदान से लूटे गए विस्फोटकों का जखीरा बरामद कर लिया है। इस उपलब्धि को हासिल करने वाली पुलिस टीम को 10 लाख 70 हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा। साथ ही दो सहायक आरक्षक को आरक्षक पद पर पदोन्नति दी जाएगी। पूछताछ में गिरफ्तार माओवादियों ने एक ट्रेड यूनियन के नक्सलियों से रिश्ते का जिक्र किया है, जिससे बड़ा खुलासा हो सकता है। 27 मार्च 2008 को नक्सली महामाया खदान से 1750 किग्रा विस्फोटक लूट ले गए थे। एएसपी जेआर ठाकुर ने बताया कि पकड़े गए नक्सलियों खड़गांव एरिया कमेटी कमांडर उमेश गावड़े 28 की निशानदेही पर कट्टापार व कोपेनकड़का की पहाड़ी से 16.06 किग्रा जेलेटिन व मोहला (रामगढ़) एरिया कमेटी कमांडर महिला नक्सली अनिला उर्फ धनाय मरकाम 26 की निशानदेही पर 5 किग्रा अमोनिया नाइट्रेट, स्टील के डिब्बे व नक्सल साहित्य बरामद किया गया है। उमेश मूलत: मानपुर जिले के मदनवाड़ा के समीप उरझे गांव का व अनिला मानपुर कोर्सेकला की निवासी है। उमेश अशिक्षित व अनिला 8वीं तक पढ़ी है। साथ काम करते हुए दोनों में प्यार हो गया था। शादी करना चाहते थे। इसी दौरान पकड़ा गए।  दोनों पकड़े गए नक्सलियों पर शासन से 5-5 लाख रुपए, पुलिस महानिरीक्षक द्वारा 30-30 हजार रुपए तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा 5-5 हजार रुपए कुल 10 लाख 70 हजार की इनाम राशि पुलिस टीम को मिलेगी। टीम में राजहरा नगर पुलिस अधीक्षक भारतेन्दु द्विवेदी, थाना प्रभारी व प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक ऐश्वर्य चन्द्राकर, ई-30 का बल, थाना महामाया से मनोज बंजारे एवं बल, खड़गांव थाना प्रभारी सोनल ग्वाला एवं बल, आईटीबीपी 44वीं बटालियन बी कम्पनी पल्लेमाड़ी असिस्टेंट कमांडेंट अरविंद शामिल थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 February 2017

टमाटर  25 पैसे किलो

  छत्तीसगढ़ में पहले से ही बाजार में टमाटर की मांग न होने से परेशान किसानों को मौसम की दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। सोमवार को बागबहार के साप्ताहिक बाजार में टमाटर 25 पैसे किलो में टमाटर बेचना पड़ा। वहीं बाद में जब व्यापारियों ने किसानों से 25 पैसे किलो में भी टमाटर खरीदने से इंकार कर दिया तो कई किसानों को मजबूरन टमाटर को बाजार स्थल पर ही फेंक कर वापस घर लौटना पड़ा। तीन दिनों पहले बारिश के साथ ओलेवृष्टि हुई थी। इससे टमाटर की फसल में कीट लगने की आशंका खड़ी हो गई थी। इससे घबराए किसान सोमवार को बागबहार के साप्ताहिक बाजार में भारी मात्रा में टमाटर लेकर पहुंचे। बाजार में पहले से ही टमाटर की मांग न होने के कारण 1 रुपए प्रतिकिलो बिक रहा था। इधर आवक तेजी से बढ़ने पर व्यापारियों ने सोमवार को 25 पैसे किलो में भी टमाटर खरीदने से इंकार कर दिया। जिस पर किसानों को मजबूरन टमाटर को सड़क पर फेंकना पड़ा। जिसे मवेशी खाते रहे। क्षेत्र के किसानों को कर्ज चुकाने की चिंता सता रही है। किसान अलिंद पटेल, कमलेश भगत, राजकुमार ने बताया कि उन्होंने बीज व्यापारियों से उधार में लिया है और फसल होने पर वे टमाटर बीज, खाद आदि का पैसा पटाते हैं। पुसल की लागत मूल्य भी नहीं मिलने से किसानों को अब इस बात की चिंता सता रही है कि वे व्यापरियों से लिए कर्जज का भुगतान कैसे करेंगे। सहायक संचालक उद्यानिकी रामअवध सिंह भदौरिया का कहना है उत्पादन अधिक होने के कारण देश के कई हिस्सों में यह स्थिति उत्पन्ना हुई है। किसानों को राहत देने के लिए वर्तमान में कोई योजना नहीं है। सूचना जारी की गई है। अगली फसल किसान बीमा योजना का लाभ ले सकेंगे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 January 2017

10 rupeey

 रिजर्व बैंक ने 10 रपये के नकली सिक्के के परिचालन में होने की अफवाह को खारिज करते हुए आज लागों से ऐसी झूठी अफवाहों पर ध्यान नहीं देने को कहा। आरबीआई का कहना है कि ‘₹’ के चिह्न वाले और बिना चिह्न वाले 10 रुपए के दोनों सिक्के सही हैं।  केंद्रीय बैंक ने लोगों ने सभी प्रकार के सौदों में बिना किसी झिझक के इन सिक्कों को स्वीकार करने को कहा है।  रिजर्व बैंक ने एक बयान में कहा कि ऐसी सूचना मिली है कि कुछ कम जानकार या गलत जानकारी रखने वाले लोग व्यापार, दुकानदार आदि समेत आम लोगों के बीच इस प्रकार के सिक्कों को लेकर संदेह खड़ा कर रहे हैं।  इससे देश के कुछ भागों में इन सिक्कों का प्रचलन बाधित हो रहा है और इससे भ्रम की स्थिति बन रही है।  बयान के अनुसार, ‘‘रिजर्व बैंक लोगों को सलाह देता है कि वे इस प्रकार की झूठी अफावाह पर ध्यान नहीं दें और उसे अनसूना कर दें और बिना किसी झिझक के अपने सभी सौदों में इन सिक्कों को कानूनी मुद्रा के रूप में स्वीकार करें। ’’

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 November 2016

shiv mahapuran

  धार्मिक ग्रंथ शिव महापुराण-शिव कार्तिक महात्म्य अब आप छत्तीसगढ़ी में भी पढ़ सकेंगे। छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग इन दोनों धर्मग्रंथों का छत्तीसगढ़ी में अनुवाद करवा रहा है। 28 जनवरी 2017 को राजिम में आयोजित होने जा रहे आयोग के 5वें प्रांतीय सम्मेलन में इनका विमोचन होगा। आयोग ने कुरान का भी छत्तीसगढ़ी में अनुवाद करवाने का फैसला लिया है, इसके लिए साहित्यकारों को ऑफर दिया गया है, फिर उनसे अनुबंध किया जाएगा। शिव महापुराण का अनुवाद साहित्यकार गीता शर्मा और शिव कार्तिक महात्म्य का अनुवाद साहित्यकार गिरजा शर्मा रही हैं। काम लगभग पूरा हो चुका है। आयोग ने बीते वर्ष फैसला लिया था कि प्रत्येक वर्ष 2 धार्मिक ग्रंथ का अनुवाद होगा या फिर किताबें प्रकाशित की जाएंगी। इनका विमोचन छत्तीसगढ़ के साहित्यकारों को समर्पित होगा। 5वां प्रांतीय सम्मेलन पूर्व सांसद एवं संत कवि पवन दीवान को समर्पित होने जा रहा है। बता दें कि यह सारी कवायद छत्तीसगढ़ी भाषा को 8वीं अनुसूचि में शामिल करवाने की है। अब तक इन ग्रंथों का हो चुका प्रकाशन- निषाद उपनिषद, शब्द सागर के साथ-साथ कई किताबें, साहित्य, काव्यों का प्रकाशन हो चुका है। राजभाषा आयोग शिव महापुराण, शिव कार्तिक महात्म्य की एक-एक हजार प्रतियां प्रकाशित करवा रहा है। इनकी बिक्री नहीं होगी, बल्कि ये आयोग कार्यालय से ही उन लोगों को प्रदान की जाएंगी, जो धार्मिक ग्रंथों का महत्व समझते हैं। आयोग इसका चयन अपने पैमाने पर करेगा। आयोग ने डॉ. भीमराव अंबेडकर द्वारा रचित भारतीय संविधान को छत्तीसगढ़ी में अनुवाद करवाने का निर्णय भी लिया है, हालांकि इसमें लंबा वक्त लगेगा। क्योंकि जटिलता बहुत है। अगर यह प्रयास सफल हो जाता है तो आयोग और छत्तीसगढ़ सरकार, भारत सरकार के समक्ष छत्तीसगढ़ी को 8वीं अनुसूची में शामिल करने की दावेदारी प्रमुखता से कर सकती, पक्ष रख सकती है। छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग  के अध्यक्ष सुरेंद्र दुबे ने बताया छत्तीसगढ़ी को 8वीं अनुसूची में स्थान दिलाना है। अगर हम भारतीय संविधान का छत्तीसगढ़ी में अनुवाद करवाने में सफल होते हैं तो बड़ी उपलब्धि होगी। जब साहित्य समृद्ध होता है तो भाषा भी समृद्ध होती है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 October 2016

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.