Since: 23-09-2009

  Latest News :
बाबा साहब के सपनों को साकार करने वाली सरकार चुनें : मायावती.   भाजपा का संकल्प पत्र देशवासियों की एंबीशन पूरा करने का मिशन- प्रधानमंत्री.   फिल्म अभिनेता सलमान खान के घर के बाहर फायरिंग.   इजरायल-ईरान संघर्ष के हालात पर भारत की दोनों पक्षों से संयम बरतने की अपील.   प्रधानमंत्री मोदी की गेमिंग क्षमता से प्रभावित हुए युवा गेमर्स ने उन्हें ‘नमो ओपी’ दिया नाम.   अगर नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं होते तो राम मंदिर का निर्माण नहीं हो पाता : राज ठाकरे.   प्रदेश में सबसे ज्यादा अपराध आदिवासी वर्ग पर हो रहे हैं: जीतू पटवारी.   44 घंटे तक रेस्क्यू के बाद भी बोरवेल में गिरे मासूम की नहीं बच पाई जान.   भाजपा ने बाबा साहब के योगदान को नई पहचान दीः नरेन्द्र मोदी.   जिन लोगों ने बाबा साहब को संसद जाने से रोका वही उनके नाम पर वोट मांग रहे : मुख्यमंत्री डॉ. यादव.   रीवा में बोरवेल में गिरे मासूम को निकालने के लिए रेस्क्यू जारी.   मां के साथ खेत पर गई दो बहनें तालाब में डूबी.   सड़क दुर्घटना में दो सगे भाइयों समेत तीन युवकों की मौत.   मैनपाट में घर में लगी आग की चपेट में आकर तीन बच्चे जिंदा जले.   बसपा ने छग की तीन सीटों के लिए की उम्मीदवारों की घोषणा.   सरोना ट्रेचिंग ग्राउंड को 5 दिन के भीतर साफ करने का अल्टीमेटम.   कोरबा में स्कूल वैन दुर्घटनाग्रस्त सात घायल.   कांग्रेस उम्मीदवार कवासी लखमा पर तीन थानों में दर्ज हुई एफआईआर.  

श्योपुर News


seopur, Tractor-trolley ,hits bike

श्योपुर। शहर में रेत, भूसे से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली मौत की रफ्तार से बेखौफ शहर की सड़कों पर दौड़ रही हैं। इससे आए दिन हादसे भी हो रहे हैं, बावजूद परिवहन विभाग की नींद नहीं टूट रही हैं। बीते 15 दिनों में पांच लोगों की मौत ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के टक्कर मारने से हो गई। ऐसा दर्दनाक हादसा शुक्रवार की दोपहर वीरपुर में हुआ, जहां अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली ने बाइक में टक्कर मार दी, जिससे बाइक सवार 8 वर्षीय मासूम बालक सहित दो लोगों की मौत हो गई। वहीं दो महिलाए गंभीर रूप से घायल हो गई, जिन्हें इलाज के लिए रेफर किया गया। हादसे में जिन लोगों की मौत हुई वह आपस में चाचा-भतीजे हैं। घटना के बाद आक्रोशित लोगों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली में आग लगा दी, वहीं शवों को एमएस रोड रखकर चार घंटे तक चक्काजाम लगा दिया। विवाद को बढ़ता देख चार थानों की पुलिस मौके पर बुलाई गई वहीं जिलाधीश लोकेश कुमार जांगिड़, पुलिस अधीक्षक अभिषेक आंनद भी मौके पर पहुंच गए। जानकारी के अनुसार शुक्रवार की दोपहर चंबल नदी से एक ट्रैक्टर-ट्रॉली रेत भरकर वीरपुर की तरफ जा रही थी। ट्रैक्टर-ट्रॉली इतनी तेज रफ्तार में थी सामने से आ रही बाइक में टक्कर मार दी। हादसे में बाइक पर सवार 8 वर्षीय अभिषेक और उसके 22 वर्षीय चाचा जितेन्द्र उर्फ जीतू केवट की मौत हो गई। वहीं 30 वर्षीय सिया बाई पत्नी जितेंद्र केवट, 19 वर्षीय कुसुम पुत्री महेश केवट गंभीर रूप से घायल हो गई, जिन्हें उपचार के लिए विजयपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उनकी गंभीर हालत को देखते हुए मुरैना रेफर कर दिया है, जहां उनकी भी हालत नाजुक बताई जा रही है। हादसे के बाद चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस ने मामल दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।   चार घंटे शव रखकर लगाया जाम, ट्रैक्टर-ट्रॉली में लगाई आग: ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर से जिन लोगों की मौत हुई उससे परिजन व लोग आक्रोशित हो गए। आक्रोशित लोगों ने शव को हाइवे पर चक्काजाम कर दिया। 4 बजे से शुरू हुआ चक्काजाम शाम 7 बजे तक चला। गुस्साएं लोगों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली में आग लाग दी, जिससे ट्रैक्टर-ट्रॉली खाक हो गए। चक्काजाम से हाइवे के दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइन लग गई। जिलाधीश, पुलिस अधीक्षक के आश्वासन के बाद भीड़ ने जाम हटाया। इस दौरान चार थानों की पुलिस, तहसीलदार सिद्धार्थ गौतम, नायब तहसीलदार सुमेर प्रजापति एवं विजयपुर एसडीओपी राजेश तिवारी मौके पर पहुंचे।   फायर बिग्रेड को बैरंग लौटाया: ट्रैक्टर में आग लगने की घटना के बाद प्रशासन ने आग बुझाने के लिए फायर बिग्रेड बुलाई, लेकिन भीड़ ने आग नहीं बुझाने दी। लोगों ने काफी समझाया, लेकिन लोग माने नहीं। ऐसी स्थिति में फायर बिग्रेड को बेरंग ही वापस लौटना पड़ा। लोगों ने एक युवक की कार के शीशे पत्थरबाजी करके तोड़ दिए हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 March 2024

seopur, Namibian Cheetah Jwala, Madhya Pradesh

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया की चीता ज्वाला ने तीन नहीं चार शावकों को जन्म दिया है। यह जानकारी केंद्रीय पर्यावरणमंत्री भूपेंद्र यादव ने आज एक्स हैंडल पर साझा की है। कल उन्होंने कहा था कि ज्वाला ने तीन शावक जन्मे हैं।   केंद्रीयमंत्री यादव ने आज एक्स हैंडल पर लिखा है, ''जैसे ही अग्रिम पंक्ति के वन्यजीव योद्धा ज्वाला के करीब पहुंचने में कामयाब रहे, उन्होंने पाया कि उसने तीन नहीं, बल्कि चार शावकों को जन्म दिया है। इससे हमारा आनंद कई गुना बढ़ गया है। सभी को बधाई। हम प्रार्थना करते हैं कि शावक भारत में अपने घर में फलें-फूलें और समृद्ध हों।'' उल्लेखनीय है कि कूनो नेशनल पार्क में दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से दो चरणों में 20 चीता लाए गए थे। कूनो राष्ट्रीय उद्यान (कूनो नेशनल पार्क) संरक्षित क्षेत्र है। इसकी स्थापना 1981 को वन्य अभयारण्य के रूप में की गई थी। यह राज्य के श्योपुर और मुरैना जिलों पर विस्तारित है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 January 2024

koono national park mein ek aur cheeteh ki maut

कूनो नेशनल पार्क में दक्षिण अफ्रीका से लाए गए चीतों में से एक फीमेल चीते दक्षा की मौत हो गई।दक्षा को इसी साल लाया गया था। मुख्य वन्य संरक्षक जेएस चौहान ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मेल चीते को दक्षा के बाड़े में मेटिंग के लिए भेजा गया था। मेटिंग के दौरान ही दोनों में हिंसक इंटरैक्शन हो गया। मेल चीते ने पंजा मारकर दक्षा को घायल कर दिया था।कूनो नेशनल पार्क की मॉनिटरिंग टीम को दक्षा घायल हालत में मंगलवार सुबह मिली थी। उसे इलाज के लिए ले जाया गया। दोपहर करीब 12 बजे उसकी मौत हो गई। पिछले डेढ़ महीने में कूनो नेशनल पार्क में 3 चीतों की मौत हो चुकी है। यहां अब 17 चीते ही बचे हैं।दक्षा को एक नंबर बाडे़ में रखा गया था। पिछले दिनों कूनो में हुई चीता टास्क फोर्स के अधिकारियों की मीटिंग में 7 नंबर बाड़े में मौजूद दक्षिण अफ्रीका से लाए गए मेल चीते कोयलिशन, अग्नि और वायु को फीमेल चीता से मिलाने का निर्णय लिया गया था। 7 और 1 नंबर बाड़े के बीच की जाली को हटाकर उन्हें एक साथ कर दिया गया था।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 May 2023

bhopal,  leopard died , Kuno

भोपाल। मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में स्थित कूनो नेशनल पार्क में एक और चीते की मौत हो गई। दक्षिण अफ्रीका से लाए गए नर चीता उदय ने यहां बीमार पड़ने के बाद रविवार शाम इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मौत के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। मध्यप्रदेश के मुख्य वन संरक्षक जेएस चौहान ने चीता उदय की मौत की पुष्टि की है। इसके पहले 27 मार्च को नामीबिया से लाई गई मादा चीता साशा की किडनी की बीमारी से मौत हो चुकी है। कूनो में अब 18 चीते और चार शावक बचे हैं। दरअसल, नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका से लाए गए चीतों को कूनो राष्ट्रीय उद्यान में रखा गया था। यहां दक्षिण अफ्रीका से लाए गए 12 चीतों में से एक नर चीते की रविवार शाम मौत हो गई। हाल ही में इसका नाम "उदय" रखा गया था। कूनो प्रबंधन के अनुसार सुबह चीता सुस्त देखा गया। स्वास्थ्य परीक्षण में बीमार मिलने के बाद उसे तुरंत उपचार भी शुरू कर दिया गया, परंतु शाम चार बजे उसने दम तोड़ दिया। चीते की मौत का स्पष्ट कारण अभी पता नहीं चल पाया है। पोस्टमार्टम के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा। रविवार देर शाम राष्ट्रीय उद्यान वन विहार द्वारा जारी किए गए बयान के अनुसार रविवार सुबह नौ बजे चीते की दैनिक निगरानी के लिए दल द्वारा बाड़ा नंबर दो में मौजूद नर चीता उदय को सर झुकाए सुस्त अवस्था में बैठा पाया गया। करीब जाने पर वह लड़खड़ा कर एवं गर्दन झुका कर चलता मिला। हालांकि, एक दिन पहले वह स्वस्थ पूरी तरह था। उसकी शिथिलता की सूचना वायरलेस द्वारा तत्काल अन्य बाड़ों में चीता की निगरानी कर रहे वन्यप्राणी चिकित्सकों को दी गई। चिकित्सक दल ने तत्काल उसकी जांच की और बीमार घोषित किया। मौके पर मौजूद वन्यप्राणी चिकित्सकों एवं चीता कंजरवेशन फंड के चीता विशेषज्ञ ने उसे ट्रेंकुलाइज (बेहोश) करने की आवश्यकता महसूस की। मुख्य वन संरक्षक व प्रधान मुख्य वन संरक्षक से परामर्श व स्वीकृति के बाद 11 बजे उसे बेहोश कर मौके पर ही उपचार शुरू किया गया। उपचार के दौरान ही शाम लगभग चार बजे उसकी मौत हो गई। कूनो में किडनी की बीमारी से चीता साशा की मौत के मामले में कूनो प्रबंधन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने दावा किया था कि भारत लाए जाने के पहले ही वह बीमारी से ग्रसित थी। तब अधिकारियों ने अन्य सभी चीतों के पूरी तरह स्वस्थ होने का दावा किया था। मगर, एक और चीते की मौत ने अधिकारियों के दावे पर सवाल खड़े कर दिए हैं। बता दें कि चीता पुनर्स्थापना प्रोजेक्ट के तहत 17 सितंबर 2022 को नामीबिया से आठ और 18 फरवरी 2023 को दक्षिण अफ्रीका 12 चीते लाए गए थे, जिनमें से दो की मौत हो चुकी है। हालांकि, इस दौरान सियाया मादा चीता ने चार शावकों को जन्म भी दिया है। केंद्रीय वन मंत्रालय ने 20 अप्रैल को भी दी थी चीते के स्वस्थ होने की जानकारी   दक्षिण अफ्रीका से आए उदय चीते की मौत से स्वास्थ्य पर निगरानी रख रहा दल, इसलिए भी सवालों के घेरे में आया गया है, क्योंकि चीतों के नामकरण के दिन 20 अप्रैल को केद्रीय वन मंत्रालय ने बयान जारी कर सभी 19 चीतों और चार शावकों के स्वस्थ होने की जानकारी दी थी। 18 फरवरी को दक्षिण अफ्रीका से जब 12 चीतों को कूनो नेशनल पार्क में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रिलीज किया था तब कूनो में इनका कुनबा 20 तक जा पहुंचा था। दो माह की क्वारंटाइन अवधि पूरी होने के बाद 17 व 19 अप्रैल को इन सभी चीतों को बड़े बाड़े में छोड़ा गया था। उस समय भी इनकी स्वास्थ्य जांच हुई। अब प्रधान मुख्य वन्य सरंक्षक जेएस चौहान का कहना है कि सुबह 11 बजे की जांच में ही चीते को अस्वस्थ पाया गया और शाम होते-होते उसे बचाया नहीं जा सका। सोमवार को जबलपुर वेटनरी यूनिर्विसिटी के डाक्टर व भोपाल के वन्यजीव विशेषज्ञ डाक्टर की टीम कूनो पहुंचकर पोस्टमार्टम करेगी तब मौत के कारणों का पता चल सकेगा। बताया गया है कि उदय पूरी तरह स्वस्थ्य था लेकिन अचानक बीमार हो गया। आंशका ये जताई जा रही है कि उसे किसी जरहीले कीड़े ने काटा था, जिस वजह से उसकी मौत हुई है। लेकिन मौत कैसे हुई इसकी पुष्टि पीएम रिपोर्ट आने के बाद होगी। जहरीले कीड़े काटने को लेकर अधिकारियों द्वारा साफ इनकार किया जा रहा है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 April 2023

bhopal, Female cheetah,Kuno National Park

श्योपुर/भोपाल। मध्य प्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान से बुधवार को एक खुशखबरी सामने आई है। यहां नामीबिया से लाई गई मादा चीता सियाया ने चार शावकों को जन्म दिया है। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने चीतों का फोटो और वीडियो ट्विटर पर शेयर किया है। उन्होंने इसके लिए प्रोजेक्ट चीता की पूरी टीम को भी बधाई दी है। भूपेंद्र यादव ने शावकों की फोटो और वीडियो ट्विटर पर साझा करते हुए लिखा है कि बधाई हो अमृत काल के दौरान हमारे वन्य जीव संरक्षण के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना घटी है। यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में 17 सितंबर को भारत लाए गए चीतों में से एक ने चार शावकों को जन्म दिया है। कूनो उद्यान के डीएफओ पीके वर्मा ने बताया कि कूनो के बाड़ा नंबर चार और पांच जुड़े हुए हैं। पांच नंबर बाड़े में तीन साल की सियाया थी। इस बाड़े में सियाया के साथ एक अन्य मादा चीता को रखा गया था, जबकि चार नंबर बाड़े में नर चीता फ्रेडी और आल्टन को रखा गया था। इन दोनों नर चीतों को बाडे़ में छोड़ा गया था। संभावना है कि एल्डन या फ्रेडी से मेटिंग के बाद सियाया मां बनी है। सियाया ने दो से तीन दिन पहले चार शावकों को जन्म दिया है। हालाकि कूनो प्रबंधन को बुधवार सुबह ही पता लगा है। माना जा रहा है इन शावकों का जन्म 24 मार्च को जन्म हुआ है। माना जा रहा है कि सियाया के प्रेग्नेंट होने की जानकारी 20 दिन पहले ही कूनो उद्यान प्रबंधन को मिली थी। तभी से उसे विशेष निगरानी में रखा गया था।     उल्लेखनीय है कि पिछले साल 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने जन्मदिन पर नामीबिया से लाए गए आठ चीतों को कूनो उद्यान में छोड़ा था, जिन्हें 50 दिन छोटे बाड़ों में क्वारेंटाइन रखने के बाद बड़े बाड़े में शिफ्ट कर दिया गया। इसके बाद विगत फरवरी में ही दक्षिण अफ्रीका से 12 चीतों की दूसरी खेप कूनो लाई गई। इन्हें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने यहां क्वारेंटाइन बाड़ों में रिलीज किया था। इसके बाद यहां चीतों की कुल संख्या 20 हो गई थी, लेकिन दो दिन पहले मादा चीता साशा की मौत के बाद यह संख्या घटकर 19 रह गई थी। चार शावकों के जन्म के बाद यहां चीतों की संख्या 23 हो गई है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 March 2023

bhopal, Chief Minister , 12 leopards , Kuno Park

श्योपुर/भोपाल। दक्षिण अफ्रीका से लाए गए 12 चीते शनिवार को ग्वालियर होते हुए कूनो नेशनल पार्क पहुंच गए। उन्हें वायु सेना के विशेष विमान सी-17 ग्लोब मास्टर से ग्वालियर एयरपोर्ट लाया गया और यहां से वायुसेना के तीन चिनूक हेलीकाप्टर से उन्हें कूनो नेशनल पार्क ले जाया गया। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव ने चीतों को कूनो नेशनल पार्क में छोड़ा।   चीता परियोजना प्रमुख एसपी यादव ने बताया कि शुक्रवार रात 8.30 बजे 12 चीतों ने दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग एयरपोर्ट से वायु सेना के सी-17 ग्लोब मास्टर ने उड़ान भरी थी और यह विमान शनिवार पूर्वाह्न करीब 11 बजे ग्वालियर के राजमाता सिंधिया एयरपोर्ट पहुंचा। इसके बाद यहां से तीन चिनूक हेलीकाप्टर से चीतों को लेकर कूनों नेशनल पार्क लाया गया। यहां पहले मुख्यमंत्री चौहान ने एक चीते को बाड़े में छोड़ा। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने भी चीता छोड़ा। इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने भी एक के बाद एक चीतों को बाड़े में छोड़ा। इन 12 चीतों में सात नर और पांच मादा हैं।   चीतों को बाड़े में निर्धारित समय से करीब एक घंटे की देरी से छोड़ा गया। इसके पीछे ग्लोबमास्टर का ग्वालियर एयरबेस पर कुछ देरी से आना था। इसलिए कूनो पहुंचने में भी चीतों को देरी हुई। बताया जा रहा है कि अभी इस बाड़े में 12 चीते क्वारंटीन रहेंगे। इसके बाद उन्हें इससे बड़े बाड़े में छोड़ा जाएगा। करीब डेढ़ महीने बाद चीतों को बड़े बाड़े में छोड़ा जाएगा। अफ्रीका से आए सभी 12 चीतों पर अभी विशेष नजर रखी जाएगी। उनकी हर गतिविधि को नोट किया जाएगा।     गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 17 सितंबर 2022 को नामीबिया से लाए गए आठ चीतों को कूनो नेशनल पार्क में छोड़ा था। अब दक्षिण अफ्रीका से 12 चीते आने के बाद कूनो में चीतों की संख्या 20 हो गई है। यानी चीतों का कुनबा बढ़ गया है। सही मायने में अब प्रदेश चीता स्टेट बन गया है।   चीतों को देखने के लिए स्थानीय और बाहरी लोग कूनो नेशनल पार्क के गेट पर एकत्रित हुए, लेकिन उन्हें अंदर नहीं जाने दिया गया। इससे लोग खासे निराश नजर आए। प्रबंधन ने लोगों के प्रवेश पर सुरक्षा कारणों से रोक लगाई है। कुछ दिन बाद कूनो नेशनल पार्क आम सैलानियों के लिए खोला जाएगा। तब सभी चीतों को देख सकेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 February 2023

पेरोल मिलने आए आरोपी ने अपनी पत्नी की हत्या कर दी

श्योपुर जिले में एक महिला की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। दरअसल, हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा एक युवक पैरोल पर छुटने के बाद ससुराल पहुंचा था। जहां उसने पत्नी को अपने साथ चलने के लिए कहा। जब उसने मना कर दिया तो पास पड़ी एक कुल्हाड़ी उठाई और ताबड़तोड़ वार कर दिए। इससे महिला की मौत पर ही मौत हो गई। फिलहाल आरोपी फरार है और मानपुर पुलिस उसकी जांच में जुटी है।दरअसल, हत्या के मामले में जेल में बंद ​रूपनगर निवासी रामवीर पुत्र शंभू गुर्जर को 9 फरवरी को पैरोल मिली थी। इसके बाद वह 11 फरवरी को अपनी ससुराल मानपुर थाना क्षेत्र के फूलदा गांव के बाहर वाले टपरा पर पहुंचा। जहां रात भर रूकने के बाद रविवार को सुबह उसने खाना बना रही पत्नी लक्ष्मी उर्फ लच्छो गुर्जर से अपने साथ रूपनगर चलने के लिए कहा। लेकिन, महिला ने मना कर दिया। इसके बाद रामवीर ने तैश में आकर पास पड़ी कुल्हाड़ी से ताबाड़तोड़ वार कर दिए। यह देख पास खड़ी 8 साल की बच्ची परिजनों को बुलाने दौड़ी। परिजन आए तब तक महिला की मौत हो चुकी थी और आराेपी फरार हो गया।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 February 2023

भारत में चीतों का पुनर्स्थापन सदी की वाइल्ड लाईफ की सबसे बड़ी घटना – मुख्यमंत्री चौहान

  सीएम ने कूनो-पालपुर में चीतों के पुनर्स्थापन के लिए प्रधानमंत्री मोदी का माना आभार   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश को चीतों की सौगात देने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का प्रदेशवासियों की ओर से आभार माना है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत में चीतों की पुनर्स्थापन के लिए मध्यप्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान को चुनना प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि है। भारत में वन्य प्राणी चीता समाप्त हो गया था। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में चीते को फिर से पुनर्स्थापित करने का ऐतिहासिक काम हो रहा है। यह सदी की वाइल्ड लाईफ की सबसे बड़ी घटना है। इससे प्रदेश में विशेष कर चंबल अंचल में पर्यटन गतिविधियाँ तेजी से बढ़ेंगी। मुख्यमंत्री चौहान ने निवास से मीडिया के लिए जारी संदेश में यह बात कही।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज महिला स्व-सहायता समूहों का सम्मेलन भी कराहल में आयोजित किया गया है। सम्मेलन में एक लाख बहनें प्रत्यक्ष रूप से उपस्थित होंगी। साथ ही अलग-अलग स्थानों पर 42 लाख बहनें भी ग्राम केन्द्र और संकुल केन्द्र से जुड़ेंगी। प्रदेश की सभी पंचायतों और वार्डों से भी प्रदेशवासी प्रधानमंत्री मोदी को सुनेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 September 2022

प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर मानवता सेवा, संकल्प के हुए विभिन्न कार्यक्रम

  राज्यपाल पटेल ने स्वास्थ्य परीक्षण, रक्तदान शिविर लगवाये   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्मदिवस पर राजभवन में नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाया गया। शिविर का आयोजन राज्यपाल मंगुभाई पटेल के निर्देश पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल के द्वारा किया गया था। शिविर में मेडिसिन, स्त्री रोग विशेषज्ञ, शिशु रोग विशेषज्ञ, दंत रोग विशेषज्ञ और सिकल सेल एनीमिया रोग विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा 165 व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने प्रधानमंत्री जी के जन्मदिवस के अवसर पर समाज में पीड़ित मानवता के सेवा संकल्प की मजबूती और प्रेरणा के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करवाया है। भारतीय रेडक्रास सोसायटी की राज्य, विभिन्न जिला एवं उप शाखाओं में रक्तदान स्वास्थ्य शिविर लगाए गए हैं। राज्यपाल श्री पटेल द्वारा अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में उपचाराधीन सात रोगियों को 4 लाख 72 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई। इसी क्रम में राजभवन के सांदीपनि सभागार में आयोजित स्वास्थ्य परीक्षण शिविर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल के स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. पुष्पलता, सिकल सेल एनीमिया रोग विशेषज्ञ डॉ. सचिन बंसल, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. शिखा मलिक, डॉ. अनीशा रोसिलिन अब्राहम, डॉ. राजकुमार, दंत रोग विशेषज्ञ डॉ. अंशुल राय और मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. रजनीश जोशी के द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। शिविर के लाभार्थियों में 100 पुरुष और 65 महिलाएं शामिल हैं। स्वास्थ्य परीक्षण शिविर व्यवस्था का संचालन एवं समन्वय राजभवन के मेडिकल ऑफिसर बी.के. श्रीवास्तव द्वारा किया गया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 September 2022

प्रकृति और पर्यावरण के संरक्षण में सुरक्षित है हमारा भविष्य : प्रधानमंत्री मोदी

  भारत की धरती पर चीतों की वापसी से जुड़ी जैव विविधता की टूटी कड़ी   चीतों को यहाँ के माहौल में ढलने का देना होगा समय प्रधानमंत्री ने चीता मित्रों से चीता संरक्षण विषय पर की बातचीत प्रधानमंत्री मोदी ने कूनो नेशनल पार्क में छोड़े अफ्रीकन चीते    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले में नेशनल पार्क कूनो में अफीक्रा के नामीबिया से लाये गये चीतों को छोड़ कर देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में चीतों की वापसी से अब जैव विविधता की टूटी कड़ी पुन: जुड़ गई है। भारत की प्रकृति प्रेमी चेतना भी पूरी शक्ति से जाग्रत हो गई है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने राष्ट्रीय अभ्यारण्य में चीतों को छोड़ कर देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएँ दीं।प्रधानमंत्री  मोदी ने आज दुनिया की पहली बड़े जंगली मांसाहारी जीव की अंतर-महाद्वीपीय स्थानांतरण परियोजना का चीता प्रोजेक्ट के अंतर्गत शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज सौभाग्य से हमें दशकों पहले जैव-विविधता की टूटी और विलुप्त कड़ी को जोड़ने का फिर से मौका मिला है।  आज भारत की धरती पर चीता लौट आया है। आजादी के अमृत महोत्सव में देश नई ऊर्जा के साथ चीतों के पुनर्वास के लिए जुट गया है। अमृत में तो वो सामर्थ्य होता है, जो मृत को भी पुनर्जीवित कर देता है। मुझे खुशी है कि आजादी के अमृतकाल में कर्त्तव्य और विश्वास का ये अमृत हमारी विरासत को, हमारी धरोहरों को  और अब चीतों को भी भारत की धरती पर पुनर्जीवित कर रहा है।   चीतों को यहाँ के वातावरण में ढलने के लिये देना होगा समय   प्रधानमंत्री  मोदी ने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के सरंक्षण में ही हमारा भविष्य सुरक्षित है। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि चीतों को यहाँ के वातावरण में ढ़लने के लिये समय देना है। तब तक हमें धैर्य रखना होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने साथ मध्यप्रदेश के राज्यपाल  मंगुभाई पटेल मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर, केन्द्रीय वन मंत्री  भूपेन्द्र सिंह यादव, केन्द्रीय नागरिक उड्यन एवं इस्पाल मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अश्विनी चौबे, प्रदेश के वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह की गरिमामयी मौजूदगी में लीवर घुमाकर चीतों को छोड़ा गया। मुक्त होते ही चीते सुरक्षा के लिहाज से तैयार किये गये बाड़े में विचरण करने लगे। अंतर्राष्ट्रीय गाइड लाइन के अनुसार क्वारेंटाइन पीरियड खत्म होने के बाद उन्हें जंगल स्वच्छंद विचरण के लिये आजाद किया जायेगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने देशवासियों से आग्रह करते हुए कहा कि कूनो नेशनल पार्क में छोड़े गए चीतों को देखने के लिए देशवासियों को कुछ महीने का धैर्य पूर्वक इंतजार करना होगा। चीते हमारे मेहमान बनकर आए हैं, इस क्षेत्र से अनजान हैं। कूनो नेशनल पार्क को ये चीते अपना घर बना पाएँ,  इसके लिए हमें इन चीतों को कुछ महीने का समय देना होगा। अंतर्राष्ट्रीय गाइडलाइन्स का पालन करते हुए कूनो राष्ट्रीय उद्यान में इन चीतों को बसाने के पूरे प्रबंध किये गये हैं। वर्ष 1947 में भारत में सिर्फ 3 चीते शेष थे। शिकार हो जाने से उनका अस्तित्व खत्म हो गया और 1952 में भारत में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया गया। तबसे अब तक देश में फिर से चीतों के पुनर्वास के कोई सार्थक प्रयास नहीं हुए थे। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि भारत की धरती पर चीतों के पुनर्वास के लिये नामीबिया, साउथ अफ्रीका सहित भारत के वैज्ञानिकों और विषय-विशेषज्ञों के शोध के बाद तैयार विस्तृत चीता एक्शन प्लान को परिणाम मूलक बनाया गया।   ईको सिस्टम पुनर्जीवित होगा   प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विकास और समृद्धि के लिये प्रकृति और पर्यावरण का संरक्षण भी जरूरी है। इसी से हमारा भविष्य भी सुरक्षित होता है। दुनिया जब प्रकृति और पर्यावरण की ओर देखती है तो सस्टेनेबल डेवलपमेंट की बात करती है। हमारे लिये प्रकृति, पर्यावरण, पशु-पक्षी सिर्फ सस्टेनेबिलिटी और सिक्युरिटी न होकर सेन्सीबिलिटी और स्प्रिच्युलिटी के आधार भी है। आज सौभाग्य से हमारे सामने एक ऐसा ही क्षण है। उन्होंने कहा कि कूनो नेशनल पार्क में जब चीते फिर से दौड़ेंगे तो मैदानी ईको-सिस्टम फिर से पुनर्जीवित होगा, जैव विविधता बढ़ेगी, ईको-टूरिज्म बढ़ेगा, विकास की नई संभावनाएँ जन्म लेंगी और क्षेत्रवासियों के लिये रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।   गत 8 वर्ष में जुड़े 250 नये संरक्षित वन क्षेत्र   प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज 21वीं सदी का भारत, पूरी दुनिया को संदेश दे रहा है कि ईकॉनॉमी और ईकॉलॉजी परस्पर विरोधाभासी नहीं है। वर्ष 2014 के बाद देश में करीब ढाई सौ नए संरक्षित क्षेत्र जोड़े गए हैं। वन क्षेत्र का निरंतर विस्तार हो रहा है। पर्यावरण की रक्षा के साथ ही, देश की प्रगति भी हो सकती है, ये भारत ने दुनिया को करके दिखाया है। आज हम विश्व की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि हमारे यहाँ एशियाई शेरों की संख्या में भी वृद्धि हुई है। गुजरात देश में एशियाई शेरों का बड़ा क्षेत्र बनकर उभरा है। देश में टाइगर की संख्या को दोगुना करने का लक्ष्य हमने तय समय से पहले हासिल किया है। असम में आज एक सींग वाले गैंडो की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है, जिनका एक समय अस्तित्व खतरे में आ गया था। हाथियों की संख्या भी बढ़ कर पिछले वर्षों में 30 हजार से ज्यादा हो गई है। आज देश में 75 वेटलेंडस को रामसर साइट्स के रूप में घोषित किया गया है, जिनमें 26 साइट्स पिछले 4 वर्ष में ही जोड़ी गई हैं। देश के इन प्रयासों का प्रभाव आने वाली सदियों तक दिखेगा और प्रगति के नए पथ प्रशस्त करेगा।   फोटोग्राफी और चीता मित्रों से किया संवाद   प्रधानमंत्री  मोदी ने भारत भूमि पर 70 वर्षों के लंबे अंतराल के बाद पुर्नस्थापित किये जाने वाले चीतों की मुक्ति के एतिहासिक पलों को अपने कैमरे से कैद किया। प्रधानमंत्री मोदी ने चीतों की सुरक्षा के लिये तैनात किये गये चीता मित्रों से संवाद भी किया। चीतों की सुरक्षा के लिये आसपास के 10 गाँव के 457 चीता मित्र तैनात किये गये हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  17 September 2022

8 चीतों को लेकर प्रदेशभर में लोग उत्साहित

शिवराज :अब मध्यप्रदेश चीता स्टेट भी होने वाला है अफ्रीका से चीते आने को लेकर देश में लोग काफी उत्साहित है।  1948 के बाद एक बार फिर भारत में चीते दिखेंगे।  एक समय था जब भारत  पाले जाते थे।  लेकिन समय के साथ राजाओं महाराजाओं  , मुगलों और फिर अंग्रेजों ने चीतों को समाप्त करने में अहम् भूमिका निभाई।  अब एक बार फिर पीएम मोदी के प्रयासों से नामीबिया से 8 चीते भारत लाए जा रहे हैं। जिसको लेकर प्रदेश के तमाम लोगों को  उस पल का इंतजार है, जब प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी श्‍योपुर के कूनो पालपुर नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए जा रहे चीतों को पिंजरों से छोड़ेंगे।  प्रदेश की भूमि पर एक बार फिर चीते अपनी शानदार तेज रफ्तार के साथ पर्यटकों को मोहित करते नजर आएंगे। चीते आने पर मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी काफी उत्साहित और खुश हैं।  चीता परियोजना के लिए प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क का चयन किए जाने को लेकर एक बार फिर पीएम मोदी का आभार व्‍यक्‍त किया है।  इस दौरान सीएम शिवराज ने कहा, 'मैं हमारे प्रदेश का सौभाग्य मानता हूं। हम टाइगर स्टेट तो है ही, लेपर्ड स्टेट भी हैं, अब मध्यप्रदेश चीता स्टेट भी होने वाला है। इसके लिए मैं प्रधानमंत्री जी और भारत सरकार को धन्यवाद देता हूं। यहां वाइल्ड लाइफ पनपेगी और कई गांव हटाए थे ताकि वह सुरक्षित सेंचुरी बने। जहां चीते आएं और बाकी तरह की वाइल्ड लाइफ भी वहां रहे। अब वह सपना साकार हो रहा है संकल्प पूरा हो रहा है। नामीबिया से चीते आ रहें है चीते आना यह असाधारण घटना है। असाधारण इसलिए क्‍योंकि लगभग 1952 के आस -पास हमारे देश में चीतों का अस्तित्व समाप्त हो गया। अब दूसरे महाद्वीप से चीते लाकर उनको यहां पुनर्स्थापित कर रहे हैं। शायद यह इस सदी की सबसे बड़ी घटना है दूसरा महाद्वीप से चीजों को लाकर हम बसाएंगे। कोशिश यह करेंगे कि स्वाभाविक रूप से चीते का परिवार बढ़ता रहे।' मैं मध्यप्रदेश का सौभाग्य मानता हूं कि हम टाइगर स्टेट थे, लेपर्ड स्टेट हैं और अब चीता स्टेट भी होने वाले हैं। उन्होंने कहा  चीता आना, एक विलुप्त होती हुई प्रजाति को फिर से पुनर्स्थापित करने का काम तो है ही, लेकिन यह पर्यावरण का संतुलन भी बनाएंगे। वाइल्ड लाइफ समृद्ध होगी। केवल इतना ही नहीं, श्योपुर जिले और उसके आस-पास रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 September 2022

कूनो राष्ट्रीय उद्यान में चीता प्रतिस्थापना, राष्ट्रीय महत्व का कार्य

  मुख्यमंत्री ने की प्रधानमंत्री मोदी की श्योपुर जिले की यात्रा की तैयारियों पर चर्चा   मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में नामीबिया से चीते लाकर उन्हें बसाने का कार्य निर्धारित मानकों के अनुसार किया जा रहा है। यह राष्ट्रीय महत्व का कार्य है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी श्योपुर जिले के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में इस कार्य का शुभारंभ 17 सितम्बर को करेंगे। इस कार्यक्रम को पूरी गरिमा और उत्साह के साथ सम्पन्न करने के लिए सभी आवश्यक तैयारियाँ पूरी की जाएँ। मुख्यमंत्री  चौहान आज निवास पर प्रधानमंत्री जी के 17 सितम्बर को श्योपुर जिले के भ्रमण के संबंध में की जा रही तैयारियों की जानकारी ले रहे थे। बताया गया कि श्योपुर जिले के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में चीता प्रबंधन की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचलित तकनीक के अनुसार बसाने का कार्य किया जाएगा।   कार्यक्रम की रूपरेखा पर हुआ विमर्श   मुख्यमंत्री  चौहान ने प्रधानमंत्री श्री मोदी की यात्रा की तैयारियों से जुड़े सभी पहलुओं की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की यात्रा में मुख्य रूप से कूनो राष्ट्रीय उद्यान में चीतों के प्रवेश करवाने और कराहल में स्व-सहायता समूह की बहनों के सम्मेलन का कार्यक्रम निर्धारित है। इस मौके पर विकास प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। मध्यप्रदेश के जिलों में ओडीओपी में किए जा रहे कार्यों की प्रस्तुति भी शामिल रहेगी। मुख्य रूप से मुरैना जिले में सरसों तेल, शिवपुरी जिले में मूंगफली तेल, चंदेरी में तैयार अंगवस्त्र, शिवपुरी में बनाए गए जैकेट, डिण्डौरी की गोंडी चित्रकला और‍मिलेट उत्पाद की गतिविधियों एवं इनके उत्पादन और निर्माण आदि से जुड़े कार्यों की जानकारी प्रधानमंत्री जी को दी जाएगी।   प्रदेश में संचालित होंगी कल्याणकारी गतिविधियाँ   मुख्यमंत्री  चौहान ने निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री जी के जन्म-दिवस 17 सितम्बर पर श्योपुर में दो प्रमुख कार्यक्रमों में प्रधानमंत्री मोदी शामिल हो रहे हैं। शेष जिलों में विभिन्न विभाग जन-कल्याणकारी गतिविधि कर इस अवसर को प्रसन्नता व्यक्त करने का माध्यम बनाएँ। प्रदेश में 17 सितम्बर से 31 अक्टूबर तक हितग्राहियों को योजनाओं से लाभान्वित करने का अभियान चलाने के निर्देश भी दिए गए हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि विभागों के सेवा कार्यों का लाभ आम जनता को मिले, इसके लिए कार्यक्रमों का स्वरूप निर्धारित कर क्रियान्वयन किया जाए। प्रधानमंत्री जी के जन्म-दिवस से प्रारंभ हो रहे अभियान के लिए विभागों के अधिकारी और मैदानी अमले को दायित्व दिए जाएँ।   सर्वेक्षण में चीतों के लिये कूनो पाया गया सबसे अनुकूल   जानकारी दी गई कि वर्ष 1952 में भारत में चीता विलुप्त घोषित किया गया था। वर्ष 2009 में चीता पुनर्स्थापना के लिए केन्द्र और राज्य सरकार के साथ अंतर्राष्ट्रीय चीता विशेषज्ञों की चर्चा हुई। वर्ष 2010 में भारतीय वन्य जीव संस्थान (वाईल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट) ने भारत में चीता पुनर्स्थापना के लिए संभावित क्षेत्रों का सर्वेक्षण किया, जिसमें 10 स्थलों में कूनो अभ्यारण्य जो वर्तमान में कूनो राष्ट्रीय उद्यान है, सर्वाधिक उपयुक्त पाया गया। भारत में विलुप्ति की कगार पर पहुँचे चीतों की प्रतिस्थापना के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल और गाइडलाइन के अनुसार कार्य होगा। परियोजना के एकीकृत प्रबंधन में कूनो के राष्ट्रीय उद्यान के 750 वर्ग किलोमीटर में लगभग दो दर्जन चीतों के रहवास के लिए उपयुक्तता है। इसके अतिरिक्त करीब 3 हजार वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र दो जिलों श्योपुर और शिवपुरी में चीतों के स्वंच्छद वितरण के लिए उपयुक्त हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी दो बाड़ों में चीते विमुक्त करेंगे। पहले बाड़े में दो नर चीते छोड़े जाएंगे। दूसरे बाड़े में एक मादा चीता को छोड़ा जाएगा। वन विभाग के अधिकारियों के दल ने नामीबिया की चीता प्रबंधन तकनीक का प्रशिक्षण प्राप्त किया है।   चीतों की बसाहट के लिए कूनो में हुई तैयारियाँ   कूनो राष्ट्रीय उद्यान क्षेत्र से लगे हुए गाँव में पशुओं के टीकाकरण का कार्य पूरा किया जा चुका है। क्षेत्र के समस्त गाँव में जागरूकता शिविर लगाए गए हैं। यहाँ चीतों के रहवास के लिए अनुकूल परिस्थितियों का विकास किया गया है। पानी की व्यवस्था के साथ आवश्यक सिविल कार्य भी पूरे किए गए हैं। कूनो में वन्य-प्राणियों का घनत्व बढ़ाने के लिए नरसिंहगढ़ से चीतल लाकर छोड़े गए हैं। विशेषज्ञों के अनुसार क्षेत्र में शिकार का घनत्व चीतों के लिए पर्याप्त है। नर चीते दो या दो से अधिक के समूह में साथ रहते हैं। सबसे पहले चीतों को दो-तीन सप्ताह के लिए छोटे-छोटे पृथक बाड़ों में रखा जाएगा। एक माह के बाद इन्हें बड़े बाड़ों में स्थानांतरित किया जाएगा। विशेषज्ञों द्वारा बड़े बाडों में चीतों के अनुकूलन संबंधी आंकलन के बाद पहले नर चीतों को और उसके पश्चात मादा चीतों को खुले जंगल में छोड़ा जाएगा। इस संबंध में आवश्यक प्रोटोकॉल के अनुसार कार्यवाही की जाएगी।   स्व-सहायता समूहों की बहनों का सम्मेलन   मुख्यमंत्री चौहान ने श्योपुर जिले के कराहल में म.प्र. राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़ी स्व-सहायता समूह की बहनों के उन्मुखीकरण और सह सम्मेलन की तैयारियों की भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि इसमें हिस्सा ले रही बहनों के लिए आवश्यक व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाएँ। प्रदेश में 3 लाख 86 हजार स्व-सहायता समूह कार्य कर रहे हैं, इनसे 43 लाख से अधिक परिवार जुड़े हैं। समूहों द्वारा सब्जी उत्पादन, दुग्ध उत्पादन, अगरबत्ती, हैण्डवॉश, साबुन निर्माण, कृषि और पशुपालन आधारित आजीविका गतिविधियाँ, आजीविका पोषण वाटिका के संचालन के कार्य किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री  मोदी समूह की सदस्य बहनों की उद्यमशीलता की जानकारी प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने सम्मेलन के लिए आवश्यक प्रबंध पूर्ण करने के निर्देश दिए।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 September 2022

पीएम मोदी करेंगे चीता परियोजना का शुभारंभ

प्रदेश को चीता परियोजना की सौगात देंगे पीएम    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 17 सितम्बर को जन्मदिन मनाया जायेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने जन्म दिन के दिन  श्योपुर में चीता परियोजना का शुभारंभ करेंगे।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट बैठक से पहले मंत्रियों से औपचारिक चर्चा में यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि अपने जन्मदिवस पर प्रधानमंत्री मध्य प्रदेश में रहेंगे और प्रदेश को चीता परियोजना की सौगात देंगे।आपको बता दें  कूनो पालपुर पार्क में करीब 20 दिन से चल रही तैयारियों को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा था कि प्रधानमंत्री परियोजना का शुभारंभ कर सकते हैं।  पार्क से 15 किमी दूर कराहल में महिला स्व-सहायता समूह के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है।  जिसे प्रधानमंत्री मोदी संबोधित करेंगे। बताया जा रहा है कि  नामीबिया से आठ चीता श्योपुर पहुंच जाएंगे। जिन्हें प्रधानमंत्री पार्क में स्थित विशेष बाड़े में छोड़ेंगे। प्रधानमंत्री के आने की तैयारियां शुरू कर दी गई है।  हेलीपैड की व्यवस्था बनाई जा रही है।   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 September 2022

जनपद पंचायत में कई जिलों से कांग्रेस की शिकायत

  बीजेपी पर कोंग्रेस ने सदस्यों उठाने का आरोप  मध्यप्रदेश में जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में कई नए मोड़ आ रहे हैं।  कहीं बीजेपी तो कहीं कांग्रेस का कब्ज़ा हो रहा है।सीहोर जिला पंचायत अध्यक्ष को लेकर भोपाल में बवाल हुआ। सीहोर के जिला पंचायत सदस्यों को भोपाल की खजूरी पुलिस उठाकर थाने ले आई। जानकारी लगने पर बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता थाने पहुंच गए। कांग्रेसियों का आरोप है कि उनके ऊपर भाजपा में शामिल होने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। वहीं इस बीच  मुरैना में कांग्रेस ने पुलिस पर कांग्रेस समर्थित जिला पंचायत सदस्यों को उठाने का आरोप लगाया है। जिसको लेकर कांग्रेसियों ने एसपी ऑफिस का घेराव करते हुए नारेबाजी की। यही हाल जबलपुर और सीहोर का भी है। आपको बता दें गुरुवार रात कांग्रेस के पूर्व मंत्री रामनिवास रावत, विधायक राकेश मावई, अजब सिंह कुशवाह, रविन्द्र सिंह तोमर, सतीश सिकरवार, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अशोक सिंह समेत करीब 100 कांग्रेसी एसपी ऑफिस पहुंच गए। वे यहां धरने पर बैठ गए। आरोप है कि जौरा, बागचीनी व कैलारस पुलिस ने उनके दो जिला पंचायत सदस्यों को किडनैप कर लिया है। यह काम केन्द्रीय मंत्री के इशारे पर किया गया है, जिससे वे जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में मतदान न कर सकें। इसके बाद सभी नेताओं को गिरफ्तार कर पुलिस वैन से सिविल लाइन लाकर नजरबंद किया गया।  श्योपुर  की बात करें तो 11 में से 6 सदस्य कांग्रेस और 5 भाजपा के हैं। कांग्रेस के 6 सदस्यों में से एक वार्ड 7 से चयनित सदस्य संदीप शाक्य को  कैलारस पुलिस ने उसके मामा के घर से उठा लिया। इसके बाद गुरुवार को दूसरे सदस्य वार्ड 4 के गिरधारी लाल बैरवा व वार्ड-1 के सुरेश कुमार लालावत को भी पुलिस ने उठा लिया। जबलपुर में कांग्रेस के विधायकों और पार्टी पदाधिकारियों ने भाजपा नेताओं पर जिला पंचायत सदस्य हीराबाई साहू के पति रामेश्वर साहू के अपहरण का आरोप लगाया है। कांग्रेस विधायकों ने ओमती थाने पहुंचकर विरोध जताया। कांग्रेस का कहना था कि चुनाव जीतने के लिए भाजपा नेता, पुलिस की मिलीभगत से राजनीति कर रहे हैं। 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 July 2022

syopur, District administration, demolished houses , raping a minor

श्योपुर। शहर कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत कालीतलाई के जंगल में गत दिनों तीन लोगों ने एक नाबालिग किशोरी के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। रविवार को जिला प्रशासन की टीम ने उनके घरों को बुलडोजर चलाकर तोड़ने की कार्रवाई की। दोपहर 12.45 बजे बुलडोजर लोकर आरोपितों के घर पहुंची और तीनों के मकानों को ध्वस्त कर दिया।   कोतवाली थाना पुलिस के अनुसार, 15 वर्षीय नाबालिग ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि वह गुरुवार की वह सुबह अपने गांव बरगवां से ढेंगदा में रिश्तेदार के यहां आ रही थी। इसी बीच रास्ते में उसका दोस्त मिल गया। जिसके साथ वह काली तलाई के जंगल में घूमने के लिए चली गई थी, तभी वहां पहुंचे बालापुरा में रहने वाले तीन आरोपित मोहसीन, रियाज और शहनवाज ने जोर जबरदस्ती करना शुरू कर दी। इससे घबराकर उसका दोस्त भाग गया। इसके बाद तीनों ने मिलकर उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया और फरार हो गए। मामले में पुलिस ने नाबालिग की रिपोर्ट पर उक्त तीनों आरोपितों के खिलाफ दुष्कर्म पाक्सो एक्ट सहित एससीएसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया। इसके बाद पुलिस ने आरोपितों के ठिकानों पर दबिश देना शुरू कर दिया और उसी रात तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। शनिवार को पुलिस ने उनको न्यायालय में पेश किया, जहां से जेल भेज दिया। इसके बाद रविवार को जिला प्रशासन ने तीनों आरोपितों के घरों पर बुलडोजर चलाकर जमींदोज कर दिया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 March 2022

 JAAN JOKHIM

श्योपुर से राजस्थान का संपर्क कटा    ग्वालियर -चंबल इलाके में भी बारिश के कारण कई इलाकों में लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है   शिवपुरी जिले में सिंध नदी उफान पर है जहाँ जान जोखिम में डाल कर लोग पुल पार कर रहे हैं  श्योपुर जिले  में भी भारी बारिश के कारण जान जीवन अस्तव्यस्त हो गया है  मध्यप्रदेश से राजस्थान का सड़क संपर्क कट गया है   शिवपुरी  गुना सहित आसपास के क्षेत्रों में बीते 24 घंटे से जारी मूसलाधार बारिश के चलते सिंध नदी उफान पर है और शुक्रवार दे  सिंध में अचानक पानी तेजी से बढ़ता चला गया  हालात यह हुए कि शाम होते-होते खतौरा-अशोकनगर स्टेट हाइवे पर मौजूद पचावली पुल के ऊपर करीब दो फीट सिंध का पानी बहने लगा  करीब 10 मीटर ऊंचे होने के बावजूद इस पुराने जर्जर पुल पर सिंध के तेज बहाव के बीच लोग जान की कीमत पर पैदल, बाइक, कार, बस, ट्रक व ऑटो से इसे पार करते नजर आए  सिंध में उफान के कारण उससे जुड़ने वाली कोलारस की गुंजारी नदी में भी उफान आ गया जिसमें शाम को एक युवक फस गया   पानी में फंसे युवक का नाम कल्लू जाटव  है जो लकवे की दवाई लेने के लिए कोलारस इलाके में आया था और एक स्थान पर जहां सिंध नदी और गुंजारी नदी मिलती है वहां अचानक पानी बढ़ने से वह पानी में फस गया   हालांकि कुछ जगह रिमझिम बारिश का सिलसिला जारी है   बारिश के चलते पार्वती नदी सहित जिले भर के नदी नाले उफान पर है  खातौली के पास पार्वती नदी पर बना हुआ पुल पानी मे डूबा हुआ है  इसके चलते मध्य प्रदेश का राजस्थान के कोटा और खातौली से संपर्क टूटा हुआ है   वहीं सोइकलां के पास हाइवे पर बना हुआ रपटा और गिरधरपुर और ढोढर के बीच रेलवे ट्रैक का पुल भी नदी नालों ने डुबा रखा है, जिससे श्योपुर से सवाईमाधोपुर की तरफ आने-जाने वाले वाहनों के पहिए सोइकलां के पास थमे हुए हैं  गिरधरपुर और ढोढर के पास रेलवे ट्रैक का पुल डूब जाने और पटरियों के नीचे से गिट्टी बह जाने की वजह से शनिवार को नेरोगेज भी अपने गंतव्य के लिए रवाना नही हो सकी है  इस वजह से यात्रियो को परेशानी उठाकर अपनी यात्राएं रद्द करनी पड़ी है  इस इलाके की कई  बस्तियों के घरों में पानी भर गया है                                

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 July 2019

 अरविंद जैन

  एमपी के श्योपुर में महिला एवं बाल विकास विभाग के लेखाधिकारी अरविंद जैन के घर गुरुवार अल सुबह साढ़े पांच बजे लोकायु्क्त पुलिस ने छापामार कार्रवाई की। अरविंद जैन वर्तमान में नरसिंगढ़ परियोजना में पदस्थ हैं और करीब 6 महीने पहले ही उसका ट्रांसफर हुआ। इसके पहले वे 15 साल से श्योपुर जिले में ही पदस्थ थे। इस दौरान उनके खिलाफ कई शिकायतें आईं, जिसमें रिश्वत लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की नियुक्ति की भी शिकायत थी। 2013 में उनके खिलाफ इसी तरह की एक शिकायत आई थी, जिस पर लोकायुक्त पुलिस ने उनके खिलाफ इन्वेट्री जांच शुरू की। जांच में उनके पास सरकारी आय से करीब 60 प्रतिशत ज्यादा संपत्ति मिली है। कार्रवाई में जैन के घर से एक कार, दो टू व्हीलर, 10 लाख रुपए की बीमा पॉलिसी, 19 तोला सोना, 500 ग्राम चांदी के गहने। बेटी को एमबीबीएस की पढ़ाई करवाने के लिए खर्च हुए 22 लाख रुपए के दस्तावेज भी मिले। लोकायुक्त टीम की कार्रवाई जारी है। अरविंद जैन के घर कार्रवाई करने वाली टीम में लोकायुक्त निरीक्षक अतुल सिंह, मनीष शर्मा, राजीव गुप्ता, रविंद्र सिंह के अलावा 10 कर्मचारी भी शामिल हैं। टीम अपने साथ एक डॉक्टर को भी लाई थी। इस जांच में सरकार से अधिकारी या कर्मचारी को मिले अब तक के वेतन और उसकी संपत्ति का अनुपात किया जाता है। अगर संपत्ति सैलरी से ज्यादा पाई जाती है तो उसके लिए आय के स्त्रोत की जानकारी देनी पड़ती है।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 July 2017

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सभी बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध होना चाहिए। श्योपुर जिले के ढोढर से श्योपुर जिला मुख्यालय तक किये रोड शो के दौरान ग्रामीणों से प्राप्त आवेदनों का शत-प्रतिशत निराकरण सुनिश्चित किया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज श्योपुर जिला मुख्यालय में बैठक को सबोधित कर रहे थे। बैठक में महिला-बाल विकास राज्य मंत्री एवं जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती ललिता यादव, सांसद श्री अनूप मिश्रा, विधायक श्री दुर्गालाल विजय, कमिश्नर, कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ के अलावा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  श्री शिवराज सिहं चौहान ने कहा कि रोड शो के दौरान सामुदायिक और व्यक्तिगत आवेदनों को मिलाकर कुल 909 आवेदन-पत्र प्राप्त हुए हैं। इनका शत प्रतिशत निराकरण कर मुख्यमंत्री सचिवालय को रिपोर्ट प्रस्तुत की जाये। उन्होंने कहा कि शुद्ध पेयजल की समस्या अभी भी है। हेंडपंप लगाने, टंकी निर्माण जैसी बुनियादी कमियाँ पाई गई हैं, जिनका तत्काल निराकरण सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि शहरी एवं ग्रामीण अंचल में बिजली मिलनी चाहिए तथा लाइनों और ट्रांसफार्मरों की व्यवस्था के इंतजाम हों। उन्होंने राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना के कार्यों का भौतिक सत्यापन करवाने के निर्देश दिये। साथ ही दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना का समस्त सर्वे एक माह के अन्दर करवाने को कहा।  मुख्यमंत्री ने कहा कि शासन की योजनाओं का जमीनी स्तर पर लाभ मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे के लिए भूमि का चिन्हांकन किया जाये। एक्सप्रेस-वे से चंबल क्षेत्र में विकास का मार्ग प्रशस्त होगा, साथ ही क्षेत्रवासियों को आवागमन की सुविधा होगी। लम्बे समय से चल रहे मुजरी बांध के सर्वे का कार्य एक माह में पूरा करवाया जावे। उपभोक्ताओं को राशन की दुकान से नियमित खाद्यान्न मिले। शौचालय-निर्माण, बीपीएल में नाम जोड़ने, दिव्यांग एवं आवास योजनाओं का लाभ सभी पात्रता रखने वाले हितग्राहियों को निरंतर जारी रखा जाये। उन्होंने कहा कि एससी-एसटी के व्यक्तियों की जमीन पर यदि प्रभावी व्यक्तियों का कब्जा है, तो उसे तत्काल हटाकर दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि निचले स्तर पर भ्रष्टाचार मिटाने के हर संभव प्रयास होना चाहिए। फिर भी अगर शिकायत मिलती है तो समझा जायेगा कि इसमें उपर के अधिकारी भी लिप्त है। ऐसे अधिकारी-कर्मचारियों  को बख्शा नहीं जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास की सभी योजनाओं का लाभ आम लोगों को देने की दिशा में कार्यवाही अनवरत जारी रखी जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि एनआरएलएम में गठित स्व-सहायता समूहों को और सशक्त बनाया जाये। कलेक्टर द्वारा इस योजना में 25 लाख रूपये के भेजे गये प्रस्ताव को मुख्यमंत्री द्वारा स्वीकृत कर राशि भिजवाने के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कि महिलाओं को बढ़ावा देने की दिशा में हर संभव उपाय किये जाये। साथ ही उन्हें योजनाओं का लाभ देने की दिशा में निरंतर पहल होना चाहिए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने की दिशा में आवश्यक उपाय सुनिश्चित किये जाये। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी सकारात्मक सोच के साथ हर व्यक्ति को लाभ दिलवाने की कार्यवाही जारी रखें। बैठक के बाद उन्होंने जन-प्रतिनिधियों तथा ग्रामीणों से  जिले में चल रही विकास गतिविधियों पर भी चर्चा की।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले के ढोढर, बगदिया, गांधीनगर, माकड़ौद, पदमपुरा, काशीपुर, धीरौली, मानपुर, जैनी, टेकना, चोपना, जावदेश्वर, बगडुआ, सोईकलां, रायपुरा, सलापुरा सहित दो दर्जन से अधिक ग्राम एवं मजरों-टोलों में रोड शो के बाद श्योपुर में स्थानीय जन-प्रतिनिधियों से भी चर्चा की।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  27 June 2017

kisan bajar

किसानों को आर्थिक सुरक्षा देने 1000 करोड़ का कोष स्थापित होगा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  श्योपुर विकासखण्ड के गाँव में देर रात तक रोड शो किया। इस दौरान उन्होंने दो दर्जन से अधिक गाँव में किसानों और ग्रामीणों से संवाद कर शासकीय योजनाओं की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में 378 स्थान पर किसान बाजार बनाये जायेंगे। इन बाजारों में उपभोक्ता किसानों की उपज को सीधे खरीद सकेंगे। इस व्यवस्था से किसानों को उनकी उपज का बगैर बिचौलियों की भागीदारी के उचित मूल्य सकेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में किसानों को आर्थिक सुरक्षा देने के लिये 1000 करोड़ रूपये की राशि से कोष स्थापित किया जायेगा। इस कोष के माध्यम से बाजार में औसत मूल्य तथा समर्थन पर बीज के अंतर की राशि सीधे किसानों के खातों में जमा कराई जायेगी। उन्होंने कहा कि इसके लिये जिलेवार कार्ययोजना बनाई जायेगी, जिसमें किसानवार डाटा एकत्रित रहेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम बगदिया एवं बगदरी में किसानों द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में कहा कि ढोढर कृषि उपज मण्डी को किसान बाजार वाले स्थान में शामिल किया जायेगा। इस अवसर पर सिक्ख किसानों द्वारा मुख्यमंत्री को चाँदी का मुकुट पहनाकर सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री ने ग्राम बगदिया में हाईस्कूल खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि जिन किसानों को पूर्व में शासकीय भूमि के पटटे प्रदाय किये गये उन्हें भू-स्वामी के रूप में दर्ज करने के लिये राजस्व विभाग के माध्यम से परीक्षण कराया जायेगा। उन्होंने ग्राम ढोढर एवं मानपुर में बैंक शाखाएँ खोलने के लिये भी आश्वस्त किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने बगदिया सहराने में सहरिया परिवारों से उनकी समस्याएँ सुनकर गाँव में पेयजल के लिये स्पाट सोर्स लगाने, गुर्जर बस्ती में गाँव को राजस्व ग्राम घोषित करने तथा बस्ती में प्राथमिक विद्यालय खोलने के निर्देश दिये। ग्राम माकडोद में टयूबबेल लगाकर पानी की टंकी से पेयजल व्यवस्था और एक किलोमीटर सड़क बनाने का प्राक्कलन तैयार करने, दिव्यांग दिनेश को सामाजिक सुरक्षा पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिये। ग्राम धीरोली में ओड राजपूत समाज के श्योपुर में बनने वाले छात्रावास भवन के लिये 5 लाख रूपये देने, ग्राम धीरोली में पूर्व से स्वीकृत विद्युत सब स्टेशन का कार्य प्रारंभ करने, चंबल नहर से माइनर शाखा निकालने का परीक्षण कराने और सांसद निधि से यात्री प्रतिक्षालय बनाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मानपुर में रोड शो के दौरान लौहपीटा परिवारों से भेंट कर उन्हें प्रदाय किये गये आवास भू-अधिकार पत्र के प्रदाय के बाद आवास निर्माण की कार्रवाई के निर्देश जिला प्रशासन को दिये। उन्होंने कहा कि ऐसे परिवारों की सूची तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं जिनके पास आवास बनाने के लिये जमीन नहीं है। ऐसे परिवारों को राज्य सरकार भू अधिकार पत्र देगी। मुख्यमंत्री ने मानपुर में पंचायत भवन तथा हायर सेकेण्डरी स्कूल में अतिरिक्त कक्षों के निर्माण कराये जाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने ग्राम जैनी में राशन कार्डों की जाँच कराने और क्षेत्रपाल बाबा मंदिर का सुदृढ़ीकरण कराने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने ग्राम पदमपुरा में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना से लाभांवित सहरिया आदिवासी श्री प्रभु आदिवासी के आवास का निरीक्षण कर प्रशंसा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्राम काशीपुर, टेकना, चोपना, बगडुआ, सोईकला, रायपुरा, सलापुरा सहित अन्य गाँवों में देर रात तक रोड शो किया। रोड शो के दौरान महिला एवं बाल विकास मंत्री एवं सीहोर जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती ललिता यादव, सांसद श्री अनूप मिश्रा, विधायकगण, जिले की पंचायत रात संस्थाओं के पदाधिकारी और प्रशासनिक अधिकारी साथ थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 June 2017

Video
Advertisement
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.