Since: 23-09-2009

  Latest News :
कांग्रेस के पांच-छह विधायकों को किडनैप कर हरियाणा ले गई भाजपा : सुक्खू.   ईडी ने केजरीवाल को भेजा आठवां समन.   लोकसभा चुनाव के पहले ही हार मान चुका है विपक्ष : प्रधानमंत्री.   नेशनल कॉन्फ्रेंस इंडिया गठबंधन के साथ कांग्रेस से होगी सीट शेयरिंग : फारूक अब्दुल्ला.   राज्यसभा चुनाव : 15 में से 10 भाजपा उम्मीदवार जीते.   गायक पंकज उधास का निधन.   भाजपा का परिवार लगातार बढ़ रहा पार्टी देश में 370 से अधिक सीटें जीतेगी: मुख्यमंत्री डॉ. यादव.   भोपाल सहित 6 नगरीय निकायों में चलेंगी 552 ई-बसें.   मप्र: जीतू पटवारी का तंज बोले- पर्ची से निकले मुख्यमंत्री से नही संभल रहा प्रदेश.   ग्वालियर-चंबल अंचल में बुधवार को बूंदाबांदी की संभावना.   इंदौर रोड पर बस-डंपर से टकराई.   कूनो में सफल हुआ है चीतों का पुनर्स्थापन: केंद्रीय मंत्री.   दंतेवाड़ा के किंरदुल एनएमडीसी खदान में धंसी चट्टान चार मजदूरों की मौत.   मीसाबंदियों की सम्मान निधि फिर शुरू होगी- मुख्यमंत्री साय.   एक शैक्षणिक सत्र में दो बार होगी बोर्ड की परीक्षाएं, आदेश जारी.   सदन में उठा कवर्धा दोहरे हत्याकांड का मामला विपक्ष ने कहा कानून व्यवस्था गंभीर.   बड़े भाई ने छोटे भाई की गोली मार कर की हत्या.   नवविवाहिता की आग से जलकर मौत.  

धार News


dhar, Heavy collision, two dead

धार। जिले के बदनावर में मंगलवार देर रात दो बाईकों की आमने सामने से जोरदार टक्कर हो गई। हादसे में दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि चार लोग घायल हुए है। सभी घायलों को ईलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल पुलिस इस पूरी घटना की जांच में जुटी हुई है।     जानकारी अनुसार हादसा बदनावर कानवन मांगोद मार्ग की है। ग्राम बिडवाल से पहले बिलकेश्वर महादेव मंदिर के पास मंगलवार रात को दो बाईक की आमने सामने से भीषण टक्कर हो गई। दर्दनाक हादसे में दो लोगों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं चार लोग घायल हुए है। मृतकों की पहचान जयराम पुत्र पप्पू भील (20) निवासी चोटिया बालोद दसाई और मगन पुत्र शंभू भील (25) निवासी ग्राम पटोलिया बरमंडल के रूप में हुई है। वहीं घनश्याम पुत्र मुकेश भील (18) निवासी चोटिया बालोद और भेरूलाल पुत्र जगदीश भील (22) निवासी पटोलिया घायल हुए हैं। घनश्याम की हालत नाजुक है। घटना के बाद वहां मौजूद लोगों ने पुलिस को जानकारी दी। सूचना मिलते ही एंबुलेंस और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया वहीं घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनका उपचार जारी है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 November 2023

dhar, Priyanka Vadra ,Arjun

धार/भोपाल। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सोमवार को मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 के चुनावी प्रचार के लिए सोमवार को धार जिले के आदिवासी बहुल क्षेत्र डही पहुंचीं। यहां उन्होंने चुनावी सभा को संबोधित करते हुए भाजपा पर जमकर निशाना साधा और आदिवासियों को साधने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि ‘अर्जुन अपनी नजर और ध्यान को केंद्रित कर तीर चलाते थे, इसी तरह अपने वोट को चलाओ। तीर सही लगने से आपका भविष्य मजबूत बन सकता है।’ प्रियंका ने धार जिले के कुक्षी के ग्राम डही में आयोजित सभा में दादी इंदिरा गांधी, नाना पं. जवाहरलाल नेहरू और पिता राजीव गांधी का जिक्र कर सभा की शुरुआत की। उन्होंने प्रारंभ में आदिवासियों और योद्धाओं को नमन करते हुए कहा कि ये पूज्य संत कमलदास जी, राजा देवी सिंह और बाबासाहेब की धरती है। इस पावन धरा पर आकर मुझे बहुत गर्व महसूस हो रहा है। सबसे ज्यादा गर्व इस बात पर है कि ये आपकी धरती है। आपके पूर्वजों ने आजादी की लड़ाई लड़ी है। मैं इंदिरा गांधी की पोती हूं.. इसके बाद भीड़ ताली बजाने लगी तो प्रियंका ने कहा कि इसमें ताली बजाने की क्या जरूरत है। प्रियंका ने आगे कहा कि प्रियंका ने कहा कि मैं इंदिरा जी की पोती हूं। उन्हें गुजरे हुए 30 साल से ज्यादा गुजर गए। फिर भी आप उन्हें याद करते हैं। क्योंकि, वे आपकी संस्कृति को समझती थीं। आपसे उनका रिश्ता राजनीति का नहीं, भावनाओं का था। पं. जवाहरलाल नेहरू, राजीव गांधी ने भी आपकी आदिवासी संस्कृति और परंपरा का आदर किया है। उन्होंने कहा कि आप सभी में से हर एक को सोचना चाहिए कि सरकार आपके लिए क्या कर रही है? आपको देखना होगा कि ये घोषणाएं खोखली तो नहीं हैं? अगर पुरानी पेंशन देने के लिए पैसे नहीं हैं तो उद्योगपतियों के पैसे क्यों माफ किये जा रहे हैं। यहां से पलायन करने वाले लोगों से पूछो कि कांग्रेस की सरकारें क्या कर रही हैं। प्रियंका ने लाड़ली बहना योजना पर तंज कसते हुए कहा कि ये चुनाव से पहले क्यों शुरू की गई, क्या पहले महिलाएं संकट में नहीं थीं? इन्होंने कुछ दिन पहले कहा कि हमने महिलाओं के लिए बिल पास किए हैं। ये बिल पास होने के 10 साल बाद लागू होगा। हम कहते हैं कि अभी लागू करो। वहीं, उन्होंने जातिगत जनगणना के फायदे गिनाए। उन्होंने कहा कि जातियों की संख्या पता चलने के बाद हम इनकी मदद करेंगे। उन्होंने आदिवासियों से कहा कि आपके साथ कितना अपमान होता है। उस पीड़ित आदिवासी के मुख्यमंत्री ने पैर धोए। आरक्षण की बड़ी-बड़ी बातें होती लेकिन हकीकत क्या है। आप फिर से इन्हें मौका देना चाहते हैं कि ताकि आप पर अत्याचार बढ़ सके। राइट टू प्राइवेसी से हमें महरूम किया जा रहा है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बेटे के वायरल वीडियो को लेकर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि अपनी जागरूकता के आधार पर वोट दो। आप भाजपा के एक-एक नेता को अहसास दिलाओ कि जब तक ये आपकी संपत्ति आपको वापस नहीं दिलाते, तब आप मंच पर उन्हें खड़े नहीं होने देंगे। ये तीर अगर सही लगा तो आपका भविष्य मजबूत बन सकेगा। प्रियंका ने कहा कि जो गैस सिलेंडर पहले 400 रुपये में मिलता था, उसे 1200 का कर दिया। अब जब चुनाव आए तो दो महीने पहले 400 रुपये कम कर दिया। दो महीने पहले कर सकते थे तो इतने सालों से क्यों नहीं किया। मध्यप्रदेश सरकार ने 22 हजार घोषणाएं की हैं। 22 भी पूरी नहीं कीं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार पर मुझे गर्व है। जहां-जहां भाजपा की सरकारें हैं, उन प्रदेशों में देश-प्रदेश की संपत्ति यानी आपका पैसा आपसे छीनकर बड़े उद्योगपतियों को दिया गया।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 November 2023

dhar,Hindu organization , Mother  give darshan

धार/भोपाल। मध्य प्रदेश के धार जिला मुख्यालय पर स्थित हिंदुओं की आस्था का केंद्र ऐतिहासिक भोजशाला एक बार फिर चर्चा में है। रविवार को सुबह सोशल मीडिया पर फोटो और वीडियो वायरल हुए हैं, जिसमें भोजशाला में गर्भगृह वाले स्थान पर पाषाण की मां वाग्देवी सरस्वती की प्रतिमा रखी हुई दिखाई दी। इसके बाद हिंदू संगठन के लोग सक्रिय हुए और भोजशाला पहुंच गए। इधर, सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में पुलिस बल और आला अधिकारी भी भोजशाला पहुंचे, लेकिन तब तक वहां से मूर्ति हटा दी गई थी।       हिंदू संगठन का आरोप है कि पुलिस द्वारा प्रतिमा हटाई गई है। हिंदू संगठन ने दावा किया कि मां सरस्वती यहां पर भक्तों को दर्शन देने के लिए प्रकट हुई थीं। वहीं, पुलिस प्रशासन ने अपना पक्ष स्पष्ट किया है।   पुलिस ने कहा कि भारतीय पुरातत्व विभाग के अधीन स्थित भोजशाला परिसर के बाहर लगी तार फेंसिंग को अज्ञात सामाजिक तत्वों द्वारा रात्रि में काट दिया गया था। स्मारक में मूर्ति रखने का प्रयास किया गया है। हालांकि, जिन लोगों ने ऐसा करने की कोशिश की, उनके बारे में अब तक कुछ पता नहीं चला है।       धार के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ. इंद्रजीत बाकलवार ने बताया कि ऐसा कृत्य करने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। पुरातत्व विभाग की रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई करेंगे। भोजशाला के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारी फैलाने वाले लोगों पर भी पुलिस की कड़ी नजर है। फिलहाल शहर में शांति कायम है।       गौरतलब है कि धार की ऐतिहासिक भोजशाला में बसंत पंचमी पर मां वाग्देवी यानी सरस्वती की पूजा होती है, लेकिन मुस्लिम इसे मस्जिद मानते हैं। इसीलिए बसंत पंचमी पर यहां अकसर विवाद होते रहे हैं। हालांकि, कुछ वर्षों से यहां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा एक आदेश जारी कर रखा है। इसके तहत प्रति मंगलवार को हिंदू समाज को पूजा अर्चना करने की अनुमति है, जबकि शुक्रवार को यहां नमाज अदा की जाती है। शेष सप्ताह के पांच दिन भोजशाला पर्यटकों के लिए खुली रहती है। यहां पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहती है। बाहर पुलिस चौकी भी बनाई गई है। सीसीटीवी कैमरे लगा रखे हैं।       हिंदू संगठन भोजशाला सत्याग्रही गोपाल शर्मा ने बताया कि हमें इस बात की जानकारी मिली कि मां सरस्वती की प्रतिमा गर्भगृह में रखी गई है। यह किसने रखी है, हमें नहीं मालूम, लेकिन हमारे धर्म में मान्यता है कि प्रतिमाएं स्वयं प्रकट होती हैं। यदि किसी ने रखी भी है तो उसने अच्छी पहल की है। हम लगातार कई सालों से केवल आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन उसका हमें कोई नतीजा नहीं मिल रहा।   भाजपा नेता अशोक जैन ने कहा कि गर्भ गृह से प्रतिमा नहीं हटाई जानी चाहिए थी। वह स्वयं प्रकट हुई है। ऐसे में हम प्रशासन और पुलिस से यह मांग करते हैं कि वह तत्काल ही प्रतिमा को वापस रखा जाए। ऐसा नहीं होने पर हम आंदोलन करेंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  10 September 2023

dhar, Uncontrolled car , two women died

धार। जिले के धरमपुरी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम जामनिया के पास गुरुवार देर रात एक बेकाबू कार अनियंत्रित होकर ओंकारेश्वर परियोजना की बड़ी नहर में गिर गई। इस हादसे में कार सवार दो महिलाओं की मौत हो गई, जबकि एक 10 साल बच्चा लापता है। रेस्क्यू टीम मौके पर मौजूद है और बच्चे की तलाश में जुटी हुई है। तीन अन्य लोगों को मौके पर मौजूद लोगों ने सुरक्षित बचा लिया है।       पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, ग्राम दाबड़ निवासी परिवार राखी का त्यौहार मनाने के लिए ग्राम जामनिया आया था। गुरुवार की रात परिवार के छह सदस्य ग्रैंड विटारा कार से अपने घर वापस लौट रहे रहे थे। इस दौरान ग्राम जामनिया से कुछ दूरी पर स्थित नहर पार करने के दौरान कार अनियंत्रित होकर पुल से नीचे नहर में जा गिरी। आस-पास के लोगों ने कार को नहर में गिरते देखा तो फौरन उन्होंने नहर से लोगों को बाहर निकालने के प्रयास शुरू किए। ग्रामीणों ने कार में मौजूद लोगों में से तीन को सुरक्षित बाहर निकाल लिया और घटना की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस तत्काल एसडीआरएफ की टीम के साथ मौके पर पहुंची और राहत एवं बचाव अभियान शुरू किया।       पुलिस ने बताया कि कार में छह लोग सवार थे, जिसमें से तीन को ग्रामीणों ने बचा लिया, जबकि दो महिलाओं की कार में मौत हो गयी, जिनके शव पुलिस ने बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए। वहीं एक 10 साल का बच्चा अभी लापता है, जिसकी तलाश की जा रही है। धरमपुरी थाना प्रभारी संतोष यादव ने बताया कि कार सवार कुसुम नारायण (32 वर्ष) और झालूबाई भावसिंह (55 वर्ष) की पानी में डूबने से मौत हो गई है। लापता बच्चे की तलाश की तलाश जारी है। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  8 September 2023

dhar, Big accident ,village Kherwa

धार। जिले के बाग थाना क्षेत्र के ग्राम खेरवा में शनिवार देर शाम को मधुमक्खी का छत्ता तोड़ने के दौरान बड़ा हादसा हो गया। छत्ता तोड़ने के दौरान मधुमक्खियाें ने ग्रामीणों पर हमला बोल दिया। घटना में एक व्यक्ति की मौत हुई है, जबकि तीन लोग गंभीर रुप से घायल हुए है। घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद बड़वानी के जिला चिकित्सालय के लिए भेजा गया। जहां सभी का उपचार जारी है। वहीं रविवार सुबह पुलिस ने मृतक का पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया।   जानकारी अनुसार ग्राम खेरवा के कुछ लोग रविवार सुबह जंगल में एक पेड़ पर लगे मधुमक्खी के छत्ते से शहद निकालने का प्रयास कर रहे थे। इस दौरान शहद निकालने वाले लोगों ने दवाई का स्प्रे किया। दवा छिड़कते ही मधुमक्खियां भड़क गई और ग्रामीणों पर आक्रमण कर दिया। मधुमक्खियों के हमले में खेरवा निवासी बोंदरसिंह (55 वर्ष) पुत्र शेरसिंह के मुंह पर बड़ी संख्या में मधुमक्खी ने डंक मारा, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। वहीं दिनेश पुत्र धुमजी सहित तीन गंभीर रूप से घायल हो गए है। मधुमक्खी के दंश से घायल व्यक्तियों को इलाज के लिए ट्रैक्टर के माध्यम से बाग अस्पताल लाया गया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद बड़वानी के जिला चिकित्सालय के लिए भेजा गया। सहायक उप निरीक्षक राजेश चौहान ने बताया कि बाग थाना क्षेत्र के ग्राम खेरवा में कुछ लोग जंगल में एक पेड़ पर लगे मधुमक्खी के छत्ते से शहद निकालने का प्रयास कर रहे थे। इस दौरान मधुमक्खी के दंश से एक व्यक्ति की मौत हुई है जबकि तीन लोग घायल हुए हैं। घायलों का उपचार जारी है। मृतक व्यक्ति का शव पोस्टमार्टम कर रविवार सुबह परिजनों को सौंप दिया गया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 August 2023

dhar, Trolley collided ,Jodhpur to Hyderabad

धार। मध्य प्रदेश के धार जिले में बदनाबर थाना क्षेत्र अंतर्गत लेबड़-नयागांव फोरलेन पर ग्राम मुलथान के पास रविवार सुबह एक तेज रफ्तार ट्राले ने आगे चल रही स्लीपर कोच बस को साइड से टक्कर मार दी। इस हादसे में बस में सवार आठ यात्री घायल हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और घायलों को 108 एंबुलेंस और जननी एक्सप्रेस से इलाज के लिए बदनावर के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।     पुलिस के अनुसार, स्लीपर कोच यात्री बस क्रमांक एआर 06 बी 2929 जोधपुर से हैदराबाद जा रही थी। रविवार सुबह करीब 7.00 बजे लेबड़-नयागांव फोरलेन पर ग्राम मुलथान के पास पीछे से तेज रफ्तार से आए ट्राला क्रमांक आरजे 47 जीए 3335 ने चालक की साइड से बस को जोरदार टक्कर मार दी। जिससे बस का बगल का हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया और साइड से बैठे यात्री घायल हो गए। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी विश्वदीप सिंह परिहार पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और जानकारी लेकर घायलों को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया।     बदनावर थाना प्रभारी विश्वदीप सिंह परिहार ने बताया कि ट्राले में सीमेंट की बोरियां भरी थीं। ट्राले की टक्कर से बस की एक साइड की बॉडी निकल गई और ट्राले से निकली सीमेंट से यात्री लथपथ हो गए और उनका सामान भी खराब हो गया। इस हादसे में आठ यात्री घायल हुए हैं, उनमें से छह को गंभीर चोटें आई हैं। घायलों में एक महिला भी शामिल है। पुलिस ने ट्राले को जब्त कर लिया है। अभी बस चालक और परिचालक का पता नहीं चला है। पुलिस ने ट्राला चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है।     उन्होंने बताया कि घायलों में शंकर पुत्र नारायण चौधरी निवासी जालौर, दिनेश पुत्र दीपाराम ब्राह्मण निवासी भीकमपुर, लालसिंह पुत्र शेरसिंह राजपूत निवासी जोधपुर, ओमप्रकाश पुत्र लिखमाराम निवासी हैदराबाद, कुलदीप पुत्र प्रहलाद निवासी जैतरण राजस्थान, देवराम पुत्र बाबूलाल सिरवी निवासी पाली, गौतमचंद पुत्र रत्नाकर परिहार निवासी हैदराबाद व प्रतिभा पत्नी जयचंद जैन निवासी हैदराबाद शामिल हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 June 2023

dhar, mother turned out ,murderer

धार। धार जिले के सरदारपुर के श्यामपुरा ठाकुर गांव में मंगलवार शाम को कुंए में तीन बच्चियों के शव मिलने के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। तीनों बच्चियों की हत्या उनकी मां ने ही की थी। बच्चों के शव मिलने के बाद से ही पुलिस मां की तलाश कर रही थी। बुधवार सुबह पुलिस को बच्चों की मां टांडा खेड़ा गांव में मिली। जहां उसने पुलिस के सामने बच्चों की हत्या करने की बात कबूल की। पुलिस जांच में पता चला है कि महिला ने अंधविश्वास के चलते इस खौफनाक वारदात को अंजाम दिया और अपनी ही तीन बच्चियों को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर आगे की पड़ताल शुरू कर दी है।   जानकारी अनुसार मंगलवार शाम को श्यामपुरा ठाकुर गांव में एक बच्ची का शव कुएं के पास और दो के शव कुएं के अंदर मिले थे। बच्चियों के साथ गई उनकी मां रजनी लापता थी। पुलिस ने पूरी रात मां की तलाश की और खोजबीन के लिए देर रात तक कुएं को खाली करवाया, लेकिन उसका पता नहीं चला। बुधवार सुबह मां रजनी टांडा खेड़ा गांव में मिल गई, उससे पूछताछ करने के लिए एसडीओपी रामसिंह मेडा सहित पुलिस बल वहां पहुंचा। जहां रजनी ने बताया कि उसने ही तीनों बच्चिों की हत्या की है। पुलिस के अनुसार महिला ने अंधविश्वास में उन्हें मौत के घाट उतार दिया। रजनी किसी तांत्रिक के संपर्क में थी, वहीं ग्रामीणों का कहना है कि वह मानसिक रूप से परेशान थी और अचानक गुस्से में आ जाती थी। पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह के अनुसार महिला ने अंधविश्वास के चक्कर में इस घटना को अंजाम दिया है। पुलिस पूरे मामले की सघनता से जांच पड़ताल कर रही है और शीघ्र ही पूरे घटनाक्रम का खुलासा किया जाएगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 April 2023

dhar, Truck collided , four died

धार। जिले के सरदारपुर में बीती रात सड़क पर बिखरे गेहूं को इकट्ठा कर रहे लोगों को तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी। इस हादसे में चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार सरदारपुर के भेरू चौकी के समीप रोड पर किसी वाहन से गिरकर गेहूं के दाने बिखर गए थे। आसपास के लोग इन दानों को सड़क पर आकर बीनने लगे। इसी बीच सड़क से गुजर रहे तेज रफ्तार ट्रक ने सड़क पर गेहूं बीन रहे लोगों को रौंद दिया। टक्कर इतनी तेज थी कि चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा और आयशर वाहन के चालक के खिलाफ प्रकरण दर्जकर जांच शुरू कर दी है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 April 2023

bhopal, PM Mitra Mega ,Integrated Textile Park

भोपाल। मेक इन इंडिया को बढ़ावा देते हुए केंद्र सरकार ने देश के सात राज्यों में पीएम मित्र मेगा टेक्सटाइल पार्क को मंजूरी दी है। मध्यप्रदेश के धार जिले में 'पीएम मित्र' मेगा एकीकृत टेक्सटाइल पार्क स्थापित करने का निर्णय लिया है। इससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे और देश के विकास के नए रास्ते खुलेंगे। पीएम मित्र मेगा टेक्सटाइल पार्क के जरिए कपड़ा संबंधी संपूर्ण कार्य यानी कपड़ा तैयार करने से लेकर उसके एक्सपोर्ट तक के सभी कार्य एक ही स्थान पर हो सकेंगे। इसमें लगभग 4425 करोड़ रुपये का निवेश होगा।   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बारे में शुक्रवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि ”PM MITRA मेगा टेक्सटाइल पार्क 5F (फार्म टू फाइबर टू फैक्ट्री टू फैशन टू फॉरेन) विजन के अनुरूप कपड़ा क्षेत्र को बढ़ावा देगा। यह बताते हुए खुशी हो रही है कि पीएम मित्रा मेगा टेक्सटाइल पार्क तमिलनाडु, तेलंगाना, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात, एमपी और यूपी में स्थापित किए जाएंगे।”   पीएम मोदी ने इसे मेक इन इंडिया और मेक फॉर द वर्ल्ड का बेहतरीन उदाहरण बताते हुए कहा, ”पीएम मित्रा मेगा टेक्सटाइल पार्क कपड़ा क्षेत्र के लिए अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा प्रदान करेगा, करोड़ों का निवेश आकर्षित करेगा और लाखों जगार पैदा करेगा.” मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इससे 14 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे।   औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि 5 एफ विजन से विदेशों तक हम अपने कपड़ा उद्योग का विस्तार कर सकेंगे। पूरी प्रक्रिया में पहले खर्च बढ़ता था और समय की बर्बादी होती थी, लेकिन अब एक ही जगह टेक्सटाइल पार्क होने पर इस पर रोक लगेगी। यह निर्णय टेक्सटाइल सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देने और रोजगार के अनेक अवसर सृजित करने में मददगार साबित होगा।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 March 2023

indore,Vyapam

इंदौर/धार। व्यापमं के व्हिसल ब्लोअर डा. आनंद राय ने फेसबुक पर एक वीडियो डालकर गलत जानकारी देने के मामले में पूर्व मंत्री एवं भाजपा की वरिष्ठ नेत्री रंजना बघेल से माफी मांग ली है। वहीं, पूर्व मंत्री बघेल गुरुवार को इंदौर में पुलिस अधीक्षक अधीक्षक से मुलाकात कर मामले की शिकायत करेंगी।     दरअसल, डॉ. आनंद राय ने बुधवार को फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने लिखा था कि भाजपा की नेता और पूर्व मंत्री रंजना बघेल इस चुनाव में जयस का साथ देंगी। इसके बाद रंजना बघेल ने एक वीडियो जारी कर उन्हें चेतावनी देते हुए था कि कहा कि भ्रामक पोस्ट हटा लें, वरना घर पर आकर जूते मारुंगी। वे रात में डॉ. राय के इंदौर आवास पर जा पहुंची। डॉ. आनंद राय की पत्नी उस वक्त घर में मौजूद थीं और उन्होंने दरवाजा नहीं खोला, इस पर पूर्व मंत्री बघेल ने कहा कि अपने पति को समझाइए कि वे झूठी खबरें न फैलाएं। इस मामले में अब वे इंदौर एसपी से मुलाकात कर शिकायत करने वाली हैं।     पूर्व मंत्री रंजना बघेल ने डॉ. आनंद राय के घर पहुंचकर उनकी पत्नी से कहा कि पति को समझाइए कि नौकरी कर लें या फिर राजनीति कर लें। इस तरह की झूठी पोस्ट डालकर आदिवासियों को बदनाम न करें। वीडियो में रंजना बघेल यह भी कहती दिख रहीं कि डॉ. राय तो घर में ही हैं, वे अभी मुझे पीछे जाते हुए दिखे हैं।     बता दें कि डॉ. आनंद राय ने जो वीडियो फेसबुक पर पोस्ट किया था, उसमें रंजना बघेल, जयस नेता डॉ. हीरालाल अलावा को माला पहनाती दिख रही हैं। इसमें उनके साथ भाजपा के नगर मंडल अध्यक्ष सचिन पांडे और बदनावर के सिंधिया गुट के नेता दिनेश ग्रेवाल भी मौजूद हैं। इसी वीडियो के साथ डॉ. राय ने लिखा था कि रंजना बघेल इस बार चुनाव में जयस का साथ देंगी। रंजना बघेल ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह वीडियो दो साल पुराना है। मैं तीस वर्ष से भाजपा की सिपाही के रूप में काम कर रही हूं। मेरे बारे में ऐसी झूठी खबर फैलाई जा रही है। इस पर मैं कार्रवाई करूंगी।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  16 March 2023

Dhar, Three vehicles ,caught fire

धार। मध्यप्रदेश के धार जिले में राऊ-खलघाट फोरलेन स्थित गणपति घाट पर शनिवार सुबह एक भीषण हादसा हो गया। यहां घाट उतर रहे एक ट्राले के ब्रेक फेल होने से वह अनियंत्रित होकर आगे चल रहे दो वाहनों को टक्कर मारते हुए डिवाइडर से आगे घाट चढ़ने वाली लेन पर जा पहुंचा। इसके बाद घाट चढ़ रहे दो वाहनों से टकरा गया। टक्कर के बाद तीनों वाहनों में आग लग गई। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। इस हादसे में दो लोग जिंदा जल गए। जो लोग वाहनों से कूद गए, उनकी जान तो बच गई, लेकिन वे गंभीर रूप से घायल हो गए।     गनीमत रही कि पास से गुजर रही खरगोन से इंदौर जा रही गौर ट्रेवल्स की बस भी हादसे में बाल-बाल बच गई। हादसे के वक्त बस घटनास्थल पर ही किसी कारण से रुक गई। ग्रामीणों ने तुरंत बस में सवार यात्रियों को पहले उतारकर आग से दूर किया। इसके बाद बस को आगे बढ़ाकर निकाला गया। सभी यात्रियों और बस को सुरक्षित निकालकर इंदौर रवाना किया गया। हादसे के बाद से ही घाट पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। प्रशासन ने पहुंचकर पांच फायर बिग्रेड की मदद से करीब तीन घंटे बाद आग पर काबू पाया। तीन घायलों को टोल एंबुलेंस की मदद से उपचार के लिए धामनोद अस्पताल भेजा गया। वहीं ब्रेक फैल ट्राले में जलकर कंकाल बने दोनों शवों को धामनोद अस्पताल भेजा गया।     हादसे के बाद से ही गणपति घाट पर वाहनों की लंबी कतार लग गई। वाहनों को मानपुर से ही सगड़ी बगड़ी होते हुए धार की तरफ निकाला गया। गुजरी गांव में से महेश्वर होते हुए जामगेट से इंदौर की तरफ निकाला गया। पुलिस प्रशासन पूरी तरफ से ट्रैफिक व्यवस्था संभालते नजर आया। जाम में फंसे लोग परेशान भी होते रहे, क्रेन की मदद से वाहनों को हटाने का कार्य जारी है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  11 March 2023

dhar, Dead bodies ,young man and woman,Mandu

धार। जिले के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल मांडू में नालछा से लगी गहरी गिदीआ खोह में बुधवार सुबह एक युवक और युवती के शव लटके हुए मिले हैं। सुबह पशु चराने गए आसपास के ग्रामीणों में खाई के बीच शवों को लटका हुआ देखा और पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंच गई है और शवों को बाहर निकालने में जुटी हुई है।     पुलिस के अनुसार, करीब 1500 मीटर गिदिया खोह में बुधवार सुबह युवक-युवती के शव बरामद हुए हैं। ग्रामीणों की सूचना पर मांडू और नालछा का पुलिस बल तत्काल मौके पर पहुंचा। फिलहाल युवक और युवती का शव खाई में फंसे हुए हैं। पुलिस शवों को बाहर निकालने के प्रयास कर रही है। इसके लिए भारी मशक्कत करनी पड़ रही है। मौके पर लोगों की भीड़ जमा जमा है। पुलिस के अनुसार, प्रारंभिक तौर पर मामला प्रेम प्रसंग का लग रहा है। मृतक युवक-युवती नालछा थाना क्षेत्र के ग्राम उमरपुरा के रहने वाले बताए जा रहे हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 February 2023

dhar,Mother Saraswati, Mahaarti , Bhojshala

धार। मध्य प्रदेश के धार स्थित ऐतिसाहिक भोजशाला में गुरुवार को बसंत पंचमी का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। यहां सुबह सात बजे से भक्तों के आने का सिलसिला शुरू हो गया था। यहां मां वाग्देवी की आराधना के स्वर से पूरी भोजशाला परिसर गूंजायमान हो रहे हैं। हजारों लोग आराधना के साक्षी बने। राजा भोज और मां वाग्देवी के जयकारों के से पूरी भोजशाला गूंजायमान हो गई। सुबह सात बजे मां सरस्वती का यज्ञ प्रारंभ हुआ। इसमें हजारों लोगों ने आहूति दीं। वहीं, दोपहर 12 बजे नगर में मां सरस्वती की शोभायात्रा शुरू हुई, जिसमें जयकारों से पूरी नगरी गूंज उठी।     दरअसल, भोजशाला साल में केवल एक दिन बसंत पंचमी के दिन खुली रहती है। यहां बसंत पंचमी के दिन हिंदू समाज को सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक भोजशाला में प्रवेश की अनुमति होती है। साथ ही मां सरस्वती का तेल चित्र ले जाने के साथ ही धार्मिक आयोजन करने की अनुमति होती है। इस दिन का पूरे साल हिंदू समाज को इंतजार रहता है। गुरुवार को जैसे ही सूर्य उदय हुआ, भोजशाला में श्रद्धालुओं के आना का सिलसिला शुरू हो गया। यहां शाम तक हजारों लोग पहुंचकर मां वाग्देवी की पूजा कर यात्रा में शामिल होंगे।     भोजशाला में सूर्य की पहली किरण के साथ ही पूजन शुरू हुआ। सुबह 7:00 बजे हवन की शुरुआत हुई, जो शाम 5:30 बजे तक जारी रहेगा। पूर्णाहुति व महाआरती के साथ समापन होगा। वसंत पंचमी पर भोजशाला में दर्शन करने के लिए हिंदू समाज का तांता लगा हुआ है। हिंदू समाज के लोगों में और एक अलग ही उत्साह नजर आ रहा है। दोपहर 12 बजे मां सरस्वती की शोभायात्रा यहां उदाजीराव चौराहा लालबाग से शुरू हुई। यात्रा में मुख्य अतिथि और वक्ता अखिल भारतीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश, राज्यसभा सदस्य डा सुमेर सिंह सोलंकी यात्रा में शामिल हुए।     वसंत उत्सव का हिंदू समाज को पूरे साल इंतजार रहता है। उत्सव को लेकर पूर्व में ही महाराजा भोज वसंत स्मृति महोत्सव समिति द्वारा तैयारियां की गई थी। साथ ही भोजशाला को भी आकर्षक रूप से भगवामय किया गया। यहां भक्तों का आना सूर्य अस्त तक जारी रहेगा। इधर जैसे ही भोजशाला के बाहर शोभायात्रा आई तो युवाओं का उत्साह चरम पर देखा गया। पूरी धारानगरी राजा भोज के जयकारों से गुंजयमान हो गई।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  26 January 2023

dhar,Fake voter ,civic elections

धार, 20 जनवरी (हि.स.)। नगरीय निकाय के लिए शुक्रवार को हो रहे मतदान के दौरान एक फर्जी मतदाता पकड़ाया है। फर्जी मतदाता की पहचान कांग्रेस के एक नेता ने की। पुलिस फर्जी मतदाता के खिलाफ अग्रिम कार्रवाई कर रही है। इधर, भाजपा ने अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ रहे पांच नेताओं को पार्टी से निष्काषित कर दिया है।   प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के वार्ड क्रमांक 21 से माधुरी सोनी कांग्रेस की अधिकृत प्रत्याशी हैं। उनके पति अमित सोनी ने शुक्रवार सुबह मतदान करने के लिए आए एक युवक को रोक लिया। उन्हें संदेह था कि उक्त युवक किसी अन्य मतदाता के नाम पर वोट देने आया है। उन्होंने फर्जी मतदाता के पकड़े जाने की सूचना कोतवाली पुलिस टीम को दी। पुलिस युवक को अपने साथ थाने लेकर गई है और उससे पूछताछ की जा रही है। शुरुआती पूछताछ में युवक ने अपना नाम अंतिम प्रजापत निवासी टांडा बताया है। युवक के अनुसार वह अपने दोस्त के साथ शुक्रवार सुबह ही टांडा से धार आया था। इसी बीच मतदान करने पहुंच गया था। पुलिस द्वारा कार्रवाई की जा रही है।   अधिकृत प्रत्याशी के विरुद्ध चुनाव लड़ रहे पांच भाजपा नेता निष्कासित शुक्रवार सुबह मतदान के दौरान ही भाजपा ने अपने पांच नेताओं को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया है। यह सभी नेता पार्टी के अधिकृत प्रत्याशियों के विरुद्ध चुनाव लड़ रहे थे। ऐसे में अनुशासनहीनता के चलते पार्टी ने इन्हें 6 साल के लिए बाहर का रास्ता दिखा दिया है। पार्टी के जिला अध्यक्ष राजीव यादव ने बताया कि नगर परिषद डही में वार्ड क्रमांक 2 में अनूप राठोर व शाहरुख बलोच, वार्ड क्रमांक 4 में अनोखी राठौड, वार्ड क्रमांक 5 में गीता सोलंकी, वार्ड क्रमांक 7 में आयुषी सौरभ भावसार को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  20 January 2023

मुख्यमंत्री ने खाटला पंचायत में बताये पेसा एक्ट के अधिकार

सब अपनी पंचायतों में पेसा एक्ट के बारे में बताएं मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कुक्षी के मंडी प्रांगण में पेसा जागरूकता कार्यक्रम के दौरान आयोजित खाटला पंचायत में 4 जनपद के 40 ग्राम पंचायत के सरपंचो को सम्बोधित करते हुए पेसा एक्ट के प्रावधानों के बारे में सरपंचों से सीधी बात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल, जंगल और जमीन के अधिकारों के साथ ही अन्य कई अधिकार भी ग्राम सभाओं को दिए गए हैं। अब आप लोगों को गाँव को सशक्त बनाना है। आप सब अपनी पंचायतों में पेसा एक्ट के बारे में बताएं। फैसला अब ग्राम सभाओं में होना है। इसलिए गाँव के लोगों में इसके विभिन्न पहलू के बारे में आपको भी जागरूकता लानी है। खाटला पंचायत के दौरान बाग के सरपंच धर्मेंद्र बामनिया ने ग्राम सभाओं को व्यापक रूप से अधिकार संपन्न बनाने के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान का धन्यवाद ज्ञापित किया। निसरपुर के सरपंच अंतिम पटेल ने भी धन्यवाद दिया। इस दौरान सांसद वीडी शर्मा और क्षेत्रीय सांसद  छतरसिंह दरबार भी उपस्थित रहे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 November 2022

पेसा एक्ट से होगा जनजातीय समुदाय का आर्थिक-सामाजिक सशक्तिकरण : मुख्यमंत्री

पेसा एक्ट समाज के सभी नागरिकों के हित में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पेसा एक्ट जनजातीय भाई-बहनों की आर्थिक, सामाजिक उन्नति और उन्हें सशक्त एवं अधिकार सम्पन्न बनाने के लिये लागू किया गया है। यह एक्ट समाज के सभी नागरिकों के हित में है। किसी भी गैर-जनजातीय समाज के नागरिक के खिलाफ नहीं है। पेसा एक्ट अनुसूचित क्षेत्र में गाँव में लागू होगा, यह एक्ट शहर में लागू नहीं होगा। हमारे जो भी जनजातीय भाई-बहन विकास की दौड़ में पीछे रह गये हैं, पेसा एक्ट उन्हें मजबूत बनायेगा। मुख्यमंत्री  चौहान धार जिले के कुक्षी में पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। यहाँ उन्होंने 4 जनपद की 40 ग्राम पंचायत के सरपंचों से चारपाई पर बैठ कर पेसा एक्ट के नियमों के संबंध में संवाद किया। मुख्यमंत्री ने कुक्षी से क्रान्तिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा को पूजन के बाद रवाना किया और यात्रा में स्वयं शामिल भी हुए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जल, जंगल और जमीन पर सबका अधिकार होना चाहिये। पेसा एक्ट के नियमों के अनुसार अब पटवारी और वन विभाग के बीट गार्ड को गाँव की जमीन का नक्शा, खसरा, बी-1 नकल वर्ष में एक बार गाँव में लाकर ग्राम सभा में दिखाना होगा, जिससे जमीन के रिकॉर्ड में कोई गड़बड़ी न कर सके। यदि कोई गड़बड़ी पाई जाती है, तो ग्राम सभा को रिकॉर्ड को सुधारने की अनुशंसा करने का अधिकार होगा। पटवारी को ग्राम सभा की बैठक में भूमि संबंधी डिटेल्स पढ़ कर सुनानी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट के नियम में प्रावधान है कि शासन की योजना के किसी भी प्रोजेक्ट में किये जाने वाले सर्वे और भू-अर्जन के लिये ग्राम सभा की अनुमति आवश्यक होगी। किसी भी जनजातीय नागरिक की भूमि छल-कपट और बलपूर्वक अब कोई हड़प नहीं सकेगा। यदि कोई ऐसा करता है, तो ग्राम सभा को उसे वापस करवाने का अधिकार रहेगा। उन्होंने कहा कि बहला-फुसला कर धर्मान्तरण कराने और फिर जनजातीय समाज की जमीन हड़प लेने की कोशिश नहीं होने दी जायेगी। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि खनिज की खदान, जिसमें रेत, गिट्टी पत्थर की खदान शामिल है, के ठेके देना है या नहीं, इसका निर्णय ग्राम सभा द्वारा किया जायेगा। खदान पर पहला अधिकार सोसायटी, फिर गाँव की बहन-बेटी और उसके बाद पुरुष का होगा।   सिंचाई तालाबों का प्रबंधन ग्राम सभा करेगी   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने गाँव-गाँव में तालाब बनवाये हैं। इन तालाबों का पूरा प्रबंधन ग्राम सभा करेगी। ग्राम सभा तय करेगी कि तालाब में मछली पाले या नहीं। तालाब से जो आमदनी होगी, वह ग्राम सभा को मिलेगी। सौ एकड़ कृषि क्षेत्र में सिंचाई करने वाले तालाब का प्रबंधन अब सिंचाई विभाग नहीं ग्राम सभा करेगी।    जंगल से मिलने वाली वनोपज पर ग्राम सभा का अधिकार   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव की सीमा के जंगल में होने वाली वनोपज- महुआ, हर्रा, बहेरा आदि के संग्रहण और बेचने और भाव तय करने का अधिकार ग्राम सभा के पास होगा। तेन्दूपत्ता को तोड़ने और बेचने का अधिकार ग्राम सभा को दिया गया है। इसमें सरकार का किसी भी प्रकार का दखल नहीं रहेगा। सरकार यह काम तभी करेगी, जब ग्राम सभा चाहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि तेन्दूपत्ता यदि इस साल तोड़ना चाहते हैं, तो शीघ्र ही 15 दिसम्बर तक ग्राम सभा को प्रस्ताव पारित करना होगा।   ग्राम विकास का निर्णय ग्राम सभा लेगी   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा ही ग्राम विकास की कार्य-योजना बनायेगी। ग्राम सभा की अनुमति के बाद ही ग्राम पंचायत को मिलने वाली राशि खर्च की जा सकेगी। काम के लिये गाँव से बाहर जाने वाले श्रमिक को पहले ग्राम सभा में यह बताना होगा कि वह कहाँ काम करने जा रहा है, उस स्थान का पता लिखाना होगा, जिससे कि उस श्रमिक के हितों का ध्यान ग्राम सभा रख सके। यदि कोई बाहर का व्यक्ति गाँव में आता है, तो उसे भी ग्राम सभा को सूचित करना होगा। श्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक मिले, इसका ध्यान भी ग्राम सभा रखेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में केवल लायसेंसधारी साहूकार ही निर्धारित ब्याज दर पर पैसा उधार दे सकेंगे। इसकी जानकारी भी ग्राम सभा को देनी होगी। अधिक ब्याज लेने पर संबंधित साहूकार पर कार्यवाही होगी।   ग्राम सभा की अनुमति के बिना नई शराब दुकान नहीं खुलेगी   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि ग्राम सभा की अनुमति के बिना शराब और भांग की नई दुकान नहीं खुल सकेगी। किसी शराब दुकान को हटाने की अनुशंसा ग्राम सभा कर सकेगी। यदि शराब की दुकान के पास स्कूल, अस्पताल और धर्मशाला है, तो ग्राम सभा उस शराब दुकान को वहाँ से हटाने की अनुशंसा सरकार को भेज सकेगी। ग्राम सभा को अवैध रूप से संचालित शराब की दुकानों पर कार्यवाही करवाने का अधिकार रहेगा।   ग्राम सभा सुलझाएगी छोटे झगड़े   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव में शांति एवं विवाद निवारण समिति बनेगी और गाँव के छोटे-मोटे झगड़े थाने नहीं जायेंगे, उन्हें अब ग्राम सभा में ही सुलझाया जायेगा। गाँव के किसी व्यक्ति के विरुद्ध थाने में एफआईआर दर्ज करने के पहले पुलिस को ग्राम सभा को बताना होगा।   स्कूल-आँगनवाड़ी के निरीक्षण का अधिकार ग्राम सभा को मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट ने ग्राम सभा को अधिकार दिया है कि वह आँगनवाड़ी, स्कूल, आश्रम, छात्रावास का निरीक्षण करे और इनके काम ठीक से संचालित कराएँ।   मुख्यमंत्री ने दिलाया संकल्प मुख्यमंत्री चौहान ने उपस्थित जन-समूह को प्रेम, शांति और सद्भाव के साथ पेसा एक्ट के अधिकार लागू करने का संकल्प दिलाया। सांसद  व्ही.डी. शर्मा, सांसद छतर सिंह दरबार, राज्य सभा सांसद  सुमेर सिंह सोलंकी, सांसद  गजेन्द्र सिंह पटेल, पूर्व मंत्री  रंजना बघेल और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 November 2022

पीथमपुर म.प्र. की औद्योगिक एवं रोजगार देने वाली राजधानी

मुख्यमंत्री ने 1371 करोड़ के विकास कार्यों की दी सौगात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पीथमपुर मध्यप्रदेश की औद्योगिक एवं रोजगार देने वाली राजधानी बन गया है। यहाँ बड़े पैमाने पर उद्योग स्थापित हुए हैं और उद्योगों के लिये निवेश आने का क्रम जारी है। यहाँ बेटियों के लिये अलग से महिला उद्यमी पार्क बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री  चौहान पीथमपुर में रोजगार दिवस और "एक जिला-एक उत्पाद'' कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने 1371 करोड़ रूपये के विकास कार्यों की सौगात दी और 3 लाख 19 हजार युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ने के लिये 2577 करोड़ रूपये की ऋण राशि का वितरण किया। साथ ही महाराणा प्रताप और शिवाजी महाराज की प्रतिमा का अनावरण किया। मुख्यमंत्री ने महिला उद्यमी पार्क का भूमि-पूजन कर 21 महिला उद्यमियों को भूमि आवंटन-पत्र भी सौंपे। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में सांस्कृतिक मूल्यों की स्थापना के लिये सांस्कृतिक पुनरुत्थान के कार्य शुरू हो गये हैं। वाग्देवी की प्रतिमा, जो इस समय इंगलैंड में है, को पुन: मध्यप्रदेश लाने के प्रयास किये जा रहे हैं। कानूनी प्रक्रिया पूरी की जा रही है। उज्जैन में श्री महाकाल लोक बनाया गया है। ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की प्रतिमा स्थापना का कार्य चल रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार युवाओं को रोजगार और स्व-रोजगार देने के लिये रात-दिन एक कर रही है। अगले एक वर्ष में एक लाख रिक्त सरकारी पदों पर भर्ती की जायेगी। नवम्बर माह में 40 हजार रिक्त पदों में भर्ती के लिये विज्ञापन जारी हो जायेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पीथमपुर में 1100 एमएसएमई इकाइयों में 12 हजार 777 करोड़ रूपये का निवेश है और 38 हजार 770 लोगों को रोजगार मिला है। यहाँ 95 बड़ी औद्योगिक इकाइयाँ स्थापित हैं, जिसमें 26 हजार 320 करोड़ रूपये का निवेश है और 53 हजार 493 लोगों को रोजगार मिला है। इस तरह से कुल एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिला हुआ है। पीथमपुर के फार्मा सेक्टर ने दुनियाभर को कोविड में दवाएँ पहुँचा कर अद्भुत काम किया है। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि किसान भाइयों से जमीन लेकर 12 हजार 500 हेक्टेयर में नया निवेश क्षेत्र स्थापित किया जायेगा, जिसमें एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। पीथमपुर अद्भुत औद्योगिक क्षेत्र है। यहाँ औद्योगिक इकाइयाँ लगातार निवेश करती जा रही हैं। यहाँ के औद्योगिक उत्पादों का 11 हजार करोड़ रूपये का निर्यात विभिन्न देशों में किया जाता है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पीथमपुर में सड़कों के निर्माण के लिये 15 करोड़ रूपये दिये जायेंगे। यहाँ राजस्व अनुभाग बना कर स्थाई रूप से एसडीएम कार्यालय स्थापित किया जायेगा। पीथमपुर अस्पताल का सिविल अस्पताल में उन्नयन किया जायेगा। स्थानीय जन-प्रतिनिधियों द्वारा की गई क्षेत्रीय विकास की गई माँगों को भी पूरा किया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर कोई भी गरीब परिवार बिना आवास के नहीं रहेगा। ऐसे सभी परिवारों को मुख्यमंत्री भू-आवासीय योजना में जमीन देकर उसका मालिक बनाया जायेगा। सभी पात्र लोगों के आवास भी बनाये जायेंगे। अकेले धार जिले में ही एक लाख गरीबों के मकान बन चुके हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि पूर्व सरकार ने संबल और मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना जैसी हमारी अनेक कल्याणकारी योजनाएँ बंद कर दी थी। ऐसी सभी बंद योजनाओं को हमने पुन: शुरू कर जनता को उसका लाभ देना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवार के मेधावी विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा की फीस राज्य सरकार भरेगी। पढ़ाई के साथ रोजगार की व्यवस्था के लिये भी सरकार निरंतर अभियान चला रही है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में शासन की विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं के हितलाभ भी वितरित किये। मुख्यमंत्री ने धार जिले के बाग प्रिंट के 'लोगो' का अनावरण किया एवं कारीगरों को जीआई सर्टिफिकेट वितरित किये। मुख्यमंत्री की मौजूदगी में एमपीआईडीसी और फियो के बीच एमओयू हुआ। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाओं का टर्न ओवर 20 हजार करोड़ तक पहुँच गया है। मेरा उद्देश्य है कि मेरी बहनें प्रतिमाह कम से कम 10 हजार रूपये की आय अर्जित करें। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि सरकार का समग्र रूप से एक ही लक्ष्य है कि जनता की ख़ुशहाली। युवा उद्यमियों को प्रोत्साहन के लिए विभिन्न योजनाएँ चल रही हैं। युवाओं को एक लाख से लेकर 50 लाख रुपये तक का लोन बैंक द्वारा दिया जा रहा है। लोन वापसी की गारंटी राज्य सरकार दे रही है। मुख्यमंत्री  चौहान ने मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान की जानकारी कलेक्टर से ली। बताया गया कि अभी तक ज़िले में 3 लाख 19 हज़ार आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिसमें से 2 लाख 90 हज़ार आवेदन स्वीकृत भी किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने आयुष्‍मान योजना, गरीबों के मकान की योजना, भू-आवास अधिकार योजना, गरीबों के राशन की योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया। लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि मध्यप्रदेश को एक नई दिशा देने के लिये अंत्योदय के साथ आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश को गढ़ने के लिये आज महत्वपूर्ण कदम उठाये जा रहे हैं। हमारी सरकार मध्यम एवं वंचित वर्ग के हर बच्चे का सपना पूरा करेगी। प्रदेश में 2 हजार से ज्यादा युवाओं ने स्टार्ट-अप प्रारंभ किये हैं। साथ ही फर्नीचर एवं टॉय क्लस्टर के लिये विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। औद्योगिक निवेश एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री  राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आत्म-निर्भर भारत से प्रोत्साहित होकर मुख्यमंत्री शिवराज चौहान द्वारा आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिये कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं, जिसमें 52 जिलों के 38 उत्पादों को "एक जिला-एक उत्पाद'' के रूप में चयनित किया गया है। इनकी मार्केटिंग के लिये अमेजान, फ्लिपकार्ट जैसी ऑनलाइन मार्केटिंग साइट से समझौता किया गया है। राज्य सरकार द्वारा गरीब एवं वंचित वर्ग के लोगों की जन्म से लेकर सम्पूर्ण जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं। युवा वर्ग के रोजगार एवं उच्च शिक्षा के लिये भी कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं, ताकि युवा अपने स्वप्न पूरे करते हुए प्रदेश एवं देश के विकास में सहयोगी बनें। मुख्यमंत्री चौहान का कार्यक्रम स्थल पहुँचने पर अलग अंदाज़ में स्वागत किया गया। यहाँ उनसे मिलने आये भांजे-भांजी भी पहुँचे, जो मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं और जिनकी फ़ीस राज्य सरकार द्वारा भरी गई है। मंच पर 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले और सरकार से लैपटाप प्राप्त करने वाले मेधावी बच्चों ने भी मुख्यमंत्री का स्वागत किया। राज्य सरकार के सहयोग से राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वाले धार ज़िले के जनजाति युवाओं ने भी मुख्यमंत्री चौहान का आभार जताया। घर-घर अनाज पहुँचाने वाले वाहन चालक और लाड़ली लक्ष्मी योजना के लाभार्थियों ने भी उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने इंदौर और उज्जैन संभाग के विभिन्न ज़िलों द्वारा 'एक जिला-एक उत्‍पाद' के तहत लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मुख्य बिंदु -3.19 लाख युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ने 2577 करोड़ की ऋण राशि का वितरण -महिला उद्यमी पार्क का भूमि-पूजन कर 21 महिला उद्यमियों को भूमि आवंटन-पत्र सौंपे -वाग्देवी की प्रतिमा को मध्यप्रदेश लाया जायेगा -महाराणा प्रताप और शिवाजी महाराज की प्रतिमा का अनावरण -पीथमपुर में हुआ रोजगार दिवस और "एक जिला-एक उत्पाद" कार्यक्रम 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  5 November 2022

नवंबर में लगभग 40 हजार शासकीय नौकरियों के विज्ञापन आएंगे

  सालभर में एक लाख लोगों को शासकीय नौकरी मिल जाएगी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा आज रोजगार दिवस है। महीने में 1 दिन रोजगार का कार्यक्रम भाजपा की सरकार करती है। रोजगार के लिए हम सभी प्रयत्न कर रहे हैं। नवंबर में लगभग 40 हजार शासकीय नौकरियों के विज्ञापन निकले जा रहे हैं। सालभर में एक लाख लोगों को शासकीय नौकरी मिल जाएगी। केवल सरकारी नौकरी में सभी को रोजगार नहीं मिल सकता। इसके लिए हमने तय किया कि स्वरोजगार की जितनी भी योजनाएं हैं, मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना सहित अन्य योजनाओं के तहत हर महीने नौजवानों को स्वरोजगार उपलब्ध कराएं। शिवराज पीथमपुर पहुंचे हैं।  जहाँ उन्होंने जिला उत्पाद को लेकर जोर दिया।  आज पीथमपुर में रोजगार दिवस  कार्यक्रम संपन्न हो रहा है। लगभग 3 लाख लोगों को स्वरोजगार की योजनाओं के लिए लोन मिलेगा और कई अलग-अलग तरह की सब्सिडी का लाभ हम देंगे। मध्यप्रदेश में आ रहे निवेश के कारण कारखानों में रोजगार मिल रहा है। मैं अभी उज्जैन जाने वाला हूं। वहां व्यवस्था करूंगा कि बजट होटल कैसे बनें और सामान्य परिवारों के निम्न मध्यमवर्गीय परिवारों के श्रद्धालु भी श्री महाकाल महाराज का श्री महाकाल लोक देख पाएं। श्री महाकाल लोक के कारण उज्जैन में आर्थिक गतिविधियां बढ़ गई हैं। शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा, इन चारों का समुच्चय है मनुष्य। चारों का सुख चाहिए इसलिए धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष की व्यवस्था बनाई गई। विविध कामनाओं के लिए अर्थ चाहिए। इसलिए भारतीय संस्कृति में कहा गया है कि अर्थ के बिना दुनिया नहीं चलती।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  4 November 2022

कारम नदी पर निर्माणाधीन बांध को बचाने के प्रयास जारी

  सेना के कमान संभालने के बाद चैनल से पानी निकासी शुरू   धार  में कारम नदी पर निर्माणाधीन बांध को सुरक्षित करने का प्रयास  सफल होता दिख रहा है । सेना कमान संभाली है। खतरे को देखते हुए शुक्रवार देर रात पहुंचे सेना के 200 जवानों ने व्यवस्था हाथ में ले रखी है। शनिवार को तीन बार सेना के हेलिकाप्टर से बांध स्थल का अवलोकन भी किया गया। धार-धामनोद समेत स्थानीय मार्गों को प्रशासन ने बंद रखा है। हालांकि, आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग को शुरू कर दिया गया है।बांध की बगल में 42 घंटे से बनाई जा रही चैनल से पानी की निकासी रात करीब एक बजे शुरू कर दी गई। मिट्टी के बांध के नजदीक से तैयार की गई चैनल से बड़ी मात्रा में पानी निकल रहा है। इस तरह की कवायद से बांध सुरक्षित है। हालांकि पानी की निकासी के लिए अभी भी व्यापक स्तर पर काम करने की आवश्यकता महसूस की जा रही है। कारण यह है कि पानी बहुत कम गति से निकल रहा है। गनीमत यह है कि बारिश नहीं हुई है यदि बारिश होती तो इतना पानी निकलना एक सामान्य बात होती। मंत्री लगातार ध्यान बनाए हुए हैं।  पानी के रिसाव से बांध के टूटने का जो खतरा बना हुआ था, उससे राहत जरूर मिली है। आपको बता दें  शनिवार सुबह से रिसाव बढ़ रहा था और बांध के पास पानी की निकासी के लिए जो चैनल बनाई जा रही थी, उसकी राह में सुबह करीब 11 बजे चट्टान आने से कार्य प्रभावित हो गया था। बांध की निगरानी की कमान खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संभाल ली है। शनिवार सुबह मंत्रालय स्थित सिचुएशन रूम से मुख्यमंत्री ने बांध की स्थिति को लेकर मौके पर मौजूद जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, उद्योग मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव सहित अधिकारियों से बात की। उन्होंने धार के कलेक्टर से कहा 'पंकज, जीवन में कभी-कभी ऐसे मौके आते हैं। हमें जनधन, पशुधन को बचाना है। ये परीक्षा की घड़ी है।'   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 August 2022

बड़ा हादसा, नदी में  सवारियों से भरी बस गिरी

बड़ा हादसा, नदी में सवारियों से भरी बस गिरी 13 लोगों की मौत , सीएम ने जताया दुःख , मुआवजे का ऐलान    मध्यप्रदेश के धार जिले के खलघाट में बड़ा हादसा हो गया है। यहां करीब 40 यात्रियों से भरी एक बस नर्मदा नदी में गिर गई है। जानकारी के अनुसार इंदौर से महाराष्ट्र की ओर जा रही यात्री बस खलघाट संजय सेतु पुल पर संतुलन बिगड़ने के कारण 25 फीट नीचे नदी में जा गिरी। फिलहाल 13  यात्रियों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं। वहीं, घायलों को एंबुलेंस की मदद से धामनोद शासकीय अस्पताल भेजा गया है। मौके पर धामनोद पुलिस एवं खलटाका पुलिस मोर्चा संभाले हुए हैं बचाव के लिए गोताखोर लगे हुए हैं। NDRF की टीम भी राहत बचाव के लिए मौके पर पहुंची है। इंदौर कमिश्नर पवन कुमार शर्मा ने धार और खरगोन के कलेक्टर्स को घटना स्थल पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुबह खरगोन धार के बीच स्थित खलघाट में हुई बस दुर्घटना का संज्ञान लिया है। बस के खाई में गिर जाने की सूचना मिलते ही प्रशासन को शीघ्र पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। बस को क्रेन की मदद से निकाल लिया गया है। यात्रियों के रेस्क्यू का काम जारी है। जिला प्रशासन घटना स्थल पर है। मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ को भेजने के निर्देश दिए हैं, इसके अतिरिक्त आवश्यक संसाधन घटना स्थल पर भेजने और घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था के निर्देश दिए गए हैं। खरगोन, इंदौर जिला प्रशासन के साथ मुख्यमंत्री निरंतर संपर्क बनाए हुए हैं। वहीं, पूर्व सीएम कमलनाथ ने धार जिले के खलघाट में हुए हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए। सरकार व प्रशासन से युद्ध स्तर पर बचाव कार्य करने की मांग की और लोगों को जल्द राहत पहुँचाने की बात कही है। घटना में पीड़ित परिवार को चार चार लाख का मुआवजा देने की घोषणा की गई है।  हादसे में 13 लोगों की मौत हो गई।  मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और मैंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बातचीत की है। उन्होंने वहां पर पूरा प्रशासन लगाया हुआ है: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, मुंबई। मध्य प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये और महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने 10-10 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है। केंद्र सरकार प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2;2 लाख रुपये देगी। कुल 16 लाख रुपये का मुआवजा मृतकों के परिजनों को दिया जाएगा। मुंबई से महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री और भाजपा के विधायक गिरीश महाजन भी इंदौर आ रहे हैं। वे घटना स्थल खलघाट जाएंगे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  18 July 2022

dhar,High speed trolley ,hit the tractor

धार। जिले के तिरला थाना क्षेत्र अंतर्गत इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर ग्राम बोधवाड़ा के पास सोमवार सुबह सड़क हादसे में किसान की मौत हो गई है। किसान अपना ट्रेक्टर लेकर गांव से धार आ रहा था। इसी दौरान पीछे से आ रहे तेज रफ्तार ट्राले ने ट्रेक्टर को टक्कर मार दी और करीब ट्रैक्टर को घसीटते हुए करीब 50 फीट अपने साथ ले गया। इसके बाद ट्रेक्टर डिवाइडर पर चढ़ते हुए पलट गया। हादसे में किसान में ट्रैक्टर चला रहे किसान की मौत हो गई। सूचना मिलने पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची और पंचनामा बनाकर मर्ग कायम किया है।   तिरला थाना पुलिस के अनुसार, ग्राम हजरतपुर निवासी 42 वर्षीय इंदर पुत्र कंवर सोमवार को सुबह अपने ट्रेक्टर को रिपेयरिंग के काम से धार लेकर जा रहा था। बोधवाड़ा के पास जैसे ही ट्रैक्टर पहुंचा, पीछे से तेज रफ्तार से आए ट्राले ने उसे चपेट में ले लिया। इसके बाद ट्रैक्टर ट्राले में फंस गया और दूर तक घिसटता चला गया। ट्रैक्टर के डिवाइडर से टकराने के बाद वह ट्राले से अलग हुआ। टक्कर मारने के बाद भी ट्राले के ड्राइवर ने स्पीड कम नहीं की। हादसे उसी गति से वहां से भाग निकला। सड़क किनारे मौजूद लोगों ने ट्रैक्टर चला रहे गंभीर रूप से घायल किसान को जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उसे चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।   पुलिस ने मृतक किसान के शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंपा और अज्ञात ट्राला चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू की। हादसे का यह दिल दहलाने हादसा राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित एक दुकान में लगे सीसीटीवी में कैद हो गया। पुलिस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर ट्राले की तलाश की जुटी है।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  14 March 2022

 ACCIDENT

टैंकर ने मारी टक्कर 6 मजदूरों की मौत   मध्य प्रदेश के धार में इंदौर-अहमदाबाद मार्ग पर हादसे में 6 मजदूरों की मौत हो गई |   इस हादसे में एक दर्जन से ज्यादा मजदूर घायल हो गए |  हादसा टैंकर के पिकअप को टक्कर मारने से हुआ |  मजदूर पिकअप वाहन से केसूर से सोयाबीन कटाई कर अपने क्षेत्र टांडा जा रहे थे |  इस दौरान तिरला क्षेत्र में फोरलेन पर चिखलिया फाटे के पास   मजदूरों से भरा पिकअप पंक्चर हो गया  | ड्राइवर और कुछ मजदूर उतरकर टायर बदल रहे थे, जबकि बाकी वाहन में ही बैठे थे |  इस दौरान टैंकर ने टक्कर मार दी  | टक्कर इतनी तेज थी कि कुछ मजदूर दूर जा गिरे, पिकअप वाहन में महिलाएं और बच्चे भी थे |  हादसे बाद   घायलों को जिला अस्पताल लाया गया |   कुछ घायलों को इंदौर भेज गया  |  हादसे में दो लोगों  की   मौके  पर मौत हो गई  |  जबकि चार मजदूरों  ने अस्पताल  ले जाते वक्त दम तोड़ दिया |  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 October 2020

 TI caught holding celebrations

 युवती से टीआई की शादी की सूचना पर पहुंची पत्नी   धार पत्नी ने अपने टीआई पति को बंद कमरे से युवती के साथ देखा तो हंगामा कर दिया  | टीआई की पत्नी इंदौर रहती है  |  टीआई की  पत्नी अपने बेटे का साथ टीआई गंधवानी वाले आवास पर पहुंच गई  | जहां पति ने दरवाजा नहीं खोला  | इसके बाद टीआई और पत्नी के बीच झूमझटकी हुई |  टीआई पत्नी को धकेल रहे थे  | लेकिन पत्नी ने उसे दूसरी लड़की के साथ पकड़ लिया  |  पुलिस विभाग ने इस घटना के बाद टीआई को  लाइन अटैच  कर दिया है  |  धार के  गंधवानी पुलिस स्टेशन के  टीआई एन सूर्यवंशी की पत्नी व बेटा इंदौर रहते हैं |   पत्नी  गंधवानी में अपने पति के घर पहुंच गई  | पत्नी का आरोप था कि पति सूर्यवंशी ने किसी युवती से शादी कर ली है और उसके घर में रहती है  |  इसकी सूचना पर वे आई थी |  टीआई की पत्नी का आरोप है कि पति कमरे में युवती के साथ थे|   इस बीच पति और पत्नी के बीच  जमकर झूमाझटकी हुई  |  टीआई पत्नी को बार बार घर के अंदर लेकर जाने की कोशिश करते रहे |  इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ जमा हो गई  |  सूचना पर एसडीओपी मौके पर पहुंचे |   पुलिस की मौजूदगी में एक युवती को टीआई के घर से पुलिस वाहन में बैठाकर ले गई है  | एसडीओपी करणसिंह रावत ने बताया कि टीआई की पत्नी का आरोप था कि पति टीआई ने दूसरी शादी कर ली है  | इसको लेकर वह इंदौर से गंधवानी पहुंची थी  |   इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर टीआई के एक युवती के साथ वीडियो भी वायरल हो गया  |  इसमें टीआई युवती के साथ गले में माला डाले हुए भी नजर आए हैं |   साथ ही कुछ अन्य फोटो भी वायरल हुए हैं  | इसमें वे युवती के साथ नजर आ रहे हैं  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  12 February 2020

 HATYA

छात्रा की नहीं हो पाई है पहचान,आरोपी की तालश में पुलिस   मांडू में एक नाबालिग छात्रा की निर्मम हत्या कर दी गई | और उसके शव सूखी नदी में फेंक दिया गया  |  बताया जा रहा है की हत्या के बाद नाबालिग लड़की के चहरे को पत्थर से कुचल दिया गया  |  जिसकी वजह से शव की अभी तक पहचान नहीं हो पाई |  पुलिस अब तक आरोपियों का पता नहीं लगा पाई है   | धार के  मांडू में एक नाबालिग  स्कूली छात्रा की हत्या कर शव सूखी नदी में फेंक दिया गया  |  उसके गले पर वार करने के बाद पत्थरों से चेहरा कुचल दिया गया |  सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को जिला अस्पताल भिजवाया  | छात्रा की उम्र  15 से 16 साल के बीच बताई जा रही है  | उसने सरकारी स्कूल की ड्रेस और ट्रैक शूट का अपर पहन रखा था  | जानकारी के अनुसार,  ग्रामीणों ने रणदा गांव के पास सातघाट में पुलिया के नीचे सूखे स्थान पर पत्थरों से बीच शव देखा था  |  टीआई ने बताया कि शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है  | दुष्कर्म को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है  |  पोस्टमार्टम के बाद स्थिति स्पष्ट होगी  | हालांकि छात्रा के कपड़े व्यवस्थित मिले हैं  | बताया जा रहा है की एक संदिग्ध कार में छात्रा के होने की जानकारी आई है | इससे कार को ट्रेस करने के साथ ही इलाके में सीसीटीवी फुटेज देखे जा रहे हैं  |  एसपी आदित्य प्रतापसिंह का कहना है कि छात्रा की हत्या की गई है  | जांच के लिए टीम बनाई गई है  | बगड़ी इलाके के सीसीटीवी फुटेज देखे जा रहे हैं  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  9 February 2020

 MOB LYNCHING

एक किसान की  गई जान पांच जख्मी स्पेशल टीम ने तीन लोगों को पकड़ा   मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार आइफा अवार्ड करवाने में व्यस्त है   | वहीँ अपना पैसा वापस लेने गए किसानों के साथ गांव के लोगों ने मॉब लिंचिंग की   जिसमें एक किसान की जान चली गई और पांच अन्य घायल हो गए  | इस घटना ने सिस्टम की पोल खोल के रख दी है |  किसानों ने भीड़ से जैसे तैसे अपनी जान बचाई लेकिन इसके बावजूद एक व्यक्ति की जान चली गई  | इस मामले में सबसे गंभीर बात यह है कि पुलिस को इस किसानों ने सूचना दे दी थी कि वह मजदूरों से अपना पैसा वापस लेने जा रहे हैं  |  आइफा अवार्ड में व्यस्त कमलनाथ सरकार में भी कानून व्यवस्था की हालत चिंताजनक है  | धार के मॉब लॉन्चिंग की घटना ने बता दिया है कि हालात कितने भयावह हैं  |  मजदूरों को बतौर एडवांस दिए रुपए लेने आए सांवेर तहसील के खेड़ा गांव के किसानों ने बुधवार सुबह 9 बजे तिरला थाने पहुंचकर सूचना दे दी थी  |  पुलिस ने उनसे कहा था कि तुम रुपए मांग लेना, विवाद मत करना  | पुलिस ने किसानों की मदद करने की जहमत नहीं उठाई  |  इन किसानों को नहीं मालूम था कि बच्चा चोर की अफवाह फैलाकर उनके साथ जमकर मारपीट की जाएगी  | वाहनों में तोड़फोड़ के साथ आग लगा दी जाएगी  |  किसान एक मकान में छिप गए, लेकिन भीड़ ने दरवाजा तोड़कर उन्हें निकाला और बेरहमी से पीटते रहे  |  ग्राम खेड़ा के किसानों के साथ जिस तरह मारपीट की गई, उसके वायरल वीडियो देखकर ही लोगों के रोंगटे खड़े हो गए हैं  |  भीड़ के हाथ में लाठी-पत्थर जो आया वह बरसाना शुरू कर दिया  |  पीड़ित जान की भीख मांग रहे थे, लेकिन गुस्साई भीड़ ने मानवीयता की हद पार कर दी |  एक एक किसान पर   200 से 300 लोग प्रहार कर रहे थे  | पुलिस के दो जवानों के आने पर भी भीड़ किसानों को पीटती रही | पुलिस बल ने पहुंचकर अश्रु गैस के गोले छोड़ भीड़ को तितर-बितर किया  |  इस मामले में बनाई गई स्पेशल टीम ने तीन लोगों को पकड़ लिया है, उनसे पूछताछ की जा रही है  | विनोद  मुकाती निवासी शिवपुर खेड़ा गांव तहसील सांवेर जिला इंदौर ने बताया कि मैं खेती करता हूं  | मेरे सहित मेरे ही ग्राम के गणेश  तथा राधेश्याम   लिम्बा, नरेंद्र   शर्मा, जगदीश   शर्मा व जगदीश चंद्र ने तिरला ब्लॉक के खिरकिया ग्राम के पांच मजदूरों अवतार, जामसिंह, महेश, राजेश व सुनील को 6-7 माह एडवांस के तौर पर हरेक को 50-50 हजार रुपए   दिए थे  |  ये पांचों हमारे यहां मजदूरी पर आने की बजाए गुजरात चले गए  | जब इन लोगों से हमने रुपए वापस मांगे तो इन्होंने अपने ग्राम में रुपए लेने के लिए हमें बुलाया था  | बुधवार सुबह 6 बजे हम पांचों के साथ रवि   शंकरलाल  दो कारों में सवार होकर खिरकिया के लिए निकले  | हमें इलाके के बारे में जानकारी नहीं थी तो हमने खिरकिया ग्राम के ही मुकेश  लाल, जो हमारे ग्राम में मजदूरी के लिए आया था, को भी साथ बैठा लिया  | हम सातों करीब सुबह 9 बजे तिरला पुलिस थाने पहुंचे तथा वहां पुलिस को अपने आने का कारण बताया  | इसके बाद हम तिरला से करीब 8 किमी दूर खिरकिया ग्राम पहुंचे  | जहां पहुंचते ही 15-20 ग्रामीणों ने हमारा रास्ता रोक लिया और पत्थरबाजी शुरू कर दी |  हम घबरा गए |  जैसे-तैसे कार पलटाकर जान बचाकर भागे  |   इसी दौरान खिरकिया के पत्थरबाजों ने आगे के ग्रामों में मोबाइल के जरिए झूठी सूचना फैला दी कि दो वाहनों में कुछ लोग दो बच्चों का अपहरण कर भागे हैं  |  सूचना फैलते ही ग्रामीणों ने हमारा पीछा शुरू कर दिया |  रास्ते में तीन-चार स्थानों पर हमें रोकने का प्रयास किया गया, लेकिन हम वाहन भगाते रहे  |  करीब 20 किमी दूर ग्राम बोरलाई में 150 से 200 लोगों ने बाइक अड़ाकर हमारी दोनों कारों को रोक लिया  |  देखते ही देखते वहां भीड़ जमा होना शुरू हो गई | हमने बचाव के लिए पास ही स्थित दुकान में घुसकर दरवाजा लगा लिया, लेकिन भीड़ ने दरवाजा तोड़ दिया और बुरी तरह से हमारे साथ लकड़ी, पत्थर   से मारपीट शुरू कर दी  | उसके बाद हम सब बेसुध हो गए  | मनावर थाना प्रभारी युवराजसिंह चौहान ने बताया कि सूचना मिलने पर पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे तथा अश्रु गैस छोड़कर भीड़ को खदेड़ा  |  घायलों को अस्पताल लाया गया  | गंभीर घायल गणेश को बड़वानी रेफर किया गया था, लेकिन  उसकी मौत हो गई  |  इन कार सवारों के साथ खिरकिया ग्राम का मजदूर मुकेश  अंतरलाल भी था, जो गायब है | उसे ढूंढने का प्रयास किया जा रहा है |  मामले में  अवतारसिंह, भुवानसिंह, जामसिंह तथा 40 से 45 लोगों पर हत्या, हत्या का प्रयास व बलवा में प्रकरण दर्ज किया है  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  6 February 2020

 ACCIDENT

मांडू रोड पर धरावरा फाटा के पास हुआ हादसा   धार में मांडू रोड पर सामने से आ रहे ट्रक से बाइक की जबर्दस्त भिड़ंत हो गई  | बाइक सवार टकराकर 10 फीट दूर जाकर गिरे  |  सिर में चोट लगने से मामा-भानजा सहित तीन की मौके पर ही मौत हो गई  | शवों को पिकअप वाहन से जिला अस्पताल लाया ले जाया गया  |  पुलिस ने ट्रक को जब्त कर  ट्रक चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है |  बाइक सवार तीनों लोग रिश्तेदार थे  |  वे धार  के केसरपुरा से पिपलीमाला जा रहे थे  |  इसी दौरान दोपहर में उनकी बाइक धरावरा फाटे पर सामने से आ रहे ट्रक से भिड़ गई  |  इस जबर्दस्त भिड़ंत में तीनों दस फुट दूर जा कर गिरे |   सिर में चोट लगने से तीनों की मौके पर ही मौत हो गई  |   मौके पर कोतवाली पुलिस ने तीनों के शव को वाहन से जिला अस्पताल भिजवाया  | कोतवाली थाना प्रभारी सुबोध श्रोत्रिय ने बताया कि तीन लोगों की मौत  घटना स्थल पर ही हो चुकी थी  | ट्रक को जब्त कर लिया गया है  |  केसरपुरा गांव के लागों ने सुबह मांगीलाल और सरवन को मजदूरी करने के लिए कहा था  |    लेकिन उन्होंने मना कर दिया  | मांगीलाल ने भानजे अक्षय से कहा कि मैं बाइक में पेट्रोल डलवा देता हूं, बेटी की शादी की प्लानिंग को लेकर पिपलीमाल चलना है  |  तीनों बाइक से  पिपलीमाल के लिए निकले थे  तभी यह हादसा हो गया  |   

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  2 October 2019

 NEPAL

कहा नेपाली होने की वजह से हमें स्कूल से निकाला  स्कूल प्रबंधन और प्राचार्य की मनमानी     धार में एक बार फिर  स्कूल प्रबंधन का  लापरवाह रवैया सामने आया है   | दो मासूम बच्चियों ने  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर मदद की गुहार लगाई  है  |   बच्चियों ने चिट्ठी में लिखा की हमें नेपाली होने की वजह से स्कूल से निकाल दिया गया  |  हद तो तब हो गई जब प्रबंधन ने  दोनों मासूम बहनों को कुरियर से टीसी भेज दी... जब मामले ने तूल  पकड़ा तो स्कूल प्रबंधन बचता नजर आया  |  भारत और नेपाल के सम्बंध हमेशा से ही अच्छे माने जाते रहे है  | दोनों देशो के बीच बेहतर सांस्कृतिक, राजनीतिक और  आर्थिक रिश्ते कायम है   | लेकिंन धार में दो मासूम बहनो को स्कूल से इसलिए निकाल दिया गया क्यूंकि वह नेपाली है  | बच्चियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर मदद माँगी है | जिसके बाद मामले ने  तूल पकड़ा और अब प्रबंधन अपनी करनी से बचता हुआ नजर आ रहा  | बताया जा रहा है की  ऐमिनेंट पब्लिक स्कूल में  दो नेपाली बहनें अवनिशा खड़का और अनुष्का खड़का नर्सरी में  पढ़ती थी   |  लेकिन यहां इनके साथ अन्य बच्चे और शिक्षकों के द्वारा अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता. |  बच्चियों ने कहा कि उन्हें स्कूल में नेपाली  नेपाली कहकर चिढाया जाता है   | जब स्कूल के शिक्षकों से इनके माता पिता ने शिकायत की तो शिक्षकों और पेरेंट्स के बीच  इस बात  पर तू-तू मैं-मैं भी हुई   | और इसके बाद स्कूल प्रबंधन ने दोनों बच्चियों को कुरियर से टीसी भेज दी  | वहीं इस पूरे मामले मे जब स्कूल के प्राचार्य से बात की गई तो उन्होंने छात्राओं के पेरेंट्स पर ही अभद्रता करने के आरोप लगा दिए  |   उन्होंने अब छात्राओं के दोबारा प्रवेश देने से  इंकार कर दिया |   वही जब इस मामले मे जिला शिक्षा अधिकारी मंगेश व्यास से बात की गई तो  | उनका साफ कहना था कि  |  ऐसे मामलों में कोई भी स्कूल बच्चों को टीसी देकर निकाल नही सकता| उन्होंने इस मामले की जांच की बात कही और न्याय दिलवाने का भरोसा भी दिया  | 

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  21 August 2019

LOOT

साढ़े चार किलो चांदी बरामद    धार के कुक्षी में पुलिस ने चोरों  एक गिरोह को पकड़ा है  इस गैंग के पास से साढ़े चार किलो चांदी और पचास मोटर साइकिलें बरामद की जा चुकी हैं   कुक्षी के बाग थाना पुलिस ने एक शातिर चोर गिरोह का पर्दाफाश करते हुए 28 लाख के चोरी के सामान सहित सात आरोपियो को धरदबोचा है    पुलिस ने इनके पास से साढे चार किलो चाँदी के जेवरात , 50 बाईक  और दो पिस्टल सहित अन्य सामान बरामद किया है  आरोपियो ने बाग थाना क्षैत्र मे लूट डकैती चोरी की कई वारदातें  करना कबूला है   पुलिस गिरोह के बाकी  फरार सदस्यो को पकडने के प्रयास मे जुटी हुई है  पुलिस को इनसे कई और वारदातों का खुलासा होने की उम्मीद है    

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  31 July 2019

अदभुत अनोखा माण्डू

  मध्य प्रदेश का प्राचीनतम शहर माण्डू पर्यटन की दृष्टि से एशिया स्तर पर सर्वोत्तम माना जाता है। यह शहर न सिर्फ ऐतिहासिक है, अपितु यहां  के भवन वास्तुकला की दृष्टि से भी अद्भुत कहे जाते हैं। मालवा के पठार क्षेत्र में बसा माण्डू पूर्वी देशातंर रेखा से 75 डिग्री-25 डिग्री व उत्तरी अक्षांश से 22 डिग्री 15 डिग्री पर विध्यांचल के दक्षिण किनारे पर स्थित है। यह समुद्री तल से 633.7 मीटर ऊंचाई पर अपने आभा मण्डल  से पर्यटकों को आकर्षित कर रहा है। माण्डू की सबसे बड़ी पहचान यहां का दुर्ग है जो क्षेत्रफल की दृष्टिï से चित्तौड़ के दुर्ग से भी बड़ा है। इस दुर्ग की परिधि 23.3 किमी है जिसके अंदर का भाग टापू जैसा दिखाई पड़ता है। इसके चारों तरफ परकोटे बने हुए है। दुर्ग के पर्वतीय किनारे की तरफ 30 फीट ऊंचाई की दीवार बनी हुई है जो वास्तुकला का अद्भुत नमूना है। छठी एवं सातवीं शताब्दी में महाराज हर्षवर्धन ने चीनी यात्री ह्यïेनसांग की सहायता से यहां संस्कृत विश्वविद्यालय की स्थापना की थी। यह विश्वविद्यालय भवन अशर्फी महल के नाम से विख्यात है। यहां के कई भव्य भवन जहां जैन पंथ के आधिपत्य का एहसास कराते हैं, वहीं परमार एवं मुगल शासकों द्वारा यहां वास्तुकला की बेजोड़ कारीगरी का प्रदर्शन करती इमारतें बनवाई गई। माण्डू को अतीत में तीन सौ वर्षों तक राजधानी के रूप में विकसित होने का भी गौरव प्राप्त है। इस पर पहले परमार शासकों का और फिर लम्बे समय तक मुगल सुल्तानों का साम्राज्य रहा। यहां मौजूद विजय स्तम्भ अपने सात मंजिला स्वरूप में आज भी पर्यटकों का मन मोह लेता है। इसका निर्माण सन् 1436ई. में महमूद खिलजी द्वारा मेवाड़ के राणा के बन्दीगृह से मुक्त होने की खुशी में कराया गया था। बताया जाता है माण्डू शहर की उत्पत्ति पारस नाम के पत्थर से हुई थी, जिसके बारे में कहा जाता है कि एक बार चारा काट रहे मजदूर की द्राती (हंसिया) अचानक पारस रूपी पत्थर से टकराने पर सोने की हो गई थी। मजदूर ने यह पारस एक शिल्पी को दे दिया।  शिल्पी से माण्डू के राजा जयदेव सिंह के पास और राजा जयदेव सिंह के पास से राज पुरोहित के पास जाकर बाद में नर्मदा की भेंट चढ़ गया था। पठान वंश के अंतिम शासक बाज बहादुर के ध्रुपद गायिका रूपमती के प्रणय प्रसंगों की स्थली माण्डू में स्मारकों के अम्बार लगे हैं। यहां के 48 स्मारकों को शासकीय संरक्षण पुरातत्व विभाग द्वारा दिया गया है। इन स्मारकों में काकड़ा खोह (सन्त रविदास कुण्ड), सात कोठड़ी, आलमगीर दरवाजा, भंगी दरवाजा, दिल्ली दरवाजा, हाथी पोल दरवाजा, नाहर झरोखा, दिलावर खां की मस्जिद, हमाम घर, नाटक घर, शाही महल, जल महल, हिण्डोला महल, चम्पा बावड़ी, गदाशाह की दुकान, जहाज महल, तवेली महल, गदाशाह महल, होशंगशाह का मकबरा, जामा मस्जिद, अशर्फी महल, श्री दिगम्बर जैन मंदिर, श्रीराम मंदिर, श्रेताम्बर जैन तीर्थ, रूपमती मण्डम्, बाजबहादुर महल, दाई का महल, रेवा कुण्ड, मलिक मुगीथ मस्जिद, नीलकंठ मंदिर, दरियां खां का मकबरा, केनवान सराय, हाथी पगा महल, चिश्ती खां महल, बूढ़ी माण्डू, छप्पन महल, आल्हा उदल की सांग, सोनगढ़ दरवाजा, रामगोपाल दरवाजा, लवानी गुफा, लाल बंगला, मुन्ज सागर, भगवान्या दरवाजा आदि अनेक स्मारक भवन ऐसे हैं जो इतिहास की न सिर्फ धरोहर है अपितु पर्यटकों, इतिहासकारों तथा वास्तुकला प्रेमियों के लिए ज्ञान का भण्डार भी हैं। यही वह स्थली है जहां बांव वांन फल पाया जाता है। यह फल एक विशेष प्रकार की इमली है जिसके खाने से प्यास बुझ जाती है इसीलिए इस इमली का उपयोग रेगिस्तान में बहुतायत में किया जाता है। माण्डू की दिलावर खां की मस्जिद की विशेषता कुछ अलग ही है। यह मस्जिद लाल पत्थर से शिल्पकारों द्वारा हिंदू शैली में बनाई हुई है। इसके स्तम्भों में कमल, बेलबूटे, घण्टी चित्र तराशे हुए हैं। इस मस्जिद में महिलाओं का प्रवेश वर्जित माना गया है। जबकि ग्यासशाह खिलजी द्वारा काले पत्थर से बनवाया गया शाही महल पुरातन काल का वातानुकूलित महल है जिसको ठण्डा रखने के लिए दीवारों के बीच से पानी की पाइप लाइन ले जाई गई थी। श्रीगोपाल नारसन

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 June 2018

kisan hadtal

किसान हड़ताल का असर ,दूध-सब्जी की सप्लाई रुकी  मध्यप्रदेश में किसानों की हड़ताल के तीसरे दिन शनिवार को एक बार फिर आम लोगों को दूध और सब्जी की किल्लत का सामना करना पड़ा। कई इलाकों में पुलिस की सुरक्षा में दूध और सब्जी की दुकानें खुलीं, लेकिन इन्हें बहुत ज्यादा कीमत पर बेचा गया। उधर कई जगह आंदोलन कर रहे किसानों ने दूध और सब्जी की सप्लाई रोकने के लिए निजी वाहनों और बसों में भी चेकिंग शुरू कर दी है। भारतीय किसान संघ भी अब इस हड़ताल में शामिल होगा। किसान के आंदोलन पर सरकार हरकत में आ गई है। शनिवार दोपहर मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह ने इंदौर, उज्जैन और भोपाल संभाग के अधिकारियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। इस दौरान तीनों संभागों के आईजी, कलेक्टर, एसपी और दुग्ध संघ के अधिकारी भी उपस्थित थे। देवास के पास कन्नौद में खेत से 2 लीटर दूध लेकर घर आ रहे किसान को आंदोलनकारियों ने सुबह 8.15 बजे सरकारी अस्पताल के सामने रोक लिया, उन्होंने पहले दूध बहाया इसके बाद किसान के साथ मारपीट की। मामले में रिपोर्ट लिखाई गई। राजोदा में कैलोद चौराहे पर निजी वाहनों को रोक कर किसानों ने चेकिंग की, सुबह से खुली दूध डेयरियां भी बंद करवा दी गईं। खंडवा में बसों की चेकिंग में मिली सब्जी किसानों ने सड़क पर फेंकी। महाराष्ट्र से आया दूध का वाहन भी रोका, जिसके बाद ड्राइवर वाहन को थाने ले गया। वहां पुलिस के संरक्षण में दूध ज्यादा कीमत में बिका। शाजापुर में सांची दूध की सप्लाई होने से स्थिति कुछ सामान्य हुई, लेकिन खुला दूध अब भी नहीं मिला। यहां सब्जी की सप्लाई बंद रही। शाजापुर में करीब बड़ी संख्या में किसान सड़क पर उतर आए और सरकार विरोधी नारे लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया। मंदसौर में 300 लीटर दूध एक कार से जब्त हुआ, जिसके बाद जिला अस्पताल में इसे बांट दिया गया। कई जगह किसानों का विरोध जारी रहा उन्होंने रोक-रोकर वाहनों की चेकिंग की। दूध और सब्जी की किल्लत के चलते कई जगह आम लोगों ने किसानों का विरोध किया। लोगों का कहना है कि यह तरीका बिल्कुल गलत है। झाबुआ और आलीराजपुर में हड़ताल का कोई असर नहीं दिखा, यहां सामान्य रूप से मंडी खुली और दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। हालांकि मंड़ि‍यों में सब्जी की आवक पहले की अपेक्षा कम रही। खरगोन सब्जी मंडी में हालत सामान्य रहे लेकिन सब्जियों के भाव आसमान पर रहे। इंदौर और धार में किसानों आंदोलन के चलते व्यापारी खरगोन नहीं पहुंचे। यहां दूध की सप्लाई भी सामान्य रही। रविवार को सब्जी मंडी बंद रह सकती है। जिले के भीकनगांव में सब्जी का व्यापार जारी। यहां सांची के दूध की सप्लाई भी हुई, गड़बड़ी की आशंका के चलते अमूल का दूध नहीं मंगवाया गया। जानकारी के मुता‍बिक सांची का 10 हजार लीटर दूध यहां सप्लाई हुआ। बड़वानी में किसान आंदोलन का असर नहीं रहा।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  3 June 2017

 शिवराजसिंह चौहान

मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान धार जिले के मोहनखेड़ा में ज्योतिष सम्राट और मुनिश्री ऋषभ चन्द्रविजय जी विद्यार्थी म.सा. के ''आचार्य पद पट्टाभिषेक महा-महोत्सव कार्यक्रम'' में शामिल हुए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आचार्य श्री को काम्बली भेंट कर आशीर्वाद भी लिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आचार्य श्री से सदबुद्धि, सन्मार्ग पर चलने तथा जनता की सेवा के लिए सामर्थ्य प्रदान करने का आशीर्वाद माँगा। उन्होंने कहा कि मोहनखेड़ा तीर्थ में मानव सेवा के लिए अखण्ड व्रत चलता है। यहाँ शिक्षा, संस्कार, चिकित्सा, जल संरक्षण, गौ-सेवा, पीड़ित और शोषित वर्गों के लोगों के कल्याण के लिये विशेष प्रकल्प चलाए जाते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ''नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा के जरिये प्रदेश में नदियों के संरक्षण, पर्यावरण सुधार, जल-संरक्षण के प्रयासों के साथ ही बेटियों को बचाने का महा अभियान चलाया जा रहा है। बेटियों के बिना सृष्टि नहीं चल सकती है, बेटियाँ हैं, तो कल है। उन्होंने कहा कि जैन धर्म ने ''जियो और जीने दो'' का मूल-मंत्र दिया है। जीवों के प्रति दया का भाव और अहिंसा का संदेश दिया है। हम सभी इसे आत्मसात करें और जीवों के प्रति दया का भाव रखें। उन्होंने कहा कि प्रदेश की धरती पर कोई भी अवैध बूचड़खाना नहीं चलने दिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आचार्य श्री ऋषभचन्द्र विजय जी म.सा. को राजकीय अतिथि का दर्जा प्रदान किया जाएगा। उन्होंने आचार्य श्री से अनुरोध किया कि वे सम्पूर्ण प्रदेश का भ्रमण कर पीड़ित मानवता की सेवा के लिए मोहनखेड़ा तीर्थ द्वारा चलाए जा रहे प्रकल्पों को जन-जन तक पहुँचाये। पट्टाभिषेक कार्यक्रम में गच्छाधिपति आचार्य श्री ऋषभचन्द्र विजय जी म.सा. ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को श्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताते हुए अवैध बूचड़खाने बन्द किए जाने की घोषणा पर उन्हें साधुवाद दिया। उन्होंने बेटी बचाओ अभियान के प्रति भी अपना समर्थन व्यक्त किया। कार्यक्रम में मोहनखेड़ा तीर्थ से प्रकाशित मासिक पत्रिका ''ऋषभ चिंतन'' का विमोचन भी किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावरचन्द गेहलोत, प्रदेश की खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, पूर्व मंत्री श्री कैलाश विजयवर्गीय, सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री विक्रम वर्मा सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी और नागरिक मौजूद थे।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  7 May 2017

मध्यप्रदेश भाजपा कार्यसमिति

  धार के मोहनखेड़ा में चल रही मध्यप्रदेश भाजपा के कार्यसमिति में स्पष्ट किया गया कि  सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों के मेधावी छात्रों की भी फीस सरकार भरेगी। इसके लिए मेधावी विद्यार्थी योजना में अलग से प्रावधान किए जाएंगे। सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस की  जानकारी कार्यसमिति की बैठक में दी । अभी योजना के दायरे में सिर्फ माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध स्कूलों के मेधावी छात्रों को ही शामिल किया गया है। प्रदेश भाजपा कार्यसमिति में मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों को बताया कि सरकार ने मध्यम वर्ग के होनहार बच्चों को उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए चयनित होने पर फीस का पूरा खर्चा उठाने की महत्वाकांक्षी योजना लागू की है। इसके दायरे में उन छात्रों को रखा गया है जो माध्यमिक शिक्षा मंडल से संबद्ध स्कूलों में पढ़ते हैं और प्रतियोगी परीक्षाओं के माध्यम से आईआईएम, आईआईटी, एनआईटी, एम्स जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश पाते हैं। कई बार परिवार की आर्थिक परिस्थितियां बच्चों की पढ़ाई में आड़े आ जाती हैं।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  22 April 2017

श्री श्री रविशंकर

श्री श्री रविशंकर द्वारा आनंद मंत्रालय शुरू करने की सराहना  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा सेवा यात्रा का एक और उद्देश्य यह भी है कि मालवांचल को रेगिस्तान बनने से रोका जाये। उन्होंने कहा कि नर्मदा नदी के पानी को मालवांचल के बड़े-बड़े शहरों में पहुँचाया गया है। धार जिले के साथ ही इस पूरे अंचल में खेतों के हरे-भरे होने का कारण माँ नर्मदा नदी ही हैं। श्री चौहान आज धार जिले के बाकानेर में जन-संवाद को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में विशेष रूप से उपस्थित ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने प्रदेश में आनंद मंत्रालय बनाने की सराहना की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा नदी प्रदेश की जीवन-रेखा है, इसके बगैर जीवन की कल्पना करना ही संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि नर्मदा के जल को सहेजना हम सभी की जिम्मेदारी है। इसे प्रदूषण से मुक्त करने में जन-सहयोग जरूरी है। उन्होंने लोगों का आव्हान किया कि वे नदी को स्वच्छ बनाने और हरियाली चुनरी ओढ़ाने में सहयोग करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा का जल मालवा सहित पूरे प्रदेश में ले जाया जायेगा। इसके जल से प्रदेश की 30 प्रतिशत से अधिक जमीन को सिंचित किया जा सकेगा। आज प्रदेश की कृषि विकास दर पिछले 4 वर्ष से 20 प्रतिशत अधिक है, तो इसके पीछे भी नर्मदा मैया हैं। उन्होंने कहा है कि सरकार की योजना है कि सभी शहरी क्षेत्र में पाइप लाइन के जरिये नर्मदा जल पहुँचाया जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि यात्रा के दौरान वन और राजस्व की जमीन पर व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण किया जायेगा। उन्होंने किसानों को बताया कि अगर वे अपनी जमीन पर वृक्ष लगायेंगे, तो उन्हें 3 साल तक 20 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा और 40 प्रतिशत की सब्सिडी भी दी जायेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि नर्मदा के किनारे ट्रीटमेंट प्लांट लगाये जायेंगे, पूजन-सामग्री विसर्जन कुण्ड और दाह संस्कार के लिये मुक्तिधाम बनाये जायेंगे। उन्होंने कहा कि स्नान-घाट पर महिलाओं के लिये चेंजिंग-रूम भी बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि 31 मार्च से नर्मदा तट के उत्तर और दक्षिण, दोनों तरफ के 5 किलोमीटर क्षेत्रफल में आने वाली शराब की दुकानों को बंद कर दिया जायेगा। 'नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा में विशेष रूप से शामिल होने आये सुप्रसिद्ध संत और ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आनंद मंत्रालय शुरू कर एक अच्छी पहल की है। उन्होंने इसकी सराहना करते हुए कहा कि इसके जरिये मुख्यमंत्री ने वस्तु भोग ही नहीं, बल्कि मन की अवस्था को प्रसन्न रखने की भी पहल की है। श्री श्री रविशंकर महाराज ने कहा कि सनातन धर्म में जल और थल संरक्षण की महान परम्परा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदा के संरक्षण की यात्रा से इसी परम्परा को निभाया है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण बचाने के लिये प्रत्येक नागरिक पाँच पौधे लगाये। श्री श्री ने कहा कि सबके कल्याण की भावना से मध्यप्रदेश में हो रहा काम सराहनीय है। आचार्य पुण्डरीक गोस्वामी ने कहा कि मथुरा में भगवान श्रीकृष्ण ने यमुना जी को कालिया नाग के जहर रूपी प्रदूषण से मुक्त करवाया था। इसी प्रकार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान नर्मदा जी को प्रदूषण से मुक्त करवाने का माध्यम बने है। सुप्रसिद्ध गांधीवादी विचारक श्री सुब्बाराव ने कहा कि स्वतंत्रता का आशय नागरिकों को ईमानदार और चरित्रवान होना चाहिये, यही हमारी सच्ची स्वतंत्रता है। आरएसएस के प्रांतीय प्रचारक श्री पराग अभ्यंकर ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस मौके पर पशुपालन मंत्री श्री अंतर सिंह आर्य, सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, पूर्व मंत्री और विधायक श्रीमती रंजना बघेल, श्री भंवर सिंह शेखावत, श्री मथुरालाल और जिला पंचायत धार की अध्यक्ष श्रीमती मालती मोहन पटेल भी उपस्थित थीं। संचालन राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री शिव चौबे ने किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान धार जिले के बाकानेर में नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल हुए। उन्होंने यात्रा ध्वज का पुष्प अर्पित कर स्वागत किया तथा कलश की पूजा-अर्चना की। इसके बाद श्री चौहान स्वयं ध्वज लेकर यात्रा में चले। उनकी पत्नी श्रीमती साधना सिंह ने सिर पर कलश धारण किया। इस दौरान आदिवासी नृतक पारम्परिक नृत्य करते हुए यात्रा के आगे-आगे चल रहे थे। यात्रा का जगह-जगह पर पुष्प-वर्षा कर भव्य स्वागत किया गया।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  1 March 2017

माँ नर्मदा की आरती

    मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने धार जिले के सेमल्दा तट पर अपनी पत्नि श्रीमती साधनासिंह के साथ माँ नर्मदा की आरती की।  इस दौरान प्रसिद्ध संत और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर भी मौजूद थे। आरती के बाद मुख्यमंत्री ने उपस्थित श्रद्धालुओ के साथ माँ नर्मदा का जयघोष भी किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने माँ नर्मदा मंदिर में सपत्निक पूजा-अर्चना की और प्रदेश की खुशहाली की कामना भी की। साथ ही मंदिर परिसर में प्रतीकात्मक रूप से पौधों का रोपण भी किया। इस दौरान उनके साथ पूर्व मंत्री एवं विधायक श्रीमती रंजना बघेल, जन-अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, पूर्व सांसद श्री छतरसिंह दरबार सहित बड़ी संख्या में नर्मदा भक्त एवं श्रद्धालु उपस्थित थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  28 February 2017

नर्मदा यात्रा

निसरपुर और कड़माल में जन-संवाद कार्यक्रम  'नमामि देवि नर्मदे'- नर्मदा सेवा यात्रा के 75वें दिन आज धार जिले के कोटेश्वर में डॉ. गौरीशंकर शेजवार सपत्नीक शामिल हुए। वन मंत्री ने नर्मदा जी की आरती कर वृक्षारोपण किया। इस अवसर पर बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष श्री राघवेन्द्र शर्मा, पूर्व विधायक श्री मुकामसिंह किराडे़ तथा बड़ी संख्या में भक्त और ग्रामवासी मौजूद थे। यात्रा के दौरान निसरपुर एवं कड़माल में जन-संवाद कार्यक्रम हुए। निसरपुर में स्कूली छात्र-छात्राओं द्वारा स्वच्छता और नर्मदा नदी को प्रदूषण से बचाने के संबंध में लघु-नाटिका का मंचन किया गया। कड़माल में जैविक खेती पर जन-संवाद का कार्यक्रम हुआ। डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने कहा कि जीवनदायिनी नर्मदा नदी के सरंक्षण एवं संवर्धन के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा सेवा यात्रा शुरू की गयी है। गत 11 दिसम्बर को अमरकंटक से प्रारम्भ हुई यात्रा 11 मई को अमरकंटक में समाप्त होगी। उन्होंने बताया कि यह कार्यक्रम नदी संरक्षण के लिहाज से पूरी दुनिया में एक मिसाल बन गया है। डॉ. शेजवार ने कहा कि माँ नर्मदा हमारे लिए जीवन का आधार है, जो खेती-किसानी के लिए पानी, बिजली, पीने के लिए पानी उपलब्ध करवाती है। हमारी आस्था और श्रद्धा भी इससे जुड़ी है। उन्होंने कहा कि माँ नर्मदा को प्रदूषण से बचाना एवं इसका संरक्षण करना हम सबका दायित्व और कर्त्तव्य है। उन्होंने कहा कि हम सभी बड़े सौभाग्यशाली है कि नर्मदा मैया की सेवा का अवसर प्राप्त हुआ। उन्होंने नर्मदा की धारा को जल-मल से दूषित होने से बचाने के लिए बड़े शहरों और कस्बों में ट्रीटमेंट प्लान्ट स्थापित किए जाने, दोनों तट पर वृक्षारोपण की योजनाएँ, खुले में शौच न करने और घरों में शौचालय बनवाने, शवदाह के लिए मुक्तिधाम निर्माण, मूर्ति विसर्जन तथा पूजन-सामग्री के लिए अलग-अलग कुण्ड बनाने की योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि नर्मदा नदी के दोनों तट से 5.5 किलोमीटर क्षेत्र में कोई भी शराब की दुकान नहीं खोली जाऐंगी। उन्होंने नशामुक्ति एवं बेटी बचाओं का संकल्प भी दिलाया। जैविक खेती पर जन-संवाद कड़माल में जैविक खेती पर जन-संवाद में कृषि-विशेषज्ञों द्वारा रसायनिक खेती से होने वाले नुकसानों की विस्तार से जानकारी दी गई। किसानों को जैविक खेती करने की सलाह दी गई। श्री राघवेन्द्र शर्मा ने भी विचार रखे। श्री मुकामसिंह किराड़े ने स्थानीय भाषा में नर्मदा नदी के संरक्षण और संवर्धन से संबंधित मुद्दों पर विस्तार से चर्चा कर समझाइश दी। निसरपुर में सरदार वल्लभ भाई पटेल स्मृति वन में वृक्षारोपण किया गया। यात्रा का निसरपुर, कड़माल, चिखल्दा, खापरखेड़ा आदि स्थान पर गर्मजोशी से स्वागत कर कलश-यात्रा निकाली गई।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  24 February 2017

प्रधानमंत्री आवास योजना

मुख्यमंत्री ने मनावर में  सौंपे आवास आवंटन स्वीकृति-पत्र  मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में गड़बड़ी की शिकायत 181 के माध्यम से सी.एम. हेल्पलाइन पर की जा सकती है। उन्होंने कहा कि चयनित हितग्राहियों की सूची ग्राम पंचायत कार्यालयों में चस्पां की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज धार जिले के मनावर में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आयोजित 4 जिलों के 31 हजार आवासहीन को आवास आवंटन स्वीकृति-पत्र वितरण समारोह में बोल रहे थे। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश में अब किसी को भी आवासहीन नहीं रहने दिया जाएगा। मध्यप्रदेश में कानून बनाकर सभी आवासहीन को आवास के लिए जमीन उपलब्ध करवाने का अधिकार दिया जा रहा है। आवश्यकता पड़ने पर आवासहीनों को जमीन का अधिकार देने के लिए निजी भूमि भी क्रय की जाएगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मंशा के अनुरूप वर्ष 2022 तक सबके लिए आवास की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि योजना के क्रियान्वयन में गड़बड़ी करने वालों को किसी भी हाल में छोड़ा नहीं जाएगा। गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर संबंधितों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। योजना का पारदर्शिता के साथ क्रियान्वयन किया जायेगा। केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में गरीबों के उत्थान के लिए प्राथमिकता से कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। देश में अगले तीन वर्ष में एक करोड़ आवास निर्माण का लक्ष्य रखा गया है। मध्यप्रदेश में तीन वर्ष में 11 लाख 78 हजार आवास बनाए जायेंगे। कुल लक्ष्य में से नियमानुसार आवास अनुसूचित जाति-जनजाति के परिवारों को आवंटित किए जाएंगे। हितग्राहियों का चयन सामाजिक, आर्थिक एवं जाति जनगणना के आधार पर हो रहा है। प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने बताया कि पूर्व के वर्षों में केन्द्र शासन से आवास निर्माण के लिए पर्याप्त सहायता राशि नहीं मिल रही थी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लागू की गई इस योजना के माध्यम से अब पर्याप्त सहायता राशि मिल रही है। पूरे प्रदेश में आज एक ही दिन में योजना के तहत लगभग सवा तीन लाख आवासहीन को आवास आवंटन-पत्रों का वितरण प्रदेश में सभी जिलों में किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवासहीनों को आवास निर्माण के लिए डेढ़ लाख रूपये की आर्थिक सहायता दी जा रही है। इस राशि से 12 हजार रुपये शौचालय निर्माण तथा 18 हजार रूपये की मदद मजदूरी के लिए दी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वर्गीय श्री सुन्दरलाल पटवा तथा स्व. श्री दीनदयाल उपाध्याय के चित्रों पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि व्यक्त की। कार्यक्रम में दो मिनिट का मौन भी रखा गया। कार्यक्रम में सांसद श्रीमती सावित्री ठाकुर, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मालती-मोहन पटेल, विधायक श्रीमती रंजना बघेल, श्रीमती नीना-विक्रम वर्मा, श्री भंवरसिंह शेखावत, श्री वेलसिंह भूरिया, श्री शांतिलाल बिलवाल, श्री कलसिंह भाबर, श्री माधवसिंह डावर, भाजपा जिलाध्यक्ष डा. राज बर्फा और श्री दौलतसिंह भावसा, नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती ममता जोशी और श्री राजकुमार जैन के अलावा अपर मुख्य सचिव ग्रामीण विकास श्री राधेश्याम जुलानिया मौजूद थे।

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  29 December 2016

मोदी की फ्लेगशिप स्कीम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल में देश में आम नागरिकों के व्यापक हित से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश में बेहतर काम हुए हैं। कई योजनाओं में प्रदेश किसी में अव्वल तो किसी में प्रथम दस में है। हाल ही में अमृत योजना के अमल में बेहतर परफार्मेंस पर अवार्ड भी मिला है। यह जानकारी नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने दी। स्वच्छ भारत मिशन, जो प्रधानमंत्री की फ्लेगशिप स्कीम में शामिल है, में पूर्ण व्यक्तिगत शौचालयों की स्वीकृति में प्रदेश देश में पहला है। पूर्ण कार्यों की जानकारी फोटो सहित अपलोड करने में देश में तीसरे नम्बर पर है। इस मिशन में प्रदेश को वर्ष 2019 तक 7 लाख 31 हजार शौचालय बनाना है। इसमें से 4 लाख 60 हजार शौचालय की स्वीकृति प्राप्त हो गई है। इसमें से लगभग ढाई लाख बन चुके हैं। लक्ष्य है कि दिसम्बर 2016 तक 68 नगरीय निकाय को ओ.डी.एफ. मुक्त घोषित कर दिया जाए। ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के मामले में 378 नगरीय निकायों में घरों से कचरा इकटठा करने से वैज्ञानिक तरीके से उसके निपटान के 26 समूह की कार्य योजना तैयार कर ली गई है। इसमें 25 नगरीय निकाय के तीन समूह में पी.पी.पी. के आधार पर काम भी शुरू हो चुका है। इसमें एक समूह में बिजली उत्पादन और 2 समूह में जैविक खाद का उत्पादन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 23 समूह में मार्च 2016-17 में कार्य शुरू होगा। इसमें 4 समूह में बिजली उत्पादन और 19 समूह में जैविक खाद का उत्पादन किया जायेगा। अमृत योजना अमृत योजना में एक लाख से अधिक आबादी के 34 शहर का अधोसंरचना विकास किया जायेगा। इसके लिए भारत सरकार ने नवम्बर 2015 में 8,279 करोड़ से अधिक की समग्र योजना स्वीकृत की है। योजना में मध्यप्रदेश कार्य स्वीकृति और संपादन में पूरे देश में पहले स्थान पर है। योजना के प्रथम चरण में 2243 करोड़ 30 लाख रुपये लागत की 31 योजना स्वीकृत हैं। इसमें 20 योजना, जिनकी लागत 1435 करोड़ 82 लाख है, में काम शुरू हो चुका है। ग्यारह योजना में निविदा प्रक्रिया शुरू हो चुकी है जिनकी लागत 1425 करोड़ 15 लाख है। इस योजना में 2 घटक है पहला घटक जल आवर्धन का है। इसमें 818 करोड़ की 17 योजना है जिसमें से 560 करोड़ 24 लाख की 14 योजना में काम शुरू हो चुका है। दूसरा घटक सीवेज प्रबंधन का है। इसमें 1421 करोड़ 88 लाख की 13 योजना शामिल है। छै योजना, जो 875 करोड़ 58 हजार की है, पर काम शुरू हो चुका है। योजना में मध्यप्रदेश को भारत सरकार ने 33 करोड़ 45 लाख का प्रोत्साहन अनुदान अवार्ड दिया है। जिसे 30 सितम्बर को नई दिल्ली में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री वेंकैया नायडू से ग्रहण किया। प्रधानमंत्री आवास योजना वर्ष 2015 में सबको आवास उपलब्ध करवाने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की गई। इसमें प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में 5 लाख आवास बनाए जाने का लक्ष्य है। भारत सरकार ने प्रथम चरण में 60 हजार आवास बनाने की योजना स्वीकृत कर दी है। इसके साथ ही वर्ष 2022 तक 53 शहर में 8 लाख 80 हजार आवास निर्माण की कार्य-योजना को और स्वीकृत किया गया है। योजना स्वीकृति में मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर रहा है। योजना में 22 शहर की 24 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। निविदा प्रक्रिया में 17 शहर की 8 परियोजना हैं। योजना में मध्यप्रदेश देश में केन्द्रांश प्राप्त करने वाला पाँचवां राज्य है। स्मार्ट सिटी जून 2015 में स्मार्ट सिटी योजना भारत सरकार ने लागू की। इस योजना के प्रथम चरण में प्रदेश के 3 शहर भोपाल, इंदौर और जबलपुर का चयन किया गया, जो देश में सर्वाधिक थे। इसी तरह बाद में दो और शहर ग्वालियर और उज्जैन को भी इसमें शामिल किया गया। सात शहर के प्रस्ताव में से पाँच को भारत सरकार से स्वीकृति मिली है। शेष सागर और सतना को स्वीकृति प्राप्त होने की प्रक्रिया जारी है। प्रथम चरण में शामिल स्मार्ट शहर में योजना के क्रियान्वयन के लिए एस.पी.व्ही. गठित की जा चुकी है। भोपाल शहर के लिए 3437 करोड़ की परियोजना बनाई गई। इसमें 10 हजार462 करोड़ की 11 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। इंदौर शहर के लिए 5099 करोड़ की परियोजना बनाई गई, जिसमें से 115 करोड़ की 10 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। जबलपुर शहर के लिए 3,998 करोड़ की परियोजना में से 3 परियोजना, जिनकी लागत 13 करोड़ 20 लाख है, पर काम शुरू हो चुका है। दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन शहरी क्षेत्रों में गरीबी समाप्त करने के लिए आजीविका के लिए कौशल प्रशिक्षण देने के लिए प्रदेश के 55 शहर में यह मिशन शुरू किया गया है। इसमें प्रशिक्षण देने के बाद स्व-रोजगार स्थापित करने में सरकार मदद करेगी। योजना में पिछले वित्त वर्ष में कौशल प्रशिक्षण के जरिये 40 हजार के लक्ष्य से ज्यादा 42 हजार 597 हितग्राही प्रशिक्षित किये गये। इस वर्ष 40 हजार के लक्ष्य विरुद्ध अभी तक 36 हजार 444 हितग्राही प्रशिक्षित हो चुके हैं। मध्यप्रदेश इस मामले में देश में पहले स्थान पर है। मिशन में पिछले वित्त वर्ष में 13 हजार के लक्ष्य के विरूद्ध 14 हजार 327 हितग्राही लाभान्वित हुए है। इसके अलावा प्रदेश का भारत सरकार की अन्य योजनाओं में भी बेहतर परफार्मेंस रहा है। सामाजिक एकजुटता एवं संस्थागत विकास में पिछले वित्त वर्ष में 3050 के लक्ष्य के विरुद्ध 3870 हितग्राही लाभान्वित हुए हैं। इस वर्ष अब तक 981 हितग्राही लाभ पा चुके हैं। योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है। शहरी आवासहीनों की आश्रय योजना के क्रियान्वयन में भी प्रदेश देश में पहले स्थान पर है। शहरी पथ विक्रेताओं की सहायता योजना में प्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है। योजना में अब तक 68 हजार 777 के लक्ष्य के विरुद्ध 63 हजार 683 हितग्राही व्यवस्थापित किए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल में देश में आम नागरिकों के व्यापक हित से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश में बेहतर काम हुए हैं। कई योजनाओं में प्रदेश किसी में अव्वल तो किसी में प्रथम दस में है। हाल ही में अमृत योजना के अमल में बेहतर परफार्मेंस पर अवार्ड भी मिला है। यह जानकारी नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने दी। स्वच्छ भारत मिशन, जो प्रधानमंत्री की फ्लेगशिप स्कीम में शामिल है, में पूर्ण व्यक्तिगत शौचालयों की स्वीकृति में प्रदेश देश में पहला है। पूर्ण कार्यों की जानकारी फोटो सहित अपलोड करने में देश में तीसरे नम्बर पर है। इस मिशन में प्रदेश को वर्ष 2019 तक 7 लाख 31 हजार शौचालय बनाना है। इसमें से 4 लाख 60 हजार शौचालय की स्वीकृति प्राप्त हो गई है। इसमें से लगभग ढाई लाख बन चुके हैं। लक्ष्य है कि दिसम्बर 2016 तक 68 नगरीय निकाय को ओ.डी.एफ. मुक्त घोषित कर दिया जाए। ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के मामले में 378 नगरीय निकायों में घरों से कचरा इकटठा करने से वैज्ञानिक तरीके से उसके निपटान के 26 समूह की कार्य योजना तैयार कर ली गई है। इसमें 25 नगरीय निकाय के तीन समूह में पी.पी.पी. के आधार पर काम भी शुरू हो चुका है। इसमें एक समूह में बिजली उत्पादन और 2 समूह में जैविक खाद का उत्पादन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 23 समूह में मार्च 2016-17 में कार्य शुरू होगा। इसमें 4 समूह में बिजली उत्पादन और 19 समूह में जैविक खाद का उत्पादन किया जायेगा। अमृत योजना अमृत योजना में एक लाख से अधिक आबादी के 34 शहर का अधोसंरचना विकास किया जायेगा। इसके लिए भारत सरकार ने नवम्बर 2015 में 8,279 करोड़ से अधिक की समग्र योजना स्वीकृत की है। योजना में मध्यप्रदेश कार्य स्वीकृति और संपादन में पूरे देश में पहले स्थान पर है। योजना के प्रथम चरण में 2243 करोड़ 30 लाख रुपये लागत की 31 योजना स्वीकृत हैं। इसमें 20 योजना, जिनकी लागत 1435 करोड़ 82 लाख है, में काम शुरू हो चुका है। ग्यारह योजना में निविदा प्रक्रिया शुरू हो चुकी है जिनकी लागत 1425 करोड़ 15 लाख है। इस योजना में 2 घटक है पहला घटक जल आवर्धन का है। इसमें 818 करोड़ की 17 योजना है जिसमें से 560 करोड़ 24 लाख की 14 योजना में काम शुरू हो चुका है। दूसरा घटक सीवेज प्रबंधन का है। इसमें 1421 करोड़ 88 लाख की 13 योजना शामिल है। छै योजना, जो 875 करोड़ 58 हजार की है, पर काम शुरू हो चुका है। योजना में मध्यप्रदेश को भारत सरकार ने 33 करोड़ 45 लाख का प्रोत्साहन अनुदान अवार्ड दिया है। जिसे 30 सितम्बर को नई दिल्ली में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री वेंकैया नायडू से ग्रहण किया। प्रधानमंत्री आवास योजना वर्ष 2015 में सबको आवास उपलब्ध करवाने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की गई। इसमें प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में 5 लाख आवास बनाए जाने का लक्ष्य है। भारत सरकार ने प्रथम चरण में 60 हजार आवास बनाने की योजना स्वीकृत कर दी है। इसके साथ ही वर्ष 2022 तक 53 शहर में 8 लाख 80 हजार आवास निर्माण की कार्य-योजना को और स्वीकृत किया गया है। योजना स्वीकृति में मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर रहा है। योजना में 22 शहर की 24 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। निविदा प्रक्रिया में 17 शहर की 8 परियोजना हैं। योजना में मध्यप्रदेश देश में केन्द्रांश प्राप्त करने वाला पाँचवां राज्य है। स्मार्ट सिटी जून 2015 में स्मार्ट सिटी योजना भारत सरकार ने लागू की। इस योजना के प्रथम चरण में प्रदेश के 3 शहर भोपाल, इंदौर और जबलपुर का चयन किया गया, जो देश में सर्वाधिक थे। इसी तरह बाद में दो और शहर ग्वालियर और उज्जैन को भी इसमें शामिल किया गया। सात शहर के प्रस्ताव में से पाँच को भारत सरकार से स्वीकृति मिली है। शेष सागर और सतना को स्वीकृति प्राप्त होने की प्रक्रिया जारी है। प्रथम चरण में शामिल स्मार्ट शहर में योजना के क्रियान्वयन के लिए एस.पी.व्ही. गठित की जा चुकी है। भोपाल शहर के लिए 3437 करोड़ की परियोजना बनाई गई। इसमें 10 हजार462 करोड़ की 11 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। इंदौर शहर के लिए 5099 करोड़ की परियोजना बनाई गई, जिसमें से 115 करोड़ की 10 परियोजना पर काम शुरू हो चुका है। जबलपुर शहर के लिए 3,998 करोड़ की परियोजना में से 3 परियोजना, जिनकी लागत 13 करोड़ 20 लाख है, पर काम शुरू हो चुका है। दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन शहरी क्षेत्रों में गरीबी समाप्त करने के लिए आजीविका के लिए कौशल प्रशिक्षण देने के लिए प्रदेश के 55 शहर में यह मिशन शुरू किया गया है। इसमें प्रशिक्षण देने के बाद स्व-रोजगार स्थापित करने में सरकार मदद करेगी। योजना में पिछले वित्त वर्ष में कौशल प्रशिक्षण के जरिये 40 हजार के लक्ष्य से ज्यादा 42 हजार 597 हितग्राही प्रशिक्षित किये गये। इस वर्ष 40 हजार के लक्ष्य विरुद्ध अभी तक 36 हजार 444 हितग्राही प्रशिक्षित हो चुके हैं। मध्यप्रदेश इस मामले में देश में पहले स्थान पर है। मिशन में पिछले वित्त वर्ष में 13 हजार के लक्ष्य के विरूद्ध 14 हजार 327 हितग्राही लाभान्वित हुए है। इसके अलावा प्रदेश का भारत सरकार की अन्य योजनाओं में भी बेहतर परफार्मेंस रहा है। सामाजिक एकजुटता एवं संस्थागत विकास में पिछले वित्त वर्ष में 3050 के लक्ष्य के विरुद्ध 3870 हितग्राही लाभान्वित हुए हैं। इस वर्ष अब तक 981 हितग्राही लाभ पा चुके हैं। योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है। शहरी आवासहीनों की आश्रय योजना के क्रियान्वयन में भी प्रदेश देश में पहले स्थान पर है। शहरी पथ विक्रेताओं की सहायता योजना में प्रदेश देश में तीसरे स्थान पर है। योजना में अब तक 68 हजार 777 के लक्ष्य के विरुद्ध 63 हजार 683 हितग्राही व्यवस्थापित किए गए हैं।  

MadhyaBharat

 MadhyaBharat  13 October 2016

Video
Advertisement
x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2024 MadhyaBharat News.