Since: 23-09-2009

Latest News :
शाह ने कहा- दंगों के वक्त मेरे साथ विधानसभा में थी माया.   प्रद्युम्न की हत्या के बाद खुला रेयान स्कूल.   आतंकवाद से साथ मिलकर लड़ेंगे भारत-जापान:शिंजो आबे.   प्रद्युम्न मामले में जुवेनाइल एक्ट के तहत होगी कार्रवाई.   साक्षरता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया.   छत्तीसगढ़ को मिले चार राष्ट्रीय पुरस्कार.   मध्यप्रदेश के सभी गाँव और शहर खुले में शौच से मुक्त किये जाएंगे.   शिवराज ने ग्राम रतनपुर में किया श्रमदान.   डेंगू लार्वा मिलने पर होगा 500 रुपये का जुर्माना.   पदयात्रा में जनहित विकास कार्यों की शुरुआत.   लोगों से रू-ब-रू हुए मुख्यमंत्री चौहान.   फैलोज व्यवहारिक और सैद्धांतिक अनुभवों पर आधारित सुझाव दें.   मजदूरों को छत्तीसगढ़ में पांच रूपए में मिलेगा टिफिन.   अम्बुजा सीमेंट में पिस गए दो मजदूर.   एम्बुलेंस ये ले जाती है नदी पार .   भालू के हमले से दो की मौत.   जोगी की जाति के मामले में सुनवाई फिर टली.   5 ट्रेनें रद्द, दो-तीन दिन बनी रहेगी परेशानी.  

अलीराजपुर News


kisan golikand

मध्यप्रदेश के मंदसौर में प्रदर्शनकारी किसानों पर हुई गोलीबारी की घटना के बाद हुई छ किसानों की मौतों से नाराज प्रदर्शनकारियों ने आज मंदसौर कलेक्टर के साथ मारपीट और झूमाझटकी की। कलेक्टर मंदसौर स्वतंत्र कुमार सिंह स्टेट हाईवे पर शव रखकर प्रदर्शन करने वालों को समझाईश देने के लिए एसपी ओपी त्रिपाठी के साथ पहुंचे थे, तब उन पर आक्रोशित भीड़ ने हमला किया। बाद में उन्हें वहां से हटाया गया। इधर मंदसौर में प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह चक्काजाम कर रखा है। कर्फ्यू के बाद भी लोग हटने को तैयार नहीं हैं। कल हुई गोलीबारी की घटना में मंदसौर बरखेड़ा पंथ गांव के तीन किसानों की मौत हुई थी। इसमें से एक 11 साल का छात्र अभिषेक सिंह भी है। इससे गांव वालों में आक्रोश और बढ़ गया और एक किसान ने कलेक्टर को थप्पड़ मार दिया। कुछ लोगों ने दूर तक कलेक्टर का पीछा भी किया। एसपी के साथ भी झूमाझटकी हुई है और बीजेपी के पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार को जमकर पीटा और उनकी गाड़ी में आग लगा दी। कलेक्टर, मंदसौर स्वतंत्र कुमार सिंह ने बताया मंदसौर और पिपलिया मंडी में कर्फ्यू लगा है। मंदसौर में हाईवे पर प्रदर्शनकारियों द्वारा शव रखकर चक्काजाम किया जा रहा है जिसे हटाने के लिए समझाईश देने की कोशिश की जा रही है। प्रदर्शन के मामले में 25-30 लोगों की गिरफ्तारी भी की गई है। गोलीचालन के बाद आज भी किसानों का प्रदर्शन उग्र रूप लिए रहा। आंदोलनकारी किसानों ने रूई के एक गोदाम में आग लगा दी तो सड़क के किनारे खड़े वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। पिपल्या मंडी में टोल नाके पर भी आंदोलनकारियोंं के कब्जे की खबर है। जानकारी के मुताबिक आज सुबह हजारों किसान बरखेड़ापंथ गांव में जमा हुए थे। मृतकों के अंतिम संस्कार से लौट रही भीड़ ने पिपल्या मंडी के टोल नाके पर कब्जा कर लिया और नाके के पास खड़े वाहनों में आग लगा दी। यहां प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। इधर, इंदौर और भोपाल के मिसरौद में  भी किसानों ने उग्र प्रदर्शन किया। किसानों ने सरकार का पुतला फूंका और चक्काजाम कर तोड़फोड़ की। मंदसौर गोलीकांड में 6 किसानों की मौत के बाद प्रदेश बंद के आह्वान का सबसे ज्यादा असर मालवा क्षेत्र में दिखाई दिया बाकि भी प्रदेश के कई इलाकों में बंद शांतिपूर्ण रहा । इंदौर, उज्जैन, शाजापुर, राजगढ़, देवास, रतलाम में प्रदर्शनकारी सड़कों पर नजर आए और जगह-जगह चक्काजाम और तोड़फोड़ की खबर मिल रही है। प्रमुख शहर जबलपुर, ग्वालियर, रीवा, सागर, उज्जैन में भी किसान प्रदर्शन जारी है। कलेक्टर स्वतंत्र कुमार के बयान से सरकार यह दावा खोखला साबित हुआ है कि आंदोलनकारियों पर पुलिस अथवा सीआरपीएफ ने नहीं बल्कि उपद्रवियों ने गोली चलाई है। कलेक्टर स्वतंत्र कुमार आज उत्तेजित ग्रामीणों को यह समझाने की प्रयास कर रहे थे कि गोलियों प्रशासन के कहने पर नहीं चलाई गर्इं। लेकिन इतना सुनने के बाद किसान और भड़क गए। विवाद बढ़ता देख कलेक्टर को अलग ले जाया जाने लगा इसी दौरान एक किसान ने कलेक्टर को पीछे से थप्पड़ मार दिया। इसके बाद कलेक्टर  स्वतंत्र सिंह ने कहा कि गोली चलाए जाने को लेकर टीआई पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।   इधर, राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के नेता शिवकुमार शर्मा कक्काजी ने इंदौर में पत्रकारों से चर्चा में आरोप लगाया है कि सरकार किसानों की हत्या पर आमादा थी, यही वजह है कि किसानों की छाती और पीठ पर गोली मारी गई। शिवकुमार शर्मा ने आरोप लगाया कि सरकार में अफसरशाही पूरी तरह हावी है, 12 अफसर पूरी सरकार को चला रहे हैं। उन्होंने इन अफसरों पर भ्रष्टाचार के भी आरोप जड़े। उन्होंने कहा कि दस जून से किसान पूरे प्रदेश में जेल भरो आंदोलन करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कृषि कैबिनेट में फैसला लिया है कि किसानों के हित के लिए कृषि लागत और विपणन आयोग बनाएंगे। इसमें लागत मूल्य पर 50% अधिक कीमत पर किसानों की उपज खरीदी जाएगी। इसके साथ ही तुअर और मूंग की खरीदी के लिए तय की गई कीमत के आधार पर 10 जून से खरीदी करने का फैसला हुआ। बैठक में किसानों की कर्जमाफी पर भी चर्चा हुई इसके लिए सरकार किसानों के लिए समाधान योजना शुरू करने का विचार कर रही है। इसके तहत कर्ज न चुका पाने वाले किसानों का एक बार ब्याज माफ किया जाएगा। मंदसौर गोलीकांड ने केंद्र सरकार को भी परेशानी में डाल दिया है। केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने गोलीकांड को बड़ी साजिश करार देते हुए इसके पीछे कांग्रेस का हाथ बताया है। नायडू ने कहा किसान कभी हिंसक नहीं होता। आंदोलन में कुछ आसमाजिक तत्व शामिल हो गए हैं। कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा है कि सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवाई हैं। तन्खा ने कहा कि वे गोलीकांड के लिए सरकार और प्रशासन के जिम्मेदार अफसरों और नेताओं के खिलाफ हत्या का मुकदमा दायर करवाएंगे। उन्होंने कहा आंदोलनकारी किसानों पर गोली चलाना सीधे उनकी हत्या करने जैसा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने आज दिल्ली में कहा कि शांतिपूर्ण अहिंसक आंदोलन पर सरकार और प्रशासन लाठियां और गोलियां बरसाकर दमन करने पर उतारू है। इससे खुद को किसान पुत्र कहने वाले शिवराज सिंह का चेहरा बेनकाब हो गया है। शिवराज जवाबदेही लेने के बजाए कांग्रेस पर आरोप लगा रही है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 June 2017

kisan hadtal

किसान हड़ताल का असर ,दूध-सब्जी की सप्लाई रुकी  मध्यप्रदेश में किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन शनिवार को एक बार फिर आम लोगों को दूध और सब्जी की किल्लत का सामना करना पड़ा। कई इलाकों में पुलिस की सुरक्षा में दूध और सब्जी की दुकानें खुलीं, लेकिन इन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर बेचा गया। उधर कई जगह आंदोलन कर रहे किसानों ने दूध और सब्जी की सप्लाई रोकने के लिए निजी वाहनों और बसों में भी चेकिंग शुरू कर दी है। भारतीय किसान संघ भी अब इस हड़ताल में शामिल होगा। किसान के आंदोलन पर सरकार हरकत में आ गई है। शनिवार दोपहर मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने इंदौर, उज्जैन और भोपाल संभाग के अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान तीनों संभागों के आईजी, कलेक्टर, एसपी और दुग्ध संघ के अधिकारी भी उपस्थित थे। देवास के पास कन्नौद में खेत से 2 लीटर दूध लेकर घर आ रहे किसान को आंदोलनकारियों ने सुबह 8.15 बजे सरकारी अस्पताल के सामने रोक लिया, उन्होंने पहले दूध बहाया इसके बाद किसान के साथ मारपीट की। मामले में रिपोर्ट लिखाई गई। राजोदा में कैलोद चौराहे पर निजी वाहनों को रोक कर किसानों ने चेकिंग की, सुबह से खुली दूध डेयरियां भी बंद करवा दी गईं। खंडवा में बसों की चेकिंग में मिली सब्जी किसानों ने सड़क पर फेंकी। महाराष्ट्र से आया दूध का वाहन भी रोका, जिसके बाद ड्राइवर वाहन को थाने ले गया। वहां पुलिस के संरक्षण में दूध ज्यादा कीमत में बिका। शाजापुर में सांची दूध की सप्लाई होने से स्थिति कुछ सामान्य हुई, लेकिन खुला दूध अब भी नहीं मिला। यहां सब्जी की सप्लाई बंद रही। शाजापुर में करीब बड़ी संख्या में किसान सड़क पर उतर आए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया। मंदसौर में 300 लीटर दूध एक कार से जब्त हुआ, जिसके बाद जिला अस्पताल में इसे बांट दिया गया। कई जगह किसानों का विरोध जारी रहा उन्होंने रोक-रोकर वाहनों की चेकिंग की। दूध और सब्जी की किल्लत के चलते कई जगह आम लोगों ने किसानों का विरोध किया। लोगों का कहना है कि यह तरीका बिल्कुल गलत है। झाबुआ और आलीराजपुर में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा, यहां सामान्य रूप से मंडी खुली और दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। हालांकि मंड़ि‍यों में सब्जी की आवक पहले की अपेक्षा कम रही। खरगोन सब्जी मंडी में हालत सामान्य रहे लेकिन सब्जियों के भाव आसमान पर रहे। इंदौर और धार में किसानों आंदोलन के चलते व्यापारी खरगोन नहीं पहुंचे। यहां दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। रविवार को सब्जी मंडी बंद रह सकती है। जिले के भीकनगांव में सब्जी का व्यापार जारी। यहां सांची के दूध की सप्लाई भी हुई, गड़बड़ी की आशंका के चलते अमूल का दूध नहीं मंगवाया गया। जानकारी के मुता‍बिक सांची का 10 हजार लीटर दूध यहां सप्लाई हुआ। बड़वानी में किसान आंदोलन का असर नहीं रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 June 2017

 नर्मदा नदी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा का मूल उद्देश्य है कि नदी के संरक्षण, स्वच्छता और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जन-जन तक पहुँचाया जा सके। उन्होंने कहा कि यात्रा ने इस दिशा में सफलता हासिल की है और नर्मदा नदी के तट के दोनों ओर रहने वालों के साथ ही पूरे प्रदेश में नदियों के संरक्षण के प्रति जागरूकता आयी है। श्री चौहान आज अलीराजपुर के ग्राम छकतला में 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के दौरान जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह अभियान हमारे प्रदेश की जीवन-रेखा और सबसे प्राचीन नदी को समृद्ध करने का अभियान है। इसकी सफलता के लिये जरूरी था कि लोगों की जन-भागीदारी हो। नर्मदा नदी ने हमारे प्रदेश को सब कुछ दिया है। पुराणों में भी नर्मदा को गंगा के समान पवित्र माना गया है। यह मोक्ष-दायिनी और जीवन-दायिनी भी है। उन्होंने कहा कि नदी के तट पर लगे वृक्षों के कटने से वृक्षों की जड़ों से जो जल का रिसाव होता था, वह बंद हो गया है। हम सभी लोगों को माँ नर्मदा के संरक्षण और संवर्धन में योगदान देना होगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर एक-एक किलोमीटर की परिधि में फलदार एवं छायादार वृक्ष लगाये जायेंगे। जो किसान अपनी निजी भूमि में फलदार वृक्ष लगायेगा, उन्हें एक हेक्टेयर पर 20 हजार रूपये की आर्थिक सहायता दी जायेगी। तीन साल बाद जब उनके वृक्ष फलदार हो जायेंगे, उसके फ्रूट रूट बनाये जायेंगे। नर्मदा के किनारों को पवित्र और शुद्ध रखने के लिये सभी गाँव के घरों में शौचालय बनवाये जा रहे हैं। गंदे पानी से बचाने के लिये ट्रीटमेंट प्लांट लगाये जा रहे हैं। नर्मदा किनारे की 5 किलोमीटर के अंदर की शराब की दुकानें 31 मार्च के बाद बंद हो जायेंगी। भविष्य में पूरे प्रदेश में शराबबंदी के लिये कदम उठाये जायेंगे। उन्होंने अलीराजपुर जिले को पूरी तरह नशामुक्त बनाने का संकल्प दिलवाया और ग्रामीण जन-समुदाय से आव्हान किया कि वे नर्मदा नदी में किसी प्रकार की गंदगी न करें। नर्मदा नदी में मृत्यु के बाद किये जाने वाले दाह संस्कार के लिये मुक्तिधाम बनाये जायेंगे। नर्मदा नदी के प्रत्येक घाट पर चेंजिंग रूम बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान का उल्लेख करते हुए कहा कि बेटियों के साथ अत्याचार करने वाले हैवानों को मृत्यु दण्ड देने का प्रावधान कानून में किया जायेगा। इसके लिये सरकार प्रयास करेगी। अलीराजपुर जिले में खुलेगा पतंजलि स्कूल योग गुरू बाबा रामदेव ने कहा कि अलीराजपुर जिले में एक पतंजलि स्कूल खोला जायेगा। स्कूल में 2 हजार बच्चों को प्रवेश दिया जायेगा और यहाँ एलोवेरा, आँवला और हर्बल प्लांट लगाने वाले किसानों से पतंजलि द्वारा उनका उत्पाद क्रय किया जायेगा। बाबा रामदेव ने कहा कि नशा नाश की जड़ है। इससे मनुष्य का शरीर क्षीण होता है। बाबा रामदेव ने मंच से उपस्थित नागरिकों को योग भी सिखाया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस मौके पर छकतला में पाइप लाइन के जरिये नर्मदा नदी का जल लाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यहाँ के आस्था और विश्वास का केन्द्र काजल माता मंदिर का पुर्नउद्धार किया जायेगा। इसका सौंदर्यीकरण भी किया जायेगा। श्री चौहान ने संवाद कार्यक्रम की शुरूआत कन्या-पूजन से की। उन्होंने कन्याओं के पैर धोकर उनका पूजन किया। इसके पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान सपत्नीक छकतला में नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल हुए। श्रीमती साधना सिंह ने सिर पर कलश और मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यात्रा-ध्वज थाम रखा था। साथ में बाबा रामदेव और जैन मुनि लोकेश मुनि, मध्यप्रदेश खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डे, श्री बी.डी. शर्मा, विधायक श्री नागर सिंह चौहान और श्री माधव सिंह डाबर भी उपस्थित थे। ग्राम छकतला में जन-संवाद में महाराष्ट्र, गुजरात और मध्यप्रदेश के सीमावर्ती गाँवों के ग्राम बुरमा, कवड़ा, गामपुर, जलबठ और सोंडवा तहसील के हजारों की संख्या में नागरिक, महिला और बच्चे उपस्थित थे। 'नमामि देवि नर्मदे'-सेवा यात्रा का भोपालिया, कठवाड़, मधु पल्लवी, सिलोटा में भव्य स्वागत किया गया। यात्रा का अगला पड़ाव ग्राम उमराली में होगा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 February 2017

बिजली गिरने से  18 लोगों की मौत

  मध्यप्रदेश में अनेक स्थानों पर छिटपुट वर्षा हुई लेकिन इस दौरान बिजली गिरने की घटनाओं में 18 लोगों की मौत हो गई। ये मौतें उज्जैन, मंदसौर, आगर, राजगढ़ और गुना जिलों में हुई। मालवा अंचल में बदले मौसम के बीच शनिवार को बिजली गिरने से 6 लोगों की मौत हुई है। उज्जैन के ग्राम करोंदिया में रेशमबाई , ग्राम धुलेटिया में मंजू और केशरपुर (थाना घट्टिया) में सोयाबीन काटने आए बजरंगगढ़ (रतलाम) निवासी सैतान भील की मौत हो गई। मंदसौर जिले में पांच स्थानों पर बिजली गिरी। इसमें दो लोगों की मौत हो और 8 लोग घायल हो गए। आगर के ग्राम ताखला में बिजली गिरने से विनोद विश्वकर्मा की मौत हुई। पांच गांवों में गिरी बिजली राजगढ़ जिले के पांच गांवों में शनिवार को बिजली गिरने से 6 लोगों की मौत हो गई और 16 लोग झुलस गए। खुजनेर ब्लॉक के पाटनकलां गांव में खेत में उस वक्त बिजली गिरी जब मजदूर सोयाबीन काट रहे थे। यहां 2 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई और 15 झुलस गए। प्रभुलाल तंवर , सुनीताबाई की मौत हो गई और 7 मजदूर झुलस गए। उधर कल्पोनी गांव में रतनबाई सौंधिया, पटाड़ियाधाकड़ में संतोषबाई और भादाहेड़ी गांव में चौथमल दांगी , उसकी पत्नी कौशल्या की मौत हो गई। खिलचीपुर ब्लॉक के भादाहेड़ी में एक दंपती और पचोर ब्लॉक के पटाड़िधाकड़ व कल्पोनी में दो महिलाओं की जान चली गई। ब्यावरा कलां गांव में युवक झुलस गया। भाई-बहन सहित छह की मौत गुना में कैंट थाना क्षेत्र के गोपालपुरा में शनिवार दोपहर घर की सर्विस लाइन पर बिजली गिर गई। इससे लाइन में फाल्ट हो गया और बिजली के तार टूटकर लोहे के गेट पर गिर गए। घर में करंट फैल गया जिससे राहुल और उसकी बहन संगीता की मौत हो गई। चांचौड़ा ब्लॉक के कीताखेड़ी और तेलीगांव रोड के पास खेत पर सोयाबीन की फसल काट रहे मजदूरों पर भी बिजली गिर गई। इससे रमेश कुशवाह व रोडीबाई की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि सावित्रीबाई की हालत गंभीर है। बीनागंज के नजदीक बीजनीपुरा में बिजली गिरने से जानकी मोगिया की मौत हो गई। गायत्री मोगिया गंभीर रूप से घायल हुई है। कुंभराज तहसील के सांकाकला गांव में श्यामलाल की मौत हो गई और उसकी पत्नी प्रेमबाई घायल हो गई। मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त चांचौड़ा ब्लॉक के कीताखेड़ी गांव में शनिवार दोपहर राधाकृष्ण मंदिर के शिखर पर बिजली गिरने से वह क्षतिग्रस्त हो गया। दो भैंसों की मौत राघौगढ़ नपा क्षेत्र के तहत वार्ड क्रमांक 12 के बरखेड़ी मेवाती गांव में दो भैंसों की मौत हो गई।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 October 2016

bhabhra narendr  modi

  आजाद के भाभर में बोले प्रधानमंत्री मोदी      मध्यप्रदेश के आलीराजपुर में प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने कश्मीर के मसले पर कहा पीड़ा है कि जिन बालकों के हाथ में लैपटॉप, किताब, बैट होना चाहिए, मन में सपने होने चाहिए उनके हाथ में पत्थर होते हैं।   मंगलवार को शहीद चंद्रशेखर आजाद की जन्मस्थली भाभरा पहुंचे मोदी ने आजाद को श्रद्धांजलि दी। याद करो कुर्बानी प्रोग्राम की शुरुआत करते हुए मोदी   ने कश्मीर हिंसा पर  32 दिन बाद चुप्पी तोड़ी। कहा- पीड़ा है कि जिन बालकों के हाथ में लैपटॉप, किताब, बैट होना चाहिए, मन में सपने होने चाहिए उनके हाथ में पत्थर होते हैं।    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा हर हिंदुस्तानी का सपना होता है कि कभी न कभी कश्मीर जाएं। वहां कुछ मुठ्ठी भर लोग, गुमराह लोग कश्मीर की महान परंपरा को नुकसान पहुंचा रहे हैं। अटल बिहारी वाजपेयी जी ने , उन्होंने एक मार्ग अपनाया था। देश के आजादी के दीवानों ने जो ताकत देश को दी है वही, ताकत कश्मीर को भी दी है। जो ताकत गर हिंदुस्तानी महसूस करता है। वह ताकत कश्मीरी भी महसूस करता है। कश्मीर को हम नई ऊंचाईयों पर लेना चाहते हैं।मैं जम्मू-कश्मीर की सरकार को बधाई देता हूं कि उनकी कोशिशों से अमरनाथ यात्रा चल रही है। कश्मीर के यूथ को आवाहान करता हूं कि आईए मेरे भाईयों हम कश्मीर को स्वर्ग बनाएं।   मोदी ने आजादी पर क्या कहा आजादी पर मोदी ने कहा शहीदों ने  अपना सबकुछ अपने देश के लिए समर्पित कर दिया। हमारा दायित्व बनता है कि हमारे लिए आजादी दिलाने वाले इन महापुरुषों को याद करते रहें । उन्होंने जिस भारत का सपना देखा। उन्होंने जो संकल्प लिया था। आज हम उसे पूरा करने का संकल्प लें।   यहां पहली बार हुआ किसी पीएम का दौरा यह इलाका गुजरात की सीमा से सटा है। यहां पहली बार कोई प्रधानमंत्री पहुंचा है। बता दें कि शिवराज सरकार ने आजाद के सम्मान में भाभरा का नाम बदलकर चंद्रशेखर आजाद नगर कर दिया था। वहीं, इस कस्बे के जिस मकान में 23 जुलाई 1906 को आजाद का जन्म हुआ था, उसे स्मारक के रूप में विकसित कर आजाद स्मृति मंदिर का नाम दिया था। इस स्मारक में छोटा-सा म्यूजिम भी है।   क्या है आजादी 70 साल याद करो कुर्बानी प्रोग्राम ? केंद्र सरकार आजादी की 70वीं और भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं एनिवर्सरी को जरा याद करो कुर्बानी के रूप में मना रही है। सोमवार को बीजेपी संसदीय दल की मीटिंग के बाद केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वैंकेया नायडू ने बताया था - 75 मंत्रियों को देश भर में ऐसी डेढ़ सौ जगहों पर जाने के लिए कहा गया है, जहां या तो शहीदों के स्मारक हैं या उनकी जन्मस्थली है। पीएम की इसकी शुरुआत आजाद की जन्मस्थली भाभरा से की ।   वेंकय्या नायडू ने कहा था- 15 अगस्त से एक हफ्ते की तिरंगा यात्रा नायडू ने बताया था- इस अभियान का मकसद यह भावना विकसित करना है कि राष्ट्र पहले है, व्यक्ति बाद में।यह लोगों को स्वतंत्रता सेनानियों के आजादी की लडाई में दिए गए महान बलिदान की याद दिलाएगा। सांसदों और विधायकों से अपने क्षेत्रों में तिरंगा यात्रा में भाग लेने को कहा गया है।   प्रधानमंत्री विशेष विमान से पहुंचे इंदौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विशेष विमान से इंदौर पहुंचे, यहां सीएम शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया। कुछ ही देर में वे हेलिकॉप्टर द्वारा चंद्रशेखर आजाद नगर(भाबरा) के लिए रवाना हो गए। जहां वे शहीद चंद्रशेखर स्माकर पर पुष्पमाला अर्पित की  और फिर सभा में शामिल हुए ।    कार्यक्रम के मुताबिक पीएम का हेलिकॉप्टर झोतराड़ा के हेलिपेड पर उतरा । इसके बाद वे कार द्वारा 7 किमी दूर आजादनगर जाकर आजाद कुटिया में शहीद चंद्रशेखर आजाद को पुष्पांजलि अर्पित कर पुन: झोतराड़ा आकर सभा को संबोधित किया ।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 August 2016

केंद्र के रोड ट्रांसपोर्ट सेफ्टी बिल  पर मप्र को आपत्ति

केंद्र सरकार द्वारा आगामी लोकसभा सत्र के दौरान लाए जाने वाले रोड ट्रांसपोर्ट एवं सेफ्टी बिल 2014 के कई प्रावधानों पर राज्य सरकार ने आपत्ति दर्ज कराई है। बिल में केंद्र तथा राज्य में अलग-अलग प्राधिकरण गठित करने, सभी प्रकार के वाहन परमिट जारी करने के अधिकार प्राधिकरण को सौंपने, केंद्र और राज्य के प्राधिकरण में नियुक्ति केंद्र सरकार द्वारा किए जाने, राज्य प्राधिकरण के अध्यक्ष को उच्च न्यायालय की जांच पश्चात हटाए जाने के मामले में राज्य सरकार केंद्र के समक्ष स्वयं मंत्री और मुख्यमंत्री अपनी आपत्तियां दर्ज कराएंगे। वैसे इस आशय का प्रस्ताव केन्द्र को भेजा जा चुका है। इसमें सुधार के लिए भी राज्य सरकार ने कई सुझाव केन्द्र को भेजे हैं। केन्द्र सरकार द्वारा लाए जा रहे रोड ट्रांसपोर्ट एवं सेफ्टी बिल 2014 के कई प्रावधानों से राज्य सरकार सहमत नहीं है। केन्द्र जो बिल लेकर आ रही है, उसमें महत्वपूर्ण मुद्दा सड़क परिवहन पूरी तरह से केंद्र सरकार के अधीन होगा, इसके संचालन के लिए केंद्र स्तर पर दो स्वायत्त प्राधिकार स्थापित होंगे। राष्ट्रीय प्राधिकरण और राज्य प्राधिकरण में अध्यक्ष एवं सदस्यों की नियुक्ति का अधिकार केंद्र सरकार का होगा, केंद्र के प्राधिकरण को जहां धारा 12, 13 एवं 15 में अधिकार दिए जाएंगे, वहीं राज्य के प्राधिकरण को मात्र धारा 30 में अधिकार दिए गए हैं। यानी राज्य का प्राधिकरण केन्द्रीय प्राधिकरण के अधीनस्थ काम करेगा और सड़क परिवहन से संबंधित सभी नियमन के अधिकार राष्ट्रीय प्राधिकरण को सौंपे जाएंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

मध्यप्रदेश में सुशासन के लिये मंथन

शासन की प्रक्रियाओं में बदलाव जरूरी प्रदेश में शासन-प्रशासन की प्रक्रियाओं को अधिक लोकोन्मुखी बनाने और लोक सेवाओं के प्रदाय को प्रभावी बनाने के लिये शुरू की गई विचार-विमर्श की प्रक्रिया मंथन - 2014 में विभिन्न मुद्दों पर करीब 450 अनुशंसाएँ और सुझाव प्राप्त हुए। स्थानीय प्रशासन अकादमी में आयोजित मंथन - 2014 के समापन सत्र को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बदलती परिस्थितियों के अनुरूप लोकहित में शासन-प्रशासन की प्रक्रियाओं में बदलाव जरूरी है।श्री चौहान ने कहा कि हितग्राहीमूलक योजनाओं के संबंध में समग्र व्यवस्था, अधोसंरचना निर्माण, स्वास्थ्य-शिक्षा-सार्वजनिक वितरण प्रणाली, नियामक सेवाएँ, प्रशासनिक सुधार, वित्तीय संसाधनों को बढ़ावा-संसाधनों का अधिकतम उपयोग तथा आधुनिक तकनीक का उपयोग जैसे विषयों पर प्राप्त अनुशंसाओं पर संबंधित विभागों से एक माह के अंदर टिप्पणियाँ आमंत्रित की जायेंगी। विभागों से कहा गया है कि वे एक बार पुन: अनुशंसाओं पर गंभीरतापूर्वक विचार करें। मुख्य सचिव श्री अंटोनी डिसा इस कार्य का समन्वय करेंगे। इसके बाद वित्त एवं संबंधित विभागों की आपसी सहमति और मंत्रिमंडलीय समिति के अनुमोदन के बाद उन्हें निर्णय के रूप में लागू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रक्रियाओं और कानूनों में भी लोकहित की दृष्टि से बदलाव किया जायेगा।श्री चौहान ने कहा कि संबंधित विषयों पर विचार-विमर्श के लिये गठित समूहों की ऐसी अनुशंसाएँ जो अत्यंत व्यवहारिक और लागू करने योग्य हैं उन्हें तत्काल प्रभाव से निर्णय के रूप में लागू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि संबंधित विभाग आवश्यकतानुसार विषय-विशेषज्ञों की सेवाएँ भी ले सकते हैं।उल्लेखनीय है कि शासन-प्रशासन को लगातार सुदृढ़ और प्रभावी बनाने के लिये शुरू की गई विचार-विमर्श की श्रंखला में यह तीसरा मंथन कार्यक्रम था।हितग्राहीमूलक योजनाओं के संबंध में गठित समूह का प्रस्तुतीकरण अपर मुख्य सचिव श्रीमती अरूणा शर्मा, वित्तीय संसाधनों को बढ़ावा-संसाधनों का अधिकतम उपयोग पर गठित समूह का प्रस्तुतीकरण अपर मुख्य सचिव श्री अजय नाथ, स्वास्थ्य-शिक्षा-सार्वजनिक वितरण प्रणाली पर गठित समूह का प्रस्तुतीकरण अपर मुख्य सचिव श्री एस.आर. मोहंती, अधोसंरचना निर्माण के लिये गठित समूह का प्रस्तुतीकरण प्रमुख सचिव जल संसाधन आर.एस जुलानिया, नियामक सेवाओं पर गठित समूह का प्रस्तुतीकरण प्रमुख सचिव गृह बी.पी. सिंह, प्रशासनिक सुधार पर गठित समूह का प्रस्तुतीकरण प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन के. सुरेश और आधुनिक तकनीक का उपयोग पर गठित समूह का प्रस्तुतीकरण अपर मुख्य सचिव एम.एम. उपाध्याय ने दिया। समूह द्वारा दिये गये प्रस्तुतीकरण के बाद उपस्थित विभागीय मंत्रियों तथा अधिकारियों ने सुझाव दिये।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

मिर्ची  से जिन्दगी में आई मिठास

अलीराजपुर जिले के जोबट विकासखण्ड में रहने वाला सुरसिंह चंद वर्षों में ही मिर्च का उत्पादन कर लखपति बन गया। मिर्च से हुए लाखों रूपये के मुनाफे ने उसकी जिन्दगी में मिठास घोल दी है।सुरसिंह राज्य शासन द्वारा क्रियान्वित मसाला मिर्च क्षेत्र विस्तार के तहत लाभान्वित हुआ है। ग्राम सेवरिया के इस किसान को वर्ष 2010-11 में एक हेक्टेयर कृषि भूमि की टपक सिंचाई के लिये 80 प्रतिशत अनुदान के रूप में 12 हजार 500 रूपये की मदद मिली थी। यह मदद छोटी जरूर थी पर जीवन में उन्नति के लिये बड़ी साबित हुई। सुरसिंह ने तालाब से 2 हजार फीट की दूरी पर पक्का कुआं बनाया और इस कुएं से टपक सिंचाई के जरिए मिर्च की भरपूर पैदावार ली। इस पैदावार से चार लाख का मुनाफा हुआ। अब वह प्रतिदिन जोेबट की होटलों पर मिर्च का विक्रय करते हैं। सुरसिंह का कहना है कि शासन की मदद से उनके जीवन में नया सवेरा आया। मिर्ची की फसल से उसकी आर्थिक स्थिति सुधरी तथा उसने एक पक्का मकान भी बनवा लिया है। अब वह अपने बच्चों को अच्छे स्कूलों में भेज रहा है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

अलीराजपुर जिले के लिये माँ नर्मदा लिंक सिंचाई परियोजना

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि अलीराजपुर जिले के लिये मॉ नर्मदा वनवासी लिंक परियोजना स्वीकृत हो गई है। पहले चरण के लिये 582 करोड़ रूपये भी मंजूर हो गये हैं। उन्होंने कहा कि परियोजना का जल्द ही शिलान्यास किया जायेगा। परियोजना से आदिवासी जिले अलीराजपुर की तस्वीर के साथ-साथ तकदीर भी बदल जायेगी। श्री चौहान जिले के चन्द्रशेखर आजाद नगर में अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की जयन्ती के अवसर पर आजाद मेला को सम्बोधित कर रहे थे।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिले की जोबट परियोजना के विस्तार को भी मंजूरी दी जायेगी। रूपये 157 करोड़ से परियोजना का विस्तार किया जायेगा। इससे 22 ग्राम की 10 हजार हेक्टेयर भूमि में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। उन्होंने कहा कि भाभरा में नये आईटीआई की माँग को भी पूरा करने की बात कही। मुख्यमंत्री ने जोबट और भाभरा की नगर परिषद में विकास कार्यों के लिये एक-एक करोड़ की स्वीकृति देने की घोषणा की। श्री चौहान ने जोबट के लिये 12 करोड़ 51 लाख की लागत से मुख्यमंत्री पेयजल योजना तथा सेंजवाड़ा में एकलव्य आदिवासी छात्रावास की भी स्वीकृति दी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने एक बच्ची के इलाज के लिये एक लाख तथा करंट से बालक की मृत्यु पर परिजनों को एक लाख रूपये की सहायता मंजूर की।मुख्यमंत्री चौहान ने चन्द्रशेखर आजाद की शहादत को याद करते हुए कहा कि देश में क्रान्तिकारी लहर ने अंग्रेजों के पैर उखाड़ने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने देश के इतिहास में क्रान्तिकारियों को सम्मान से याद किये जाने पर बल दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब और आदिवासियों के विकास में कोई कसर बाकी नहीं रखी जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने फैसला लिया है कि आदिवासियों के आईआईटी, आईआईएम में प्रवेश लेने वाले और डॉक्टर, इंजीनियर की शिक्षा ले रहे बच्चों के एडमिशन की फीस का खर्चा राज्य सरकार उठाएगी। यह भी निर्णय लिया है कि 11वीं व 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को भोजन व शिष्यवृत्ति भी दी जायेगी। विदेश में यदि किसी अधिकृत विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा के लिये प्रवेश लेते हैं तो 15 से 20 लाख रूपये तक की फीस का खर्चा राज्य सरकार वहन करेगी।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आदिवासी भाइयों की माँग पर रामदेवरा तीर्थ-स्थल को मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में जोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि वनाधिकार पट्टे से वंचित रह गये ऐसे आदिवासी, जिनका वर्षों से वन भूमि पर कब्जा है, को वनाधिकार पट्टे दिये जायेंगे।श्रम एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अंतरसिंह आर्य, विधायक माधोसिंह डावर, नागरसिंह चौहान तथा अमरदीप मौर्य ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। संचालन स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने किया।अन्त्योदय मेले में मुख्यमंत्री चौहान द्वारा हितग्राहियों को प्रतीक स्वरूप लाड़ली लक्ष्मी योजना के स्वीकृति पत्र, एनआरएलएन, शौचालय, नलकूप, बलराम तालाब, बायोगैस, उद्योग विभाग की योजनाओं के स्वीकृति-पत्र एवं आदान सामग्री का वितरण किया गया। कुल 15 करोड़ 74 लाख रूपये के स्वीकृति-पत्र और आदान सामग्री वितरित की गई।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat 

Video

Page Views

  • Last day : 2842
  • Last 7 days : 18353
  • Last 30 days : 71082
Advertisement
Advertisement
Advertisement
All Rights Reserved ©2017 MadhyaBharat News.